Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Apr 2023 · 2 min read

मेरा तितलियों से डरना

एक समय था जब मैं तितलियों से बहुत डरा करती थी,मेरे बड़े भाई मुझे कहते थे….बड़ी बड़ी जो तितलियां होती हैं वो सारी डायन हैं, छोटे बच्चों को अकेला देखकर उनको खा जाती हैं,उनकी ये बात सुनकर मुझे बहुत डर लगता था। जब भी मैं बड़ी तितलियों को देखती आँखे बंद कर लेती।एक बार मेरे बड़े भाई मुझे अकेला छोड़ अपने दोस्तों के साथ खेलने चले गए,ऐसा पहली बार था जब वो मुझे नहीं ले गए, मैं उनको ढूंढती हुए उस पास के बागीचे में चली गई जो BCCL कर्मचारियों और ओमप्रकाश कुँवर ने लगाया था,उसमें तरह तरह के फूलों के पौधे जैसे अपराजिता, कनेर, उड़हुल,सदाबहार और भी कई तरह के खूबसूरत सजावटी पौधे थे।।हम बच्चों का एक पसंदीदा पेड़ भी था ..शहतूत का गर्मियों में शहतूत पक पक कर गिरते थे और हम सब उनको बीनकर खाते। मैंने देखा मेरे भाई और उनके दोस्त उस बागीचे में नहीं थे ,मैंने सोचा वो लोग जरूर BCCL वालो की गैराज में खेल रहें होंगे ,जैसे ही उधर जाने के लिए मैंने अपना कदम बढ़ाया मैंने देखा एक बड़े से सफेद फूल के पौधे में बहुत सारी बड़ी बड़ी तितलियां बैठी हैं उनको देखकर मेरा मैं डर गयी,और वहीं खड़ी हो गई,मेरा बालमन में तरह तरह के विचार आने लगे मैं सोचने लगी ये सब मिलकर अब मुझे खा जायेंगी या उड़ाकर दूर ले जायेंगी फिर कोई मुझे नहीं ढूंढ पायेगा, बहुत देर तक मैं वहाँ जमी रही पर कभी आँखे बंद करती क़भी चुपके चुपके खोलकर देखती कि वे चली गई क्या।फिर मैंने बहुत साहस किया और आँखे बंद करके आगे की तरफ दौड़ गयी,ताकि अपने भाई को ढूंढ सकूँ, वो मुझे मिले कि मिले उस जहग मुझे याद नहीं ,बस इतना सा याद है उस दिन मैं पीछे नही हटी थी मेरे बालमन ने अपने डर को पीछे छोड़ना सीख लिया था,इसके बाद जीवन में बहुत से डर का सामना किया।।आज भी जब मैं किसी चीज़ से डरती हूँ तो याद करती हूँ …मेरा तितलियों से डरना।।

Language: Hindi
352 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तुम्हें पाना-खोना एकसार सा है--
तुम्हें पाना-खोना एकसार सा है--
Shreedhar
सफ़र ए जिंदगी
सफ़र ए जिंदगी
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
चंद्रयान 3
चंद्रयान 3
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
समय को पकड़ो मत,
समय को पकड़ो मत,
Vandna Thakur
जाना ही होगा 🙏🙏
जाना ही होगा 🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*खामोशी अब लब्ज़ चाहती है*
*खामोशी अब लब्ज़ चाहती है*
Shashi kala vyas
सफ़र में लाख़ मुश्किल हो मगर रोया नहीं करते
सफ़र में लाख़ मुश्किल हो मगर रोया नहीं करते
Johnny Ahmed 'क़ैस'
रात के अंँधेरे का सौंदर्य वही बता सकता है जिसमें बहुत सी रात
रात के अंँधेरे का सौंदर्य वही बता सकता है जिसमें बहुत सी रात
Neerja Sharma
दिल से दिलदार को मिलते हुए देखे हैं बहुत
दिल से दिलदार को मिलते हुए देखे हैं बहुत
Sarfaraz Ahmed Aasee
साईकिल दिवस
साईकिल दिवस
Neeraj Agarwal
जो लिखा है
जो लिखा है
Dr fauzia Naseem shad
जिसका समय पहलवान...
जिसका समय पहलवान...
Priya princess panwar
अहं प्रत्येक क्षण स्वयं की पुष्टि चाहता है, नाम, रूप, स्थान
अहं प्रत्येक क्षण स्वयं की पुष्टि चाहता है, नाम, रूप, स्थान
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
मूर्दन के गांव
मूर्दन के गांव
Shekhar Chandra Mitra
"प्रेम कर तू"
Dr. Kishan tandon kranti
बज्जिका के पहिला कवि ताले राम
बज्जिका के पहिला कवि ताले राम
Udaya Narayan Singh
*हिम्मत जिंदगी की*
*हिम्मत जिंदगी की*
Naushaba Suriya
I got forever addicted.
I got forever addicted.
Manisha Manjari
हुनर मौहब्बत के जिंदगी को सीखा गया कोई।
हुनर मौहब्बत के जिंदगी को सीखा गया कोई।
Phool gufran
Beginning of the end
Beginning of the end
Bidyadhar Mantry
लौ
लौ
Dr. Seema Varma
नैह
नैह
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
तनावमुक्त
तनावमुक्त
Kanchan Khanna
■ इन दिनों...
■ इन दिनों...
*Author प्रणय प्रभात*
बहुत-सी प्रेम कहानियाँ
बहुत-सी प्रेम कहानियाँ
पूर्वार्थ
बहती नदी का करिश्मा देखो,
बहती नदी का करिश्मा देखो,
Buddha Prakash
*मृत्यु-चिंतन(हास्य व्यंग्य)*
*मृत्यु-चिंतन(हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
🤔🤔🤔
🤔🤔🤔
शेखर सिंह
होली की आयी बहार।
होली की आयी बहार।
Anil Mishra Prahari
Loading...