Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2019 · 2 min read

मेरा मकान , मेरा प्यार

” अब मैं क्या करूँगा , कैसे समय गुजारूँगा ? आफिस में तो काम करते चार लोगों से बात करते समय का पता ही
नही चलता ।”
रामलाल जी आज अपनी उम्र के 60 साल पूरे करते हुए सरकारी सेवा से सेवानिवृत्त हो रहे थे । उन्होंने अपनी नौकरी ईमानदारी और मेहनत से की थी । इसीलिए सब उनकी इज्जत करते थे । उन्होंने अपने संबोधन भी यहीं बाते कहीं थी ।
एक हाथ में गैदे के फूल की माला लिए उन्होंने
घर में प्रवेश किया ।
पत्नी रमा तो खुश थी कि अब रामलाल के साथ समय गुजरेंगा , नहीं तो जिन्दगी भागदौड़ में ही गुजरी थी ।
बहुऐं नाक- भौ सिकोड़ रही थी अभी तक सास की ही टोका-टोकी थी अब ससुर को भी
दिनभर झेलो । साथ ही उन्होंने अपने बच्चों की भी सास- ससुर से दूरियां बनावा दी थी , कि वह दादा दादी के प्यार में बिगड़ नहीं जाए ।
खैर , रामलाल इन सब बातों से दूर थे, शुरू में आफिस चले जाते थे और बिना किसी लालच के अपनी सीट का काम करते थे जो ज्यादा दिन नहीं चल सका कयोकि जिसको सीट दी थी वह अपने हिसाब से कमाई करते हुए काम करना चाहता था । इसलिए उन्होने आफिस जाना छोड़ दिया ।
एक दिन रामलाल बाजार से लौट रहे थे , तभी उन्हें अपने मकान की बाउन्डरी की दीवार में दरार दिखी जो बढती जा रही थी और कभी भी वह
गिर सकती थी ।
इसलिए रामलाल ने ठेकेदार को बुला कर काम चालू करवा दिया अब मजदूर और उनके बच्चों के साथ बात करते , चाय – पानी पिलाते रामलाल का
समय अच्छा गुजरने लगा ।
जब यह काम खत्म हुआ तो फिर उन्हें
खालीपन लगने लगा । रामलाल को
सेवानिवृत्ति पर पैसा तो मिला ही था अब उन्होंने मकान की खाली जगह और ऊपर की मंजिल का काम शुरू करवा दिया ।
रामलाल अपने मकान की बेटे की तरह देखभाल करते और ध्यान देने लगे ।
इस तरह कैसे उनका समय गुजर रहा मालूम ही पड रहा था । साथ ही उन्होंने मकाने के अतिरिक्त हिस्से को जरूरतमंद को किराये पर दे दिया और उसका उपयोग सम्पति कर और टेक्स के भुगतान में करने लगे साथ ही किरायेदार के बच्चों के साथ खेलते और उन लोगों से बातचीत, मेल-मुलाक़ात से अच्छा समय गुजरने लगा उनके इस काम में रमा
भी साथ देने लगी ।
जहाँ चाह वहाँ राह के चलते रामलाल जी सेवानिवृत्ति के बाद भी अपने आप को व्यस्त रखने लगे और अच्छा समय गुजारने लगा । उनका मकान भी जो पहले उपेक्षित सा था अब बन-संवर कर
शान से खड़ा था ।

स्वलिखित
लेखक संतोष श्रीवास्तव भोपाल

Language: Hindi
184 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जब तक बांकी मेरे हृदय की एक भी सांस है।
जब तक बांकी मेरे हृदय की एक भी सांस है।
Rj Anand Prajapati
इस राह चला,उस राह चला
इस राह चला,उस राह चला
TARAN VERMA
समय बदल रहा है..
समय बदल रहा है..
ओनिका सेतिया 'अनु '
टाईम पास .....लघुकथा
टाईम पास .....लघुकथा
sushil sarna
"आओ मिलकर दीप जलायें "
Chunnu Lal Gupta
*घर*
*घर*
Dushyant Kumar
सावन बरसता है उधर....
सावन बरसता है उधर....
डॉ.सीमा अग्रवाल
कहने को सभी कहते_
कहने को सभी कहते_
Rajesh vyas
संत कबीर
संत कबीर
Indu Singh
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
"अक्षर"
Dr. Kishan tandon kranti
23/44.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/44.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हमें यह ज्ञात है, आभास है
हमें यह ज्ञात है, आभास है
DrLakshman Jha Parimal
हम गांव वाले है जनाब...
हम गांव वाले है जनाब...
AMRESH KUMAR VERMA
😊कुकडू-कुकडू😊
😊कुकडू-कुकडू😊
*प्रणय प्रभात*
"दोस्ती का मतलब"
Radhakishan R. Mundhra
शायरी
शायरी
Jayvind Singh Ngariya Ji Datia MP 475661
सारी जिंदगी की मुहब्बत का सिला.
सारी जिंदगी की मुहब्बत का सिला.
shabina. Naaz
STABILITY
STABILITY
SURYA PRAKASH SHARMA
अज़ीज़ टुकड़ों और किश्तों में नज़र आते हैं
अज़ीज़ टुकड़ों और किश्तों में नज़र आते हैं
Atul "Krishn"
करते बर्बादी दिखे , भोजन की हर रोज (कुंडलिया)
करते बर्बादी दिखे , भोजन की हर रोज (कुंडलिया)
Ravi Prakash
साल ये अतीत के,,,,
साल ये अतीत के,,,,
Shweta Soni
देशभक्ति जनसेवा
देशभक्ति जनसेवा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
फूल
फूल
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जनता की कमाई गाढी
जनता की कमाई गाढी
Bodhisatva kastooriya
जबकि ख़ाली हाथ जाना है सभी को एक दिन,
जबकि ख़ाली हाथ जाना है सभी को एक दिन,
Shyam Vashishtha 'शाहिद'
अनेकों पंथ लोगों के, अनेकों धाम हैं सबके।
अनेकों पंथ लोगों के, अनेकों धाम हैं सबके।
जगदीश शर्मा सहज
*
*"बापू जी"*
Shashi kala vyas
तुम - दीपक नीलपदम्
तुम - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
दिल ए तकलीफ़
दिल ए तकलीफ़
Dr fauzia Naseem shad
Loading...