Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Jan 2023 · 3 min read

— मृत्यु जबकि अटल है —

दुनिआ खत्म नहीं हो रहा है, खत्म की जा रही है, कभी किसी के द्वारा, कभी खुद से , कोई किसी को एक्सीडेंट से मार रहा है, कोई किसी को बलात्कार कर के मार रहा है, कोई किसी को कत्ल कर के मार रहा है, कोई जमीन के विवाद में एक दूसरे के खून का प्यासा हो रहा है, कोई अपनी हवस के कारण खुद पैदा कर रहा है, किसी की बीवी पर या किसी औरत का आदमी के चक्कर में कत्ल हो रहा है, कोई अवसाद में खुद को फांसी पर लटका रहा है, कोई आने वाले वक्त को लेकर इतना चिंतित है कि वो खुद ही बिमारी की वजह से मर रहा है , ले देकर यही सामने आ रहा है, कि कोई किसी को खुश देखकर खुश नहीं है, जलन की भावना मन ही मन में रखते हैं, बस जुबान पर राम का नाम रखते हैं , मिठास जो लोगों की जुबान पर देखने को मिलती है, यही वो चाकू है, यही वो जहर है, यही वो हथियार है, जिस से वो लोग ज्यादा शिकार हो रहे है, जो जल्द से दुसरे पर विश्वाश कर लेते है, उस के बाद उनका अंत कर दिआ जाता है, न जाने क्यूँ लोग एक दुसरे की तरक्की को देखकर इतनी ईर्ष्या करते है, जबकि वो तुम से कुछ मांग नहीं रहा है, तुम्हारा लेकर खा नहीं रहा है, अपना जो भी करता है मेहनत के बल बूते से करता है, पता नहीं क्यूँ , किस लिए फिर लोग ऐसी द्वेष की भावना को अपने मन में पैदा करके, उस का बुरा चाहते है, बुरे से याद आया की लोग अपने सुख की खातिर आपका बुरा करने से कभी नहीं चूकते , जादू, टोटके, हकीम , तांत्रिक के यहाँ जा जाकर न जाने कैसे कैसे हथकंडे तैयार करवा के आपके लिए मौत का जाल बनवा लेते है, सुखमय कोई जीवन न जिए ऐसी ऐसी भावना लेकर आपके मन के भेद ले लेंगे, फिर आपका बुरा करने में देर नहीं लगाते !

सुना था कि रामराज भी हमारे देश में सतयुग में था, पर कहाँ था ? उस में भी तो जलन की भावना, द्वेष, कुंठा, जैसे कर्मकांड हुआ करते थे, आज कलियुग में उस की गति काफी ज्यादा बढ़ गयी है, सच बात तो यही है, कि लोगों के मन के उप्पर अंकुश नहीं लग पाया है, मन हमेशां चंचल बना रहा है, बुरा ही बुरा सोचता आ रहा है, अच्छा कभी करता ही नहीं, कितने सत्संग सुन लो, कितने पूजा पाठ कर लो, कितने धर्मार्थ के काम कर लो, जब तक यह चंचलता बरकरार रहेगी, तब तक सच्चा रामराज कभी नहीं आ सकता ! कहने को तो बहुत से संत इस धरती पर आये, पर शायद उन कुछ संतों के बीच भी गलत भावनाओं ने घर किया, जो सच्चे गुरु थे, उनको दुनिआ के किसी भी तरह के आडंबरव से कुछ लेना देना नहीं था, वो केवल अपनी भक्ति में लीं रह कर संसार की यात्रा पूरी कर गए , आज ही देख लो कितने संत है, कोई राजनीति में लिप्त है, कोई भोग विलास में लिप्त है, कोई इतना बड़ा लग्जरियस बना हुआ है, कि उस को आध्यात्म दिखाई ही नहीं देता !

सब जानते है, कि इस संसार पर सदा किसी का अधिकार नहीं रहा कि वो इस का मालिक बन जाए, फिर भी पता नहीं क्यूँ अपना अधिपत्य जमाना चाहता है, यह इंसान !!

अजीत कुमार तलवार
मेरठ

Language: Hindi
Tag: लेख
2 Likes · 163 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
View all
You may also like:
👍👍
👍👍
*Author प्रणय प्रभात*
2827. *पूर्णिका*
2827. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जन्म मृत्यु का विश्व में, प्रश्न सदा से यक्ष ।
जन्म मृत्यु का विश्व में, प्रश्न सदा से यक्ष ।
Arvind trivedi
'आलम-ए-वजूद
'आलम-ए-वजूद
Shyam Sundar Subramanian
व्यवहार अपना
व्यवहार अपना
Ranjeet kumar patre
हरी भरी तुम सब्ज़ी खाओ|
हरी भरी तुम सब्ज़ी खाओ|
Vedha Singh
राममय जगत
राममय जगत
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
प्रकट भये दीन दयाला
प्रकट भये दीन दयाला
Bodhisatva kastooriya
अधखिली यह कली
अधखिली यह कली
gurudeenverma198
" खामोश आंसू "
Aarti sirsat
मां गंगा ऐसा वर दे
मां गंगा ऐसा वर दे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बुंदेली दोहा बिषय- बिर्रा
बुंदेली दोहा बिषय- बिर्रा
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
-शुभ स्वास्तिक
-शुभ स्वास्तिक
Seema gupta,Alwar
"कविता क्या है?"
Dr. Kishan tandon kranti
अक्सर औरत को यह खिताब दिया जाता है
अक्सर औरत को यह खिताब दिया जाता है
Harminder Kaur
शुभं करोति कल्याणं आरोग्यं धनसंपदा।
शुभं करोति कल्याणं आरोग्यं धनसंपदा।
अनिल "आदर्श"
आप वही करें जिससे आपको प्रसन्नता मिलती है।
आप वही करें जिससे आपको प्रसन्नता मिलती है।
लक्ष्मी सिंह
* straight words *
* straight words *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सवाल जिंदगी के
सवाल जिंदगी के
Dr. Rajeev Jain
कर दिया
कर दिया
Dr fauzia Naseem shad
Irritable Bowel Syndrome
Irritable Bowel Syndrome
Tushar Jagawat
विश्वास करो
विश्वास करो
TARAN VERMA
अवधी मुक्तक
अवधी मुक्तक
प्रीतम श्रावस्तवी
यह पृथ्वी रहेगी / केदारनाथ सिंह (विश्व पृथ्वी दिवस)
यह पृथ्वी रहेगी / केदारनाथ सिंह (विश्व पृथ्वी दिवस)
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
हमे अब कहा फिक्र जमाने की है
हमे अब कहा फिक्र जमाने की है
पूर्वार्थ
नग मंजुल मन मन भावे🌺🪵☘️🍁🪴
नग मंजुल मन मन भावे🌺🪵☘️🍁🪴
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
प्यासा पानी जानता,.
प्यासा पानी जानता,.
Vijay kumar Pandey
जिस समाज में आप पैदा हुए उस समाज ने आपको कितनी स्वंत्रता दी
जिस समाज में आप पैदा हुए उस समाज ने आपको कितनी स्वंत्रता दी
Utkarsh Dubey “Kokil”
प्रेम स्वतंत्र आज हैं?
प्रेम स्वतंत्र आज हैं?
The_dk_poetry
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
Loading...