Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 May 2024 · 1 min read

मेरे स्वप्न में आकर खिलखिलाया न करो

मेरे स्वप्न में आकर खिलखिलाया न करो
तुम्हारे दांँतों की चमक से
मेरी आँखें खुल जाती हैं !
-आकाश अगम

30 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*
*"ममता"* पार्ट-2
Radhakishan R. Mundhra
लंगोटिया यारी
लंगोटिया यारी
Sandeep Pande
2545.पूर्णिका
2545.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
🙅आम चुनाव🙅
🙅आम चुनाव🙅
*प्रणय प्रभात*
माँ तो आखिर माँ है
माँ तो आखिर माँ है
Dr. Kishan tandon kranti
-शेखर सिंह
-शेखर सिंह
शेखर सिंह
दिल ने गुस्ताखियाॅ॑ बहुत की हैं जाने-अंजाने
दिल ने गुस्ताखियाॅ॑ बहुत की हैं जाने-अंजाने
VINOD CHAUHAN
*सवर्ण (उच्च जाति)और शुद्र नीच (जाति)*
*सवर्ण (उच्च जाति)और शुद्र नीच (जाति)*
Rituraj shivem verma
ये ढलती शाम है जो, रुमानी और होगी।
ये ढलती शाम है जो, रुमानी और होगी।
सत्य कुमार प्रेमी
विद्यादायिनी माँ
विद्यादायिनी माँ
Mamta Rani
जय मां शारदे
जय मां शारदे
Harminder Kaur
मैं
मैं
Vivek saswat Shukla
पृथ्वी की दरारें
पृथ्वी की दरारें
Santosh Shrivastava
पके फलों के रूपों को देखें
पके फलों के रूपों को देखें
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
आओ लौट चले
आओ लौट चले
Dr. Mahesh Kumawat
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
*मन राह निहारे हारा*
*मन राह निहारे हारा*
Poonam Matia
जिगर धरती का रखना
जिगर धरती का रखना
Kshma Urmila
🥀✍अज्ञानी की 🥀
🥀✍अज्ञानी की 🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
*मेले में ज्यों खो गया, ऐसी जग में भीड़( कुंडलिया )*
*मेले में ज्यों खो गया, ऐसी जग में भीड़( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
ज़िंदगी ऐसी कि हर सांस में
ज़िंदगी ऐसी कि हर सांस में
Dr fauzia Naseem shad
जो तू नहीं है
जो तू नहीं है
हिमांशु Kulshrestha
हम अपनी आवारगी से डरते हैं
हम अपनी आवारगी से डरते हैं
Surinder blackpen
* खुशियां मनाएं *
* खुशियां मनाएं *
surenderpal vaidya
गोधरा
गोधरा
Prakash Chandra
Let’s use the barter system.
Let’s use the barter system.
पूर्वार्थ
*किसान*
*किसान*
Dr. Priya Gupta
लार्जर देन लाइफ होने लगे हैं हिंदी फिल्मों के खलनायक -आलेख
लार्जर देन लाइफ होने लगे हैं हिंदी फिल्मों के खलनायक -आलेख
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
मोहब्बत का वो तोहफ़ा मैंने संभाल कर रखा है
मोहब्बत का वो तोहफ़ा मैंने संभाल कर रखा है
Rekha khichi
होली आ रही है रंगों से नहीं
होली आ रही है रंगों से नहीं
Ranjeet kumar patre
Loading...