Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jun 2022 · 1 min read

मुस्ताकिल

डा . अरुण कुमार शास्त्री – एक अबोध बालक – अरुण अतृप्त

उपर वाला ही होता है मुस्ताकिल सबका
हर घडी
इन्सान तो बस इक बहाना होता है अगरचे
दया हो उसकी
सोच में वजन और वजन में इखलाक चाहिए
हर घडी
आदमी को आदमी से बस और क्या चाहिए
हर घडी
मैं नही कह्ता ये रसूले पाक कह्ता है
हर घडी
बस अपनी नियत को साफ होना चाहिए
हर घडी
मुश्किलें तो आती रहेंगी बिना इनके मज़ा क्या है
हर घडी
जज्बाये खून में हो रवानी अगरचे हम पर हो
दया उसकी
तेरे चेहरे से चिन्ताओं का साया कब मिटेगा
उपर वाले का भरोसा अब कब् तक बनेगा
तू समझता है ये दुनिया तेरे इशारे पर चलेगी
बादशाहों ने यहाँ वक्त पर हैं सर झुकाये
एक पल में बद्लती है तस्वीर फानी जिन्दगानी
हर घडी
और तु तू समझता है ये दुनिया तेरे इशारे पर चलेगी
उपर वाला ही होता है मुस्ताकिल सबका
हर घडी
इन्सान तो बस इक बहाना होता है अगरचे
दया हो उसकी
सोच में वजन और वजन में इखलाक चाहिए
हर घडी
आदमी को आदमी से बस और क्या चाहिए
हर घडी

2 Likes · 1 Comment · 244 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
एक अलग ही दुनिया
एक अलग ही दुनिया
Sangeeta Beniwal
मुस्तहकमुल-'अहद
मुस्तहकमुल-'अहद
Shyam Sundar Subramanian
चैन से जिंदगी
चैन से जिंदगी
Basant Bhagawan Roy
साथ
साथ
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
*स्वर्ग लोक से चलकर गंगा, भारत-भू पर आई (गीत)*
*स्वर्ग लोक से चलकर गंगा, भारत-भू पर आई (गीत)*
Ravi Prakash
बड़ा सुंदर समागम है, अयोध्या की रियासत में।
बड़ा सुंदर समागम है, अयोध्या की रियासत में।
जगदीश शर्मा सहज
पैसा
पैसा
Kanchan Khanna
मैं कुछ इस तरह
मैं कुछ इस तरह
Dr Manju Saini
2977.*पूर्णिका*
2977.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
नदियों का एहसान
नदियों का एहसान
RAKESH RAKESH
टाईम पास .....लघुकथा
टाईम पास .....लघुकथा
sushil sarna
#धोती (मैथिली हाइकु)
#धोती (मैथिली हाइकु)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
पटेबाज़
पटेबाज़
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
💐प्रेम कौतुक-210💐
💐प्रेम कौतुक-210💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"स्वार्थी रिश्ते"
Ekta chitrangini
कहानी -
कहानी - "सच्चा भक्त"
Dr Tabassum Jahan
जिंदगी के लिए वो क़िरदार हैं हम,
जिंदगी के लिए वो क़िरदार हैं हम,
Ashish shukla
कहना नहीं तुम यह बात कल
कहना नहीं तुम यह बात कल
gurudeenverma198
साजिशन दुश्मन की हर बात मान लेता है
साजिशन दुश्मन की हर बात मान लेता है
Maroof aalam
#एक_गजल
#एक_गजल
*Author प्रणय प्रभात*
तुम्हारी जाति ही है दोस्त / VIHAG VAIBHAV
तुम्हारी जाति ही है दोस्त / VIHAG VAIBHAV
Dr MusafiR BaithA
शौक करने की उम्र मे
शौक करने की उम्र मे
KAJAL NAGAR
कामनाओं का चक्रव्यूह, प्रतिफल चलता रहता है
कामनाओं का चक्रव्यूह, प्रतिफल चलता रहता है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दिल का तुमको
दिल का तुमको
Dr fauzia Naseem shad
छठ पूजा
छठ पूजा
Satish Srijan
मित्रता मे बुझु ९०% प्रतिशत समानता जखन भेट गेल त बुझि मित्रत
मित्रता मे बुझु ९०% प्रतिशत समानता जखन भेट गेल त बुझि मित्रत
DrLakshman Jha Parimal
🦋 *आज की प्रेरणा🦋
🦋 *आज की प्रेरणा🦋
तरुण सिंह पवार
ग़ज़ल- मशालें हाथ में लेकर ॲंधेरा ढूॅंढने निकले...
ग़ज़ल- मशालें हाथ में लेकर ॲंधेरा ढूॅंढने निकले...
अरविन्द राजपूत 'कल्प'
क़ब्र में किवाड़
क़ब्र में किवाड़
Shekhar Chandra Mitra
Loading...