Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Dec 2022 · 1 min read

मेरी सिरजनहार

अजस्र!
तुम सृजन से कोमल,
प्रलय से कठोर,
अतृप्त छोर!
कौन है तुल्य?
तेरा अतुल्य!
‘यस्याः पतरम् नास्ति’
परातीता!
अब कौन ‘अस्ति’?
कौन ‘नास्ति’?
तरु-तृण के तुहीन-कणों से-
तरल!
स्रोतस्वी प्रस्तर!
अतृप्त भरमाया,
छूटी न माया,
ढलती काया!
मैं निमज्ज मध्य धार,
ओ मेरी सूत्रधार!
काल-जीव का द्वंद्व अपार,
ग्राहग्रस्त गज रहा हार!
ओ मेरी सिरजनहार!
जीवित,स्कन्ध पर लाद-
छूटती छायाओं के गंध भार!
घड़-घड़ नाद
श्यामल कुंतल मेघ हार!
जीवन भी क्या?
भय विषाद अवसाद पूर्ण जीवन?
या कि
जैसे तुम –
‘यथा भूतं च भव्यं च न् बीभितो न् रिष्यतः।’

Language: Hindi
221 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मौत से अपनी यारी तो,
मौत से अपनी यारी तो,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
पिता की इज़्ज़त करो, पिता को कभी दुख न देना ,
पिता की इज़्ज़त करो, पिता को कभी दुख न देना ,
Neelofar Khan
*सच्चे  गोंड और शुभचिंतक लोग...*
*सच्चे गोंड और शुभचिंतक लोग...*
नेताम आर सी
जिंदगी बहुत प्यार, करता हूँ मैं तुमको
जिंदगी बहुत प्यार, करता हूँ मैं तुमको
gurudeenverma198
गम्भीर हवाओं का रुख है
गम्भीर हवाओं का रुख है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"आज का दौर"
Dr. Kishan tandon kranti
संसार है मतलब का
संसार है मतलब का
अरशद रसूल बदायूंनी
देह माटी की 'नीलम' श्वासें सभी उधार हैं।
देह माटी की 'नीलम' श्वासें सभी उधार हैं।
Neelam Sharma
2618.पूर्णिका
2618.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
दीपावली की असीम शुभकामनाओं सहित अर्ज किया है ------
दीपावली की असीम शुभकामनाओं सहित अर्ज किया है ------
सिद्धार्थ गोरखपुरी
रख धैर्य, हृदय पाषाण  करो।
रख धैर्य, हृदय पाषाण करो।
अभिनव अदम्य
Success Story -3
Success Story -3
Piyush Goel
अगर ख़ुदा बनते पत्थर को तराश के
अगर ख़ुदा बनते पत्थर को तराश के
Meenakshi Masoom
मेरी मजबूरी को बेवफाई का नाम न दे,
मेरी मजबूरी को बेवफाई का नाम न दे,
Priya princess panwar
दौड़ते ही जा रहे सब हर तरफ
दौड़ते ही जा रहे सब हर तरफ
Dhirendra Singh
हम शिक्षक
हम शिक्षक
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
ढलती उम्र का जिक्र करते हैं
ढलती उम्र का जिक्र करते हैं
Harminder Kaur
मोहब्बत
मोहब्बत
अखिलेश 'अखिल'
दुख में भी मुस्कुराएंगे, विपदा दूर भगाएंगे।
दुख में भी मुस्कुराएंगे, विपदा दूर भगाएंगे।
डॉ.सीमा अग्रवाल
*माँ : 7 दोहे*
*माँ : 7 दोहे*
Ravi Prakash
सद्विचार
सद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दूरियाँ जब बढ़ी, प्यार का भी एहसास बाकी है,
दूरियाँ जब बढ़ी, प्यार का भी एहसास बाकी है,
Rituraj shivem verma
दोहा त्रयी. . . . .
दोहा त्रयी. . . . .
sushil sarna
कसीदे नित नए गढ़ते सियासी लोग देखो तो ।
कसीदे नित नए गढ़ते सियासी लोग देखो तो ।
Arvind trivedi
भारत माता की संतान
भारत माता की संतान
Ravi Yadav
नारी शिक्षा से कांपता धर्म
नारी शिक्षा से कांपता धर्म
Shekhar Chandra Mitra
#लघुकथा
#लघुकथा
*प्रणय प्रभात*
दुख में दुश्मन सहानुभूति जताने अथवा दोस्त होने का स्वांग भी
दुख में दुश्मन सहानुभूति जताने अथवा दोस्त होने का स्वांग भी
Dr MusafiR BaithA
बहुत जरूरी है तो मुझे खुद को ढूंढना
बहुत जरूरी है तो मुझे खुद को ढूंढना
Ranjeet kumar patre
पेड़ पौधे से लगाव
पेड़ पौधे से लगाव
शेखर सिंह
Loading...