Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Nov 2018 · 1 min read

मृत्युभोज

मृत्युभोज

मंगतू ने गरीबी की मार सहते हुए जैसे तैसे मजदूरी करके अपने इकलौते बेटे को पढ़ा लिखाकर कामयाब कर दिया।अच्छी नौकरी मिल गई। नौकरी के बाद बेटे की शादी कर दी गई।बेटा अपनी बीबी को शहर में साथ ले जाता है।मंगतू का वहाँ जाने का मन तो नहीं कर रहा था।लेकिन अकेला क्या करता।वह भी वहीं चला गया।मंगतू वहाँ भी गाँव की तरह रहता था।मंगतू की पुत्रवधू को यह फूटी आँख न सुहाता था।नौबत यहाँ तक आ गई कि मंगतू को वापस गाँव आना पड़ा।
गाँव आने के बाद मंगतू बीमार पड़ गया।कुछ दिन बाद वह भगवान को प्यारा हो गया।जब अपनी नौकरी की साहूकारी दिखाते हुए उन्होंने मृत्युभोज पर दो लाख रुपये खर्च कर दिये।क्योंकि गाँव, समाज में इज़्ज़त बनानी थी।मंगतू का बेटा ऑफिसर है। इतना बड़ा दान पुण्य किया है। यदि मृत्युभोज पर ये झूठा दिखावा न करके मंगतू के जीते जी उसकी सेवा की जाती।उसको अच्छा खाना ,बीमारी के समय दवा दारू व सम्भाल की जाती तो कितना अच्छा होता।

अशोक कुमार ढोरिया
मुबारिकपुर ((झज्झर)
हरियाणा

Language: Hindi
5 Likes · 3 Comments · 479 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कितना छुपाऊँ, कितना लिखूँ
कितना छुपाऊँ, कितना लिखूँ
Dr. Kishan tandon kranti
मन और मस्तिष्क
मन और मस्तिष्क
Dhriti Mishra
राजतंत्र क ठगबंधन!
राजतंत्र क ठगबंधन!
Bodhisatva kastooriya
जो रास्ता उसके घर की तरफ जाता है
जो रास्ता उसके घर की तरफ जाता है
कवि दीपक बवेजा
* मंजिल आ जाती है पास *
* मंजिल आ जाती है पास *
surenderpal vaidya
रोज मरते हैं
रोज मरते हैं
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
सारी गलतियां ख़ुद करके सीखोगे तो जिंदगी कम पड़ जाएगी, सफलता
सारी गलतियां ख़ुद करके सीखोगे तो जिंदगी कम पड़ जाएगी, सफलता
dks.lhp
उजियारी ऋतुओं में भरती
उजियारी ऋतुओं में भरती
Rashmi Sanjay
इतने सालों बाद भी हम तुम्हें भूला न सके।
इतने सालों बाद भी हम तुम्हें भूला न सके।
लक्ष्मी सिंह
दूसरों की लड़ाई में ज्ञान देना बहुत आसान है।
दूसरों की लड़ाई में ज्ञान देना बहुत आसान है।
Priya princess panwar
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Rekha Drolia
तन से अपने वसन घटाकर
तन से अपने वसन घटाकर
Suryakant Dwivedi
दिल से रिश्ते
दिल से रिश्ते
Dr fauzia Naseem shad
ये मतलबी दुनिया है साहब,
ये मतलबी दुनिया है साहब,
Umender kumar
■ सपनों में आ कर ■
■ सपनों में आ कर ■
*Author प्रणय प्रभात*
वो और राजनीति
वो और राजनीति
Sanjay ' शून्य'
अगर मेरी मोहब्बत का
अगर मेरी मोहब्बत का
श्याम सिंह बिष्ट
चाहत 'तुम्हारा' नाम है, पर तुम्हें पाने की 'तमन्ना' मुझे हो
चाहत 'तुम्हारा' नाम है, पर तुम्हें पाने की 'तमन्ना' मुझे हो
Sukoon
*सरस रामकथा*
*सरस रामकथा*
Ravi Prakash
जय भवानी, जय शिवाजी!
जय भवानी, जय शिवाजी!
Kanchan Alok Malu
बात जुबां से अब कौन निकाले
बात जुबां से अब कौन निकाले
Sandeep Pande
" अधरों पर मधु बोल "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
हे गुरुवर तुम सन्मति मेरी,
हे गुरुवर तुम सन्मति मेरी,
Kailash singh
मेरा तितलियों से डरना
मेरा तितलियों से डरना
ruby kumari
मोलभाव
मोलभाव
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आतंकवाद सारी हदें पार कर गया है
आतंकवाद सारी हदें पार कर गया है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गर गुलों की गुल गई
गर गुलों की गुल गई
Mahesh Tiwari 'Ayan'
अधि वर्ष
अधि वर्ष
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
नेक मनाओ
नेक मनाओ
Ghanshyam Poddar
प्रीतघोष है प्रीत का, धड़कन  में  नव  नाद ।
प्रीतघोष है प्रीत का, धड़कन में नव नाद ।
sushil sarna
Loading...