Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jul 2023 · 1 min read

मेरे लिखने से भला क्या होगा कोई पढ़ने वाला तो चाहिए

मेरे लिखने से भला क्या होगा कोई पढ़ने वाला तो चाहिए
अपनी व्यथा किसको सुनाऊ कोई सुनने वाला तो चाहिए !!@परिमल

256 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हर एक चोट को दिल में संभाल रखा है ।
हर एक चोट को दिल में संभाल रखा है ।
Phool gufran
मारे ऊँची धाक,कहे मैं पंडित ऊँँचा
मारे ऊँची धाक,कहे मैं पंडित ऊँँचा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
* गीत कोई *
* गीत कोई *
surenderpal vaidya
😟 काश ! इन पंक्तियों में आवाज़ होती 😟
😟 काश ! इन पंक्तियों में आवाज़ होती 😟
Shivkumar barman
एकतरफा सारे दुश्मन माफ किये जाऐं
एकतरफा सारे दुश्मन माफ किये जाऐं
Maroof aalam
*ड्राइंग-रूम में सजी सुंदर पुस्तकें (हास्य व्यंग्य)*
*ड्राइंग-रूम में सजी सुंदर पुस्तकें (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
बाबा भीम आये हैं
बाबा भीम आये हैं
gurudeenverma198
💐💐दोहा निवेदन💐💐
💐💐दोहा निवेदन💐💐
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
कोरे पन्ने
कोरे पन्ने
Dr. Seema Varma
प्रेम मे डुबी दो रुहएं
प्रेम मे डुबी दो रुहएं
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
2732. 🌷पूर्णिका🌷
2732. 🌷पूर्णिका🌷
Dr.Khedu Bharti
"" *मन तो मन है* ""
सुनीलानंद महंत
उनकी तस्वीर
उनकी तस्वीर
Madhuyanka Raj
बेदर्द ...................................
बेदर्द ...................................
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
आप और हम जीवन के सच
आप और हम जीवन के सच
Neeraj Agarwal
जीवन के बसंत
जीवन के बसंत
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
नमस्ते! रीति भारत की,
नमस्ते! रीति भारत की,
Neelam Sharma
अन्तिम स्वीकार ....
अन्तिम स्वीकार ....
sushil sarna
*कुछ कहा न जाए*
*कुछ कहा न जाए*
Shashi kala vyas
इक्कीसवीं सदी के सपने... / MUSAFIR BAITHA
इक्कीसवीं सदी के सपने... / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
बिखर गई INDIA की टीम बारी बारी ,
बिखर गई INDIA की टीम बारी बारी ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
"रेल चलय छुक-छुक"
Dr. Kishan tandon kranti
*पानी केरा बुदबुदा*
*पानी केरा बुदबुदा*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सदैव खुश रहने की आदत
सदैव खुश रहने की आदत
Paras Nath Jha
परीक्षा
परीक्षा
इंजी. संजय श्रीवास्तव
हंसी आ रही है मुझे,अब खुद की बेबसी पर
हंसी आ रही है मुझे,अब खुद की बेबसी पर
Pramila sultan
If we’re just getting to know each other…call me…don’t text.
If we’re just getting to know each other…call me…don’t text.
पूर्वार्थ
अक्सर कोई तारा जमी पर टूटकर
अक्सर कोई तारा जमी पर टूटकर
'अशांत' शेखर
" हैं पलाश इठलाये "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
भाईदूज
भाईदूज
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
Loading...