मेरा ठिकाना-८ –मुक्तक—डी के निवातियाँ

दरख्त मिटे गए मिटा परिंदो का आशियाना
खेत खलिहानों को मिटा, बना लिया घराना
इस कदर विकास हावी हुआ इस जमाने में
पशु पक्षी दूजे से पूछे, कहाँ है मेरा ठिकाना !!
!
!
!
डी के निवातियाँ _________@

153 Views
You may also like:
=*बुराई का अन्त*=
Prabhudayal Raniwal
'फूल और व्यक्ति'
Vishnu Prasad 'panchotiya'
होना सभी का हिसाब है।
Taj Mohammad
"एक नज़्म लिख रहा हूँ"
Lohit Tamta
🍀🌺प्रेम की राह पर-44🍀🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
राई का पहाड़
Sangeeta Darak maheshwari
कोई मंझधार में पड़ा हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
ग्रीष्म ऋतु भाग २
Vishnu Prasad 'panchotiya'
पिता के रिश्ते में फर्क होता है।
Taj Mohammad
हाइकु _पिता
Manu Vashistha
पितृ स्तुति
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
एक नज़म [ बेकायदा ]
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पिता
Dr. Kishan Karigar
Un-plucked flowers
Aditya Prakash
💐नव ऊर्जा संचार💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मुझसे बचकर वह अब जायेगा कहां
Ram Krishan Rastogi
कोई तो हद होगी।
Taj Mohammad
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
Kavita Nahi hun mai
Shyam Pandey
पिता हैं धरती का भगवान।
Vindhya Prakash Mishra
सतुआन
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
मुक्तक(मंच)
Dr Archana Gupta
लहजा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
नमन!
Shriyansh Gupta
A wise man 'The Ambedkar'
Buddha Prakash
पिता हिमालय है
जगदीश शर्मा सहज
*"पिता"*
Shashi kala vyas
केंचुआ
Buddha Prakash
पितु संग बचपन
मनोज कर्ण
पुस्तक की पीड़ा
सूर्यकांत द्विवेदी
Loading...