Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Feb 2023 · 1 min read

मेरे सपने बेहिसाब है।

मेरे सपने बेहिसाब है।
आकर जरा हिसाब कर दे ।।

ये तेरा रूठना भी लाजवाब है।
चल इसे भी मेरे नाम कर दे ।।

2 Likes · 189 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"We are a generation where alcohol is turned into cold drink
पूर्वार्थ
दूसरों का दर्द महसूस करने वाला इंसान ही
दूसरों का दर्द महसूस करने वाला इंसान ही
shabina. Naaz
इतना बवाल मचाएं हो के ये मेरा हिंदुस्थान है
इतना बवाल मचाएं हो के ये मेरा हिंदुस्थान है
'अशांत' शेखर
शोर जब-जब उठा इस हृदय में प्रिये !
शोर जब-जब उठा इस हृदय में प्रिये !
Arvind trivedi
सोचो अच्छा आज हो, कल का भुला विचार।
सोचो अच्छा आज हो, कल का भुला विचार।
आर.एस. 'प्रीतम'
Mannato ka silsila , abhi jari hai, ruka nahi
Mannato ka silsila , abhi jari hai, ruka nahi
Sakshi Tripathi
दोस्त के शादी
दोस्त के शादी
Shekhar Chandra Mitra
चैन क्यों हो क़रार आने तक
चैन क्यों हो क़रार आने तक
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आया पर्व पुनीत....
आया पर्व पुनीत....
डॉ.सीमा अग्रवाल
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
हम वर्षों तक निःशब्द ,संवेदनरहित और अकर्मण्यता के चादर को ओढ़
हम वर्षों तक निःशब्द ,संवेदनरहित और अकर्मण्यता के चादर को ओढ़
DrLakshman Jha Parimal
काला न्याय
काला न्याय
Anil chobisa
दिल में कुण्ठित होती नारी
दिल में कुण्ठित होती नारी
Pratibha Pandey
#मायका #
#मायका #
rubichetanshukla 781
उसे तो आता है
उसे तो आता है
Manju sagar
" राज सा पति "
Dr Meenu Poonia
2936.*पूर्णिका*
2936.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चंदा मामा (बाल कविता)
चंदा मामा (बाल कविता)
Dr. Kishan Karigar
गज़रा
गज़रा
Alok Saxena
आंखों की भाषा
आंखों की भाषा
Mukesh Kumar Sonkar
हम हो जायेंगें दूर तूझसे,
हम हो जायेंगें दूर तूझसे,
Sudha Maurya
इस टूटे हुए दिल को जोड़ने की   कोशिश मत करना
इस टूटे हुए दिल को जोड़ने की कोशिश मत करना
Anand.sharma
#ऐसे_समझिए...
#ऐसे_समझिए...
*Author प्रणय प्रभात*
गीत
गीत
जगदीश शर्मा सहज
इत्तिफ़ाक़न मिला नहीं होता।
इत्तिफ़ाक़न मिला नहीं होता।
सत्य कुमार प्रेमी
बचपन,
बचपन, "बूढ़ा " हो गया था,
Nitesh Kumar Srivastava
अर्थी चली कंगाल की
अर्थी चली कंगाल की
SATPAL CHAUHAN
*जब किसी को भी नहीं बहुमत नजर में आ रहा (हिंदी गजल /गीतिका)*
*जब किसी को भी नहीं बहुमत नजर में आ रहा (हिंदी गजल /गीतिका)*
Ravi Prakash
मैं को तुम
मैं को तुम
Dr fauzia Naseem shad
शाश्वत और सनातन
शाश्वत और सनातन
Mahender Singh Manu
Loading...