Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Sep 2016 · 1 min read

मेरे साथ चलता नही

मंज़िल पर मिलने वाले बहुत है यहाँ
क्यो कोई रास्तो पर नही मिलता
धूप भी इतनी तेज है तेरे शहर मे,
मेरा साया भी मेरे साथ चलता नही ||

© शिवदत्त श्रोत्रिय

Language: Hindi
Tag: शेर
309 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from शिवदत्त श्रोत्रिय
View all
You may also like:
हरकत में आयी धरा...
हरकत में आयी धरा...
डॉ.सीमा अग्रवाल
"सच कहूं _ मानोगे __ मुझे प्यार है उनसे,
Rajesh vyas
बुद्ध फिर मुस्कुराए / मुसाफ़िर बैठा
बुद्ध फिर मुस्कुराए / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
"इश्क़ वर्दी से"
Lohit Tamta
🙏श्याम 🙏
🙏श्याम 🙏
Vandna thakur
मुझे भी जीने दो (भ्रूण हत्या की कविता)
मुझे भी जीने दो (भ्रूण हत्या की कविता)
Dr. Kishan Karigar
💐💐उनके दिल की दहलीज़ को छुआ मैंने💐💐
💐💐उनके दिल की दहलीज़ को छुआ मैंने💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
श्रेष्ठों को ना
श्रेष्ठों को ना
DrLakshman Jha Parimal
चलना, लड़खड़ाना, गिरना, सम्हलना सब सफर के आयाम है।
चलना, लड़खड़ाना, गिरना, सम्हलना सब सफर के आयाम है।
Sanjay ' शून्य'
अधूरे सवाल
अधूरे सवाल
Shyam Sundar Subramanian
* शुभ परिवर्तन *
* शुभ परिवर्तन *
surenderpal vaidya
Kitna hasin ittefak tha ,
Kitna hasin ittefak tha ,
Sakshi Tripathi
छल
छल
Aman Kumar Holy
🙅अजब-ग़ज़ब🙅
🙅अजब-ग़ज़ब🙅
*Author प्रणय प्रभात*
यह दुनिया भी बदल डालें
यह दुनिया भी बदल डालें
Dr fauzia Naseem shad
देश खोखला
देश खोखला
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
अतुल वरदान है हिंदी, सकल सम्मान है हिंदी।
अतुल वरदान है हिंदी, सकल सम्मान है हिंदी।
Neelam Sharma
बिना पंख फैलाये पंछी को दाना नहीं मिलता
बिना पंख फैलाये पंछी को दाना नहीं मिलता
Anil Mishra Prahari
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"लक्ष्य"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
होली की हार्दिक शुभकामनाएं🎊
होली की हार्दिक शुभकामनाएं🎊
Aruna Dogra Sharma
बेरोजगार लड़के
बेरोजगार लड़के
पूर्वार्थ
ग़ज़ल/नज़्म : पूरा नहीं लिख रहा कुछ कसर छोड़ रहा हूँ
ग़ज़ल/नज़्म : पूरा नहीं लिख रहा कुछ कसर छोड़ रहा हूँ
अनिल कुमार
पुण्य स्मरण: 18 जून2008 को मुरादाबाद में आयोजित पारिवारिक सम
पुण्य स्मरण: 18 जून2008 को मुरादाबाद में आयोजित पारिवारिक सम
Ravi Prakash
बेटियां ?
बेटियां ?
Dr.Pratibha Prakash
एक डरा हुआ शिक्षक एक रीढ़विहीन विद्यार्थी तैयार करता है, जो
एक डरा हुआ शिक्षक एक रीढ़विहीन विद्यार्थी तैयार करता है, जो
Ranjeet kumar patre
कुछ यादें जिन्हें हम भूला नहीं सकते,
कुछ यादें जिन्हें हम भूला नहीं सकते,
लक्ष्मी सिंह
प्रेम ही जीवन है।
प्रेम ही जीवन है।
Acharya Rama Nand Mandal
भीम के दीवाने हम,यह करके बतायेंगे
भीम के दीवाने हम,यह करके बतायेंगे
gurudeenverma198
चमत्कार
चमत्कार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...