Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Oct 2023 · 1 min read

मैं आग नही फिर भी चिंगारी का आगाज हूं,

मैं आग नही फिर भी चिंगारी का आगाज हूं,
मैं पानी नही फिर भी बहता हुआ सैलाब हूं,
मैं हवा नहीं फिर भी उठता हुआ तूफान हूं,
मैं उजाला नहीं फिर भी जलती मशाल हूं,
मैं भगवान नही फिर भी भगवान से कम नही हूं,
मैं जिंदा नही फिर भी विचारो में जिंदा हूं,
मैं अमर नही फिर भी विचारो से अमर हूं,
मैं बिरसा हूं, क्रांति के सैलाब में दहाड़ती आवाज हूं।।
जय बिरसा, जय जोहार जय आदिवासी

:राकेश देवडे़ बिरसावादी

208 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सारे ही चेहरे कातिल है।
सारे ही चेहरे कातिल है।
Taj Mohammad
Mohabbat
Mohabbat
AMBAR KUMAR
धमकियां शुरू हो गई
धमकियां शुरू हो गई
Basant Bhagawan Roy
कौन कहता है कि लहजा कुछ नहीं होता...
कौन कहता है कि लहजा कुछ नहीं होता...
कवि दीपक बवेजा
उनके जख्म
उनके जख्म
'अशांत' शेखर
" एकता "
DrLakshman Jha Parimal
फितरत
फितरत
Sukoon
बे-असर
बे-असर
Sameer Kaul Sagar
ओ परबत  के मूल निवासी
ओ परबत के मूल निवासी
AJAY AMITABH SUMAN
ममतामयी मां
ममतामयी मां
Santosh kumar Miri
मुक्तक
मुक्तक
डॉक्टर रागिनी
हार नहीं होती
हार नहीं होती
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
चार पैसे भी नही....
चार पैसे भी नही....
Vijay kumar Pandey
जख्म भी रूठ गया है अबतो
जख्म भी रूठ गया है अबतो
सिद्धार्थ गोरखपुरी
*सीता-स्वयंवर : कुछ दोहे*
*सीता-स्वयंवर : कुछ दोहे*
Ravi Prakash
-- मंदिर में ड्रेस कोड़ --
-- मंदिर में ड्रेस कोड़ --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
सूनी बगिया हुई विरान ?
सूनी बगिया हुई विरान ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
आश्रय
आश्रय
goutam shaw
आज़ाद पैदा हुआ आज़ाद था और आज भी आजाद है।मौत के घाट उतार कर
आज़ाद पैदा हुआ आज़ाद था और आज भी आजाद है।मौत के घाट उतार कर
Rj Anand Prajapati
नेह ( प्रेम, प्रीति, ).
नेह ( प्रेम, प्रीति, ).
Sonam Puneet Dubey
सौगंध
सौगंध
Shriyansh Gupta
■ सवालिया शेर।।
■ सवालिया शेर।।
*प्रणय प्रभात*
याराना
याराना
Skanda Joshi
कृष्ण प्रेम की परिभाषा हैं, प्रेम जगत का सार कृष्ण हैं।
कृष्ण प्रेम की परिभाषा हैं, प्रेम जगत का सार कृष्ण हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
गीत।। रूमाल
गीत।। रूमाल
Shiva Awasthi
"स्वभाव"
Dr. Kishan tandon kranti
कुछ लोग ऐसे भी मिले जिंदगी में
कुछ लोग ऐसे भी मिले जिंदगी में
शेखर सिंह
तू ही मेरी लाड़ली
तू ही मेरी लाड़ली
gurudeenverma198
ईश्वर
ईश्वर
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
2714.*पूर्णिका*
2714.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...