Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Oct 2022 · 1 min read

मेरी आंखों का इंतिज़ार रहा

शिद्तों में जो बे’शुमार रहा ।
मेरी आंखों का इंतिज़ार रहा ।।

भूल हमको कभी नहीं सकता ।
दिल में बाक़ी ये ए’तिबार रहा ।।

पूंछ कर ज़िंदगी बता देना ।
हम पर किसका कहां उधार रहा ।।

मेरा कब हम पे इख़्तियार रहा।
दिल तो दिल था सो बेक़रार रहा ।।

बेबसी ज़िंदगी में थी शामिल ।
मेरा दामन भी तार-तार रहा ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
17 Likes · 187 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
दृष्टिकोण
दृष्टिकोण
Dhirendra Singh
परम तत्व का हूँ  अनुरागी
परम तत्व का हूँ अनुरागी
AJAY AMITABH SUMAN
थूंक पॉलिस
थूंक पॉलिस
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आज के युग में नारीवाद
आज के युग में नारीवाद
Surinder blackpen
प्रेम शाश्वत है
प्रेम शाश्वत है
Harminder Kaur
मिली पात्रता से अधिक, पचे नहीं सौगात।
मिली पात्रता से अधिक, पचे नहीं सौगात।
डॉ.सीमा अग्रवाल
दोहे-
दोहे-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
#Dr Arun Kumar shastri
#Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मै भटकता ही रहा दश्त ए शनासाई में
मै भटकता ही रहा दश्त ए शनासाई में
Anis Shah
■सियासी फार्मूला■
■सियासी फार्मूला■
*Author प्रणय प्रभात*
शंगोल
शंगोल
Bodhisatva kastooriya
सत्य की खोज, कविता
सत्य की खोज, कविता
Mohan Pandey
लज्जा
लज्जा
Shekhar Chandra Mitra
खिलाड़ी
खिलाड़ी
महेश कुमार (हरियाणवी)
*पुस्तक*
*पुस्तक*
Dr. Priya Gupta
स्वाभिमान
स्वाभिमान
Shyam Sundar Subramanian
बलराम विवाह
बलराम विवाह
Rekha Drolia
ये मतलबी दुनिया है साहब,
ये मतलबी दुनिया है साहब,
Umender kumar
"बढ़"
Dr. Kishan tandon kranti
वर्तमान राजनीति
वर्तमान राजनीति
नवीन जोशी 'नवल'
बाल गीत
बाल गीत "लंबू चाचा आये हैं"
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
*** एक दौर....!!! ***
*** एक दौर....!!! ***
VEDANTA PATEL
ईश्वर का
ईश्वर का "ह्यूमर" रचना शमशान वैराग्य -  Fractional Detachment  
Atul "Krishn"
कुछ इस तरह टुटे है लोगो के नजरअंदाजगी से
कुछ इस तरह टुटे है लोगो के नजरअंदाजगी से
पूर्वार्थ
-आजकल मोहब्बत में गिरावट क्यों है ?-
-आजकल मोहब्बत में गिरावट क्यों है ?-
bharat gehlot
2624.पूर्णिका
2624.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Iss chand ke diwane to sbhi hote hai
Iss chand ke diwane to sbhi hote hai
Sakshi Tripathi
मरीचिका
मरीचिका
लक्ष्मी सिंह
देते ऑक्सीजन हमें, बरगद पीपल नीम (कुंडलिया)
देते ऑक्सीजन हमें, बरगद पीपल नीम (कुंडलिया)
Ravi Prakash
औरतें
औरतें
Neelam Sharma
Loading...