Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Feb 2023 · 1 min read

मेरी एजुकेशन शायरी

मेरी एजुकेशन शायरी
अच्छी बुरी बातें सभी सुननी चाहिए उसमें सुनने के बाद अपने दिमाग में मनन करने के बाद जो अच्छी बातें हैं उन्हें अपने जीवन शैली यानी खाली मटके में उतार लेना चाहिए

130 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जन्म नही कर्म प्रधान
जन्म नही कर्म प्रधान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
The blue sky !
The blue sky !
Buddha Prakash
छल
छल
Aman Kumar Holy
इश्क का रंग मेहंदी की तरह होता है धीरे - धीरे दिल और दिमाग प
इश्क का रंग मेहंदी की तरह होता है धीरे - धीरे दिल और दिमाग प
Rj Anand Prajapati
चांद से सवाल
चांद से सवाल
Nanki Patre
One day you will leave me alone.
One day you will leave me alone.
Sakshi Tripathi
रंगों की सुखद फुहार
रंगों की सुखद फुहार
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
स्वागत है नवजात भतीजे
स्वागत है नवजात भतीजे
Pooja srijan
नारी उर को
नारी उर को
Satish Srijan
छिपकली बन रात को जो, मस्त कीड़े खा रहे हैं ।
छिपकली बन रात को जो, मस्त कीड़े खा रहे हैं ।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
प्ले स्कूल हमारा (बाल कविता )
प्ले स्कूल हमारा (बाल कविता )
Ravi Prakash
आंसूओं की नहीं
आंसूओं की नहीं
Dr fauzia Naseem shad
■ आज की बात...
■ आज की बात...
*Author प्रणय प्रभात*
💐प्रेम कौतुक-94💐
💐प्रेम कौतुक-94💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दोस्ती
दोस्ती
Rajni kapoor
आँखों में ख्व़ाब होना , होता बुरा नहीं।।
आँखों में ख्व़ाब होना , होता बुरा नहीं।।
Godambari Negi
राम है अमोघ शक्ति
राम है अमोघ शक्ति
Kaushal Kumar Pandey आस
किसान का दर्द
किसान का दर्द
तरुण सिंह पवार
प्यार का रिश्ता
प्यार का रिश्ता
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जिंदगी के कोरे कागज पर कलम की नोक ज्यादा तेज है...
जिंदगी के कोरे कागज पर कलम की नोक ज्यादा तेज है...
कवि दीपक बवेजा
दफ़न हो गई मेरी ख्वाहिशे जाने कितने ही रिवाजों मैं,l
दफ़न हो गई मेरी ख्वाहिशे जाने कितने ही रिवाजों मैं,l
गुप्तरत्न
It is very simple to be happy, but it is very difficult to b
It is very simple to be happy, but it is very difficult to b
Dr. Rajiv
"कड़वा सच"
Dr. Kishan tandon kranti
आनंद और इच्छा में जो उलझ जाओगे
आनंद और इच्छा में जो उलझ जाओगे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
रिश्तों को कभी दौलत की
रिश्तों को कभी दौलत की
rajeev ranjan
दरवाजे बंद मिलते हैं।
दरवाजे बंद मिलते हैं।
अभिषेक पाण्डेय ‘अभि ’
दोहे-
दोहे-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
'Memories some sweet and some sour..'
'Memories some sweet and some sour..'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
"अश्क भरे नयना"
Ekta chitrangini
जा रहा हूँ बहुत दूर मैं तुमसे
जा रहा हूँ बहुत दूर मैं तुमसे
gurudeenverma198
Loading...