Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Dec 2023 · 1 min read

मेरी सरलता की सीमा कोई नहीं जान पाता

मेरी सरलता की सीमा कोई नहीं जान पाता
शायद इसीलिए कुछ लोग अपनी हदें भूल जाते हैं ।
और जब वे खो देते हैं,मेरा अपना पन
तो वे चाह कर भी मुझे अपना बना नहीं पाते हैं।
मैंने हर परिस्थिति को सहजता से स्वीकारा है
कभी नाम तो कभी बदनामी में मेरी ही बातें हैं।
वादी नहीं हूं मैं,किसी कटघरे में खड़ा यारों
रहने दो मुझे ऐसे ही अब,जो मेरी हालतें हैं

1 Like · 152 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दाता
दाता
निकेश कुमार ठाकुर
23/196. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/196. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बरसातें सबसे बुरीं (कुंडलिया )
बरसातें सबसे बुरीं (कुंडलिया )
Ravi Prakash
नौजवानों से अपील
नौजवानों से अपील
Shekhar Chandra Mitra
डोला कड़वा -
डोला कड़वा -
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सर्द ठिठुरन आँगन से,बैठक में पैर जमाने लगी।
सर्द ठिठुरन आँगन से,बैठक में पैर जमाने लगी।
पूर्वार्थ
सभी मां बाप को सादर समर्पित 🌹🙏
सभी मां बाप को सादर समर्पित 🌹🙏
सत्य कुमार प्रेमी
याराना
याराना
Skanda Joshi
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
शिव की बनी रहे आप पर छाया
शिव की बनी रहे आप पर छाया
Shubham Pandey (S P)
शिर्डी के साईं बाबा
शिर्डी के साईं बाबा
Sidhartha Mishra
नीचे तबके का मनुष्य , जागरूक , शिक्षित एवं सबसे महत्वपूर्ण ब
नीचे तबके का मनुष्य , जागरूक , शिक्षित एवं सबसे महत्वपूर्ण ब
Raju Gajbhiye
*चुन मुन पर अत्याचार*
*चुन मुन पर अत्याचार*
Nishant prakhar
नवाब इफ्तिखार अली खान पटौदी
नवाब इफ्तिखार अली खान पटौदी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जीवन संध्या में
जीवन संध्या में
Shweta Soni
■ सोचो, विचारो और फिर निष्कर्ष निकालो। हो सकता है अपनी मूर्ख
■ सोचो, विचारो और फिर निष्कर्ष निकालो। हो सकता है अपनी मूर्ख
*Author प्रणय प्रभात*
'शत्रुता' स्वतः खत्म होने की फितरत रखती है अगर उसे पाला ना ज
'शत्रुता' स्वतः खत्म होने की फितरत रखती है अगर उसे पाला ना ज
satish rathore
तोड़ कर खुद को
तोड़ कर खुद को
Dr fauzia Naseem shad
अष्टम कन्या पूजन करें,
अष्टम कन्या पूजन करें,
Neelam Sharma
नव संवत्सर आया
नव संवत्सर आया
Seema gupta,Alwar
उत्तर प्रदेश प्रतिनिधि
उत्तर प्रदेश प्रतिनिधि
Harminder Kaur
मित्र भेस में आजकल,
मित्र भेस में आजकल,
sushil sarna
हमें लगा  कि वो, गए-गुजरे निकले
हमें लगा कि वो, गए-गुजरे निकले
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
आया सावन झूम के, झूमें तरुवर - पात।
आया सावन झूम के, झूमें तरुवर - पात।
डॉ.सीमा अग्रवाल
"औरत ही रहने दो"
Dr. Kishan tandon kranti
*कांच से अल्फाज़* पर समीक्षा *श्रीधर* जी द्वारा समीक्षा
*कांच से अल्फाज़* पर समीक्षा *श्रीधर* जी द्वारा समीक्षा
Surinder blackpen
आत्मीयकरण-2 +रमेशराज
आत्मीयकरण-2 +रमेशराज
कवि रमेशराज
छोड़ दिया
छोड़ दिया
Srishty Bansal
*आँखों से  ना  दूर होती*
*आँखों से ना दूर होती*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
बदल चुका क्या समय का लय?
बदल चुका क्या समय का लय?
Buddha Prakash
Loading...