Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jul 2023 · 1 min read

मेहनत और अभ्यास

मेहनत और अभ्यास से
सधें जीवन के हर लक्ष्य
एकाग्रता ही बनाती है हर
इंसान को सदा कार्य में दक्ष
अपने लक्ष्य को याद कर जो
इंसान जुटे रहते हैं लगातार
वो ही जीवन में पाते हैं सदैव
सफलता का अनुपम उपहार
परिश्रम, एकाग्रता,अभ्यास में
होता जिनको सहज विश्वास
सफलता की कुंजी सदा रहती
उन लोगों के ही आसपास

Language: Hindi
259 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*झूठा  बिकता यूँ अख़बार है*
*झूठा बिकता यूँ अख़बार है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
बातें कल भी होती थी, बातें आज भी होती हैं।
बातें कल भी होती थी, बातें आज भी होती हैं।
ओसमणी साहू 'ओश'
"समझदार"
Dr. Kishan tandon kranti
पत्तों से जाकर कोई पूंछे दर्द बिछड़ने का।
पत्तों से जाकर कोई पूंछे दर्द बिछड़ने का।
Taj Mohammad
मुक्तक-विन्यास में रमेशराज की तेवरी
मुक्तक-विन्यास में रमेशराज की तेवरी
कवि रमेशराज
कम्बखत वक्त
कम्बखत वक्त
Aman Sinha
#justareminderdrarunkumarshastri
#justareminderdrarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
देखकर प्यार से मुस्कुराते रहो।
देखकर प्यार से मुस्कुराते रहो।
surenderpal vaidya
तुम्हारा दिल ही तुम्हे आईना दिखा देगा
तुम्हारा दिल ही तुम्हे आईना दिखा देगा
VINOD CHAUHAN
#Om
#Om
Ankita Patel
सड़क जो हाइवे बन गया
सड़क जो हाइवे बन गया
आर एस आघात
अधूरी ख्वाहिशें
अधूरी ख्वाहिशें
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
कुछ नही हो...
कुछ नही हो...
Sapna K S
यादगार बनाएं
यादगार बनाएं
Dr fauzia Naseem shad
*** अहसास...!!! ***
*** अहसास...!!! ***
VEDANTA PATEL
💐प्रेम कौतुक-261💐
💐प्रेम कौतुक-261💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ग़ज़ल/नज़्म - दस्तूर-ए-दुनिया तो अब ये आम हो गया
ग़ज़ल/नज़्म - दस्तूर-ए-दुनिया तो अब ये आम हो गया
अनिल कुमार
■ अभी क्या बिगड़ा है जी! बेटी बाप के घर ही है।।😊
■ अभी क्या बिगड़ा है जी! बेटी बाप के घर ही है।।😊
*Author प्रणय प्रभात*
शब्द लौटकर आते हैं,,,,
शब्द लौटकर आते हैं,,,,
Shweta Soni
बोलो_क्या_तुम_बोल_रहे_हो?
बोलो_क्या_तुम_बोल_रहे_हो?
संजीव शुक्ल 'सचिन'
खेल करे पैसा मिले,
खेल करे पैसा मिले,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
2451.पूर्णिका
2451.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
स्वर्गीय लक्ष्मी नारायण पांडेय निर्झर की पुस्तक 'सुरसरि गंगे
स्वर्गीय लक्ष्मी नारायण पांडेय निर्झर की पुस्तक 'सुरसरि गंगे
Ravi Prakash
अरुणोदय
अरुणोदय
Manju Singh
वो रास्ता तलाश रहा हूं
वो रास्ता तलाश रहा हूं
Vikram soni
*बताओं जरा (मुक्तक)*
*बताओं जरा (मुक्तक)*
Rituraj shivem verma
कविता
कविता
Rambali Mishra
अलार्म
अलार्म
Dr Parveen Thakur
क्या मिटायेंगे भला हमको वो मिटाने वाले .
क्या मिटायेंगे भला हमको वो मिटाने वाले .
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
छल
छल
Aman Kumar Holy
Loading...