Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Aug 2023 · 2 min read

मेहनती मोहन

// मेहनती मोहन //

शहर के पास ही एक गाँव था- जामगाँव। इसी गाँव में मोहन नाम का एक गरीब लेकिन मेहनती और ईमानदार लड़का अपनी दादी माँ के साथ रहता था।
दादी माँ बताती हैं कि जब वह मात्र डेढ़ वर्ष था तभी उसके माता-पिता की एक सड़क दुर्घटना में मौत हो गई। उसके माता-पिता मोहन को खूब पढ़ा-लिखाकर एक बड़ा आदमी बनाना चाहते थे, इसलिए उनकी मौत के बाद दादी माँ ने सिलाई-कढ़ाई तथा दूसरों के घर झाडू-पोंछाकर मोहन को पढ़ाना शुरू किया।
मोहन को बड़ा करने तथा पढ़ाने के लिए दादी माँ ने रात-दिन एक कर दिया ताकि उसकी परवरिश में कोई कमी न रह जाए। उसकी मेहनत बेकार नहीं गई। मोहन पढ़ने-लिखने में बहुत तेज निकला। वह हर कक्षा में प्रथम श्रेणी से पास होता गया। राष्ट्रीय प्रतिभा खोज परीक्षा में चयनित होने तथा हाईस्कूल की बोर्ड परीक्षा में पूरे राज्य में प्रथम आने से उसे मेधावी छात्रों को मिलने वाली छात्रवृति और प्रोत्साहन राशि भी मिलने लगी।
मोहन जब थोड़ा-सा बड़ा हुआ तो उसने दादी माँ का दूसरों के घर काम करना बंद करवा दिया। बोला- ‘‘दादी माँ, अब मैं काम करूँगा और आप आराम करेंगी। आपको दूसरों के घर काम करते देख, मुझे अच्छा नहीं लगता।’’
दादी माँ बोली- ‘‘बेटा, अभी तुम बहुत छोटे हो। अभी तो तुम्हें खूब पढ़ना है, बड़ा आदमी बनकर अपने माता-पिता के सपनों को साकार करना है। जब तुम बड़े आदमी बन जाओगे तब मैं ये सारे काम बंद कर खूब आराम करूँगी।’’
मोहन भी कम जिद्दी नहीं था। वह अड़ गया। बोला- ‘‘खाक छोटा हूँ। ग्यारहवीं कक्षा में पढ़ता हूँ। अब मैं छोटे-छोटे बच्चों को ट्यूशन पढ़ाया करूँगा और खुद भी पढूँगा, पर आपको दूसरों के घर काम करने नहीं दूँगा।’’
दादी माँ की आँखों में आँसू आ गए। उसे अपने बेटे (मोहन के पिता) की याद आ गई। वह भी ऐसा ही जिद्दी था। जो कहता वह करके ही रहता। मोहन की जिद के आगे दादी माँ को झुकना ही पड़ा।
अब मोहन छोटे-छोटे बच्चों को ट्यूशन पढ़ाने लगा। छात्रवृति तथा ट्यूशन से मिलने वाले पैसों से दादी-पोता दोनों का खर्चा निकल जाता और उसकी पढ़ाई भी प्रभावित नहीं होती थी।
डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्त्तीसगढ़

116 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
श्रेय एवं प्रेय मार्ग
श्रेय एवं प्रेय मार्ग
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
किसी महिला का बार बार आपको देखकर मुस्कुराने के तीन कारण हो स
किसी महिला का बार बार आपको देखकर मुस्कुराने के तीन कारण हो स
Rj Anand Prajapati
बहुमत
बहुमत
मनोज कर्ण
" ऐसा रंग भरो पिचकारी में "
Chunnu Lal Gupta
అమ్మా తల్లి బతుకమ్మ
అమ్మా తల్లి బతుకమ్మ
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
"कब तक छुपाहूँ"
Dr. Kishan tandon kranti
सब वर्ताव पर निर्भर है
सब वर्ताव पर निर्भर है
Mahender Singh
रिशते ना खास होते हैं
रिशते ना खास होते हैं
Dhriti Mishra
■ सीधी बात...
■ सीधी बात...
*Author प्रणय प्रभात*
रखो शीशे की तरह दिल साफ़….ताकी
रखो शीशे की तरह दिल साफ़….ताकी
shabina. Naaz
भाव और ऊर्जा
भाव और ऊर्जा
कवि रमेशराज
* साथ जब बढ़ना हमें है *
* साथ जब बढ़ना हमें है *
surenderpal vaidya
कन्या पूजन
कन्या पूजन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
तितली
तितली
Manu Vashistha
हमारी चाहत तो चाँद पे जाने की थी!!
हमारी चाहत तो चाँद पे जाने की थी!!
SUNIL kumar
मौत के लिए किसी खंज़र की जरूरत नहीं,
मौत के लिए किसी खंज़र की जरूरत नहीं,
लक्ष्मी सिंह
नौजवानी फूल पर हर छा रही है (मुक्तक)
नौजवानी फूल पर हर छा रही है (मुक्तक)
Ravi Prakash
छोटी कहानी- 'सोनम गुप्ता बेवफ़ा है' -प्रतिभा सुमन शर्मा
छोटी कहानी- 'सोनम गुप्ता बेवफ़ा है' -प्रतिभा सुमन शर्मा
Pratibhasharma
दोहा त्रयी . . . .
दोहा त्रयी . . . .
sushil sarna
इंतिज़ार
इंतिज़ार
Shyam Sundar Subramanian
काल भले ही खा गया, तुमको पुष्पा-श्याम
काल भले ही खा गया, तुमको पुष्पा-श्याम
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मुस्कुराते रहे
मुस्कुराते रहे
Dr. Sunita Singh
आज कृत्रिम रिश्तों पर टिका, ये संसार है ।
आज कृत्रिम रिश्तों पर टिका, ये संसार है ।
Manisha Manjari
23/154.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/154.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आंख बंद करके जिसको देखना आ गया,
आंख बंद करके जिसको देखना आ गया,
Ashwini Jha
वो लड़का
वो लड़का
bhandari lokesh
दोहा-
दोहा-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
दिखावे के दान का
दिखावे के दान का
Dr fauzia Naseem shad
🥰 होली पर कुछ लेख 🥰
🥰 होली पर कुछ लेख 🥰
Swati
सैदखन यी मन उदास रहैय...
सैदखन यी मन उदास रहैय...
Ram Babu Mandal
Loading...