Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Oct 2022 · 1 min read

मेरी तकलीफ़

साथ हमदर्दियां हों कितनी भी ।
मेरी तकलीफ़ बस मेरी होगी ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
15 Likes · 228 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
बेटी
बेटी
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
किसी पत्थर की मूरत से आप प्यार करें, यह वाजिब है, मगर, किसी
किसी पत्थर की मूरत से आप प्यार करें, यह वाजिब है, मगर, किसी
Dr MusafiR BaithA
... और मैं भाग गया
... और मैं भाग गया
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
कुछ नया लिखना है आज
कुछ नया लिखना है आज
करन ''केसरा''
Someone Special
Someone Special
Ram Babu Mandal
खुलेआम जो देश को लूटते हैं।
खुलेआम जो देश को लूटते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
सफर
सफर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
नई नसल की फसल
नई नसल की फसल
विजय कुमार अग्रवाल
23/48.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/48.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*दिल का आदाब ले जाना*
*दिल का आदाब ले जाना*
sudhir kumar
लाला अमरनाथ
लाला अमरनाथ
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मेरे अल्फाज़
मेरे अल्फाज़
Dr fauzia Naseem shad
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
******आधे - अधूरे ख्वाब*****
******आधे - अधूरे ख्वाब*****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
जी करता है , बाबा बन जाऊं – व्यंग्य
जी करता है , बाबा बन जाऊं – व्यंग्य
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*प्रबल हैं भाव भक्तों के, प्रभु-दर्शन जो आते हैं (मुक्तक )*
*प्रबल हैं भाव भक्तों के, प्रभु-दर्शन जो आते हैं (मुक्तक )*
Ravi Prakash
गुमनामी ओढ़ लेती है वो लड़की
गुमनामी ओढ़ लेती है वो लड़की
Satyaveer vaishnav
कत्ल खुलेआम
कत्ल खुलेआम
Diwakar Mahto
सुबह-सुबह की बात है
सुबह-सुबह की बात है
Neeraj Agarwal
मुख्तलिफ होते हैं ज़माने में किरदार सभी।
मुख्तलिफ होते हैं ज़माने में किरदार सभी।
Phool gufran
भारत के सैनिक
भारत के सैनिक
नवीन जोशी 'नवल'
🩸🔅🔅बिंदी🔅🔅🩸
🩸🔅🔅बिंदी🔅🔅🩸
Dr. Vaishali Verma
आहवान
आहवान
नेताम आर सी
कविता तुम से
कविता तुम से
Awadhesh Singh
■
■ "डमी" मतलब वोट काटने के लिए खरीद कर खड़े किए गए अपात्र व अय
*Author प्रणय प्रभात*
सुरक्षा
सुरक्षा
Dr. Kishan tandon kranti
" ढले न यह मुस्कान "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
आहिस्ता चल
आहिस्ता चल
Dr.Priya Soni Khare
बस तुम्हें मैं यें बताना चाहता हूं .....
बस तुम्हें मैं यें बताना चाहता हूं .....
Keshav kishor Kumar
कैसे भुला दूँ उस भूलने वाले को मैं,
कैसे भुला दूँ उस भूलने वाले को मैं,
Vishal babu (vishu)
Loading...