Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Mar 2022 · 2 min read

मेरी पंचवटी

मेरी पंचवटी

यह कैसी वासना दृगों में,लखन देख कर घबराये।
बेचारी उर्मिला भवन में,कैसी होगी कुम्हलाये।
सूर्पणखा सुंदरी अनूठी, छल से माया रच लायी।
पर्णकुटी में राम दिखे थे,सहज लालसा छलकायी।

शयन कक्ष में सियाराम थे ,तभी हुआ वह कोलाहल।
सियाराम तब बाहर आये, देखें कैसा कोलाहल।
शूर्पणखा कर रही निवेदन ,अपना लो मुझको स्वामी।
अब एकाकी जीवन तज कर, बन जाओ मेरे स्वामी।

किया व्यंग्य माता सीता ने, अपना लो तुम देवर जी।
संग मुझे भी मिल जाएगा ,जेठानी बन देवर जी।
देख राम की अनुपम छवि को, शूर्पणखा मन हरसायी।
वैवाहिक प्रस्ताव रखा तब, मायावी मन सरसायी।

तत्क्षण लखनलाल ने उससे ,अस्वीकार विवाह किया।
सियाराम की अनुमति पाकर, देवर ने प्रतिकार किया।
विस्मित होकर कहा राम ने ,आजीवन पत्नी व्रत हूँ।
संशय में मत रहना देवी, सीता का मैं ही पति हूँ।

किया राम ने तिरस्कार जब ,मूल स्वरूप में आई।
सूर्पणखा थी वन राक्षसी, रूप भयंकर धर लायी।
क्रोधित हो झपटी सीता पर, अपमानित सा घूँट पिये।
सहम गई थी सीता माता ,त्वरित राम की ओट लिये।

क्रोधित होकर लखन लाल ने ,कर्ण नासिका काट दिया।
अंग भंग हो सूर्पणखा ने, वन को सर पर उठा लिया।
क्रंदन करती बढ़ी दानवी, खर दूषण के निकट गयी।
अपमानित यों किया लखन ने ,अपना संकट विकट कही।

वनवासी यह कौन धनुर्धर, पंचवटी में कब से हैं ।
खर दूषण ने किया गर्जना, अभिमानी अब तड़पे हैं।
राम लखन को ललकारा जब ,खड़ग कृपाण कराल लिये।
खर दूषण ने हुंकारा जो, सैन्य सहित वध राम किये।

राम -लखन के आश्वासन पर ,दंडक वन अब निर्भय है ।
खर दूषण सेना के बध से, दंडक वासी निर्भय हैं।
भाग अकम्पन लंका पहुंँचा,लड़ने को तैयार किया।
अभिमानी रावण भगिनी हित,सेना को तैयार किया।

पूज्य पिता की आज्ञा पाकर,धर्मध्वजा फहराया है।
सीताजी ने उनके हित में ,पत्नी धर्म निभाया है।
पीछे पीछे चले लक्ष्मण, पाकर प्रभु से अनुशासन।
भ्रात धर्म को चले निभाने, धर्म ध्वजा लेकर वनवन।

डा.प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
मुख्य चिकित्सा अधीक्षक
संयुक्त जिला चिकित्सालय
बलरामपुर।271201

Language: Hindi
Tag: गीत
580 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
View all
You may also like:
मैं भविष्य की चिंता में अपना वर्तमान नष्ट नहीं करता क्योंकि
मैं भविष्य की चिंता में अपना वर्तमान नष्ट नहीं करता क्योंकि
Rj Anand Prajapati
सरकारों के बस में होता हालतों को सुधारना तो अब तक की सरकारें
सरकारों के बस में होता हालतों को सुधारना तो अब तक की सरकारें
REVATI RAMAN PANDEY
यह कैसा पागलपन?
यह कैसा पागलपन?
Dr. Kishan tandon kranti
लोग भी हमें अच्छा जानते होंगे,
लोग भी हमें अच्छा जानते होंगे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*माँ*
*माँ*
Naushaba Suriya
पुण्यतिथि विशेष :/ विवेकानंद
पुण्यतिथि विशेष :/ विवेकानंद
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
3419⚘ *पूर्णिका* ⚘
3419⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Tarun Singh Pawar
ये माना तुमने है कैसे तुम्हें मैं भूल जाऊंगा।
ये माना तुमने है कैसे तुम्हें मैं भूल जाऊंगा।
सत्य कुमार प्रेमी
कहने को सभी कहते_
कहने को सभी कहते_
Rajesh vyas
बढ़ता कदम बढ़ाता भारत
बढ़ता कदम बढ़ाता भारत
AMRESH KUMAR VERMA
"किस बात का गुमान"
Ekta chitrangini
शायरी - संदीप ठाकुर
शायरी - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
क्रव्याद
क्रव्याद
Mandar Gangal
ख्वाब जब टूटने ही हैं तो हम उन्हें बुनते क्यों हैं
ख्वाब जब टूटने ही हैं तो हम उन्हें बुनते क्यों हैं
PRADYUMNA AROTHIYA
ज्यों स्वाति बूंद को तरसता है प्यासा पपिहा ,
ज्यों स्वाति बूंद को तरसता है प्यासा पपिहा ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
आवारगी
आवारगी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बैठ गए
बैठ गए
विजय कुमार नामदेव
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
🙅रुझान🙅
🙅रुझान🙅
*प्रणय प्रभात*
‌एक सच्ची बात जो हर कोई जनता है लेकिन........
‌एक सच्ची बात जो हर कोई जनता है लेकिन........
Rituraj shivem verma
"सहर होने को" कई और "पहर" बाक़ी हैं ....
Atul "Krishn"
तो शीला प्यार का मिल जाता
तो शीला प्यार का मिल जाता
Basant Bhagawan Roy
हो भविष्य में जो होना हो, डर की डर से क्यूं ही डरूं मैं।
हो भविष्य में जो होना हो, डर की डर से क्यूं ही डरूं मैं।
Sanjay ' शून्य'
अकेले तय होंगी मंजिले, मुसीबत में सब साथ छोड़ जाते हैं।
अकेले तय होंगी मंजिले, मुसीबत में सब साथ छोड़ जाते हैं।
पूर्वार्थ
44...Ramal musamman maKHbuun mahzuuf maqtuu.a
44...Ramal musamman maKHbuun mahzuuf maqtuu.a
sushil yadav
व्यवहार वह सीढ़ी है जिससे आप मन में भी उतर सकते हैं और मन से
व्यवहार वह सीढ़ी है जिससे आप मन में भी उतर सकते हैं और मन से
Ranjeet kumar patre
नई पीढ़ी पूछेगी, पापा ये धोती क्या होती है…
नई पीढ़ी पूछेगी, पापा ये धोती क्या होती है…
Anand Kumar
*कौन जाने जिंदगी यह ,जीत है या हार है (हिंदी गजल)*
*कौन जाने जिंदगी यह ,जीत है या हार है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
दोहा त्रयी. . . .
दोहा त्रयी. . . .
sushil sarna
Loading...