Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Feb 2024 · 2 min read

मेरी कहानी मेरी जुबानी

मैंने अपनी ज़िंदगी में बहुत कुछ देखा है
जिसने बदल दी मेरे जीवन की रेखा है।
छोटी उमर में घरवालों को दर्द सहते देखा है।
दादा,दादी,चाचू,फूफा, और
छोटी उम्र में पिता की मौत का मंजर देखा है।
जिसनें बदल दी मेरे जीवन की रेखा है।
बहन की हुई शादी
ससुराल में उसे रोते देखा है
उसके पति को हाथ उठाते देखा है।

पापा के बाद बहन के ससुराल का दुर्व्यवहार देखा है।
बहन को बचाने के लिए मैंने पुलिस थाना भी देखा है।
जिसने बदल दी मेरे जीवन की रेखा है।

बहन को मिले इसके लिए डी.एस.पी का आफिस भी देखा है।
कैसे करते हैं पुलिस से बात
कैसे करते हैं सबूतों को इकट्ठा
इसके लिए हमने कोर्ट का मुँह भी देखा है।
क्या बताएं आपको बिन पापा हमने क्या क्या देखाहै।

आज भी जाते हैं केस लड़ने कोर्ट
हमने बकीलों का भी मुँह देखा है।
बहन की शादी का सामान जब आए घर
वो बुरा दिन भी हमने देखा है।
कितनी कमज़ोर पड़ गई माँ
उसे छुप छुपकर रोते देखा है।
देती हूं हिम्मत अपनी माँ को
जिसे मैंने हरदम रोता देखा है।
कितने हैं ये मनहूस दिन
जिसने बदल दी मेरे जीवन की रेखा है।
सब कहते हैं वंदना शादी करले
कब गम खुशी में बदल जाए किसने देखा है।
हम कहते नहीं करनी हमने शादी
छोटी उम्र से ही बहुत कुछ देखा है।
क्या बताएं कैसी है ज़िंदगी पापा बिन
रोज तिल तिल सबको यहां मरते देखा है।

कितने गम हैं इस ठाकुर की ज़िंदगी में
कितने गम हैं इस ठाकुर की ज़िंदगी में
कोई क्या जाने
वंदना को सबने हँसते देखा है।
वंदना को सबने हँसते देखा है।

Language: English
Tag: Poem, Story
65 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मातृत्व दिवस खास है,
मातृत्व दिवस खास है,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जो मनुष्य सिर्फ अपने लिए जीता है,
जो मनुष्य सिर्फ अपने लिए जीता है,
नेताम आर सी
2802. *पूर्णिका*
2802. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बुंदेली दोहा- जंट (मजबूत)
बुंदेली दोहा- जंट (मजबूत)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
उनकी यादें
उनकी यादें
Ram Krishan Rastogi
#चिंतन
#चिंतन
*Author प्रणय प्रभात*
परों को खोल कर अपने उड़ो ऊँचा ज़माने में!
परों को खोल कर अपने उड़ो ऊँचा ज़माने में!
धर्मेंद्र अरोड़ा मुसाफ़िर
प्राणदायिनी वृक्ष
प्राणदायिनी वृक्ष
AMRESH KUMAR VERMA
खुशनसीबी
खुशनसीबी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मन भर बोझ हो मन पर
मन भर बोझ हो मन पर
Atul "Krishn"
उतरे हैं निगाह से वे लोग भी पुराने
उतरे हैं निगाह से वे लोग भी पुराने
सिद्धार्थ गोरखपुरी
इम्तिहान
इम्तिहान
AJAY AMITABH SUMAN
कौन यहाँ खुश रहता सबकी एक कहानी।
कौन यहाँ खुश रहता सबकी एक कहानी।
Mahendra Narayan
एक तो धर्म की ओढनी
एक तो धर्म की ओढनी
Mahender Singh
चाँद बदन पर ग़म-ए-जुदाई  लिखता है
चाँद बदन पर ग़म-ए-जुदाई लिखता है
Shweta Soni
कब तक चाहोगे?
कब तक चाहोगे?
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
तूने ही मुझको जीने का आयाम दिया है
तूने ही मुझको जीने का आयाम दिया है
हरवंश हृदय
*इस वसंत में मौन तोड़कर, आओ मन से गीत लिखें (गीत)*
*इस वसंत में मौन तोड़कर, आओ मन से गीत लिखें (गीत)*
Ravi Prakash
मेल
मेल
Lalit Singh thakur
No love,only attraction
No love,only attraction
Bidyadhar Mantry
आपको दिल से हम दुआ देंगे।
आपको दिल से हम दुआ देंगे।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मंत्र चंद्रहासोज्जलकारा, शार्दुल वरवाहना ।कात्यायनी शुंभदघां
मंत्र चंद्रहासोज्जलकारा, शार्दुल वरवाहना ।कात्यायनी शुंभदघां
Harminder Kaur
नई रीत विदाई की
नई रीत विदाई की
विजय कुमार अग्रवाल
औरतें
औरतें
Kanchan Khanna
किशोरावस्था : एक चिंतन
किशोरावस्था : एक चिंतन
Shyam Sundar Subramanian
फुटपाथों पर लोग रहेंगे
फुटपाथों पर लोग रहेंगे
Chunnu Lal Gupta
गिव मी सम सन शाइन
गिव मी सम सन शाइन
Shekhar Chandra Mitra
मत कर ग़ुरूर अपने क़द पर
मत कर ग़ुरूर अपने क़द पर
Trishika S Dhara
"चंदा मामा, चंदा मामा"
राकेश चौरसिया
अष्टम् तिथि को प्रगटे, अष्टम् हरि अवतार।
अष्टम् तिथि को प्रगटे, अष्टम् हरि अवतार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...