Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 May 2023 · 1 min read

मुस्कान है

रूठी घर वाली आज ,करे नहीं कोई काज
कोई तो है बड़ा राज ,छीन ली मुस्कान है ।

मांगती हीरों का हार ,नहीं करे मुझे प्यार
दे उलाहने हजार ,भयभीत जान है ।

विचित्र सा रूप धरे , वो नाना ताण्डव करे
बाल-बच्चे सभी डरें ,ध्वस्त अब मान है ।

सुनो प्राण प्रिये ! कहा ,हाथ दोनों जोड़ रहा
प्यार का न घर गिरा , प्यार भगवान है

डा. सुनीता सिंह ‘सुधा’
©®

Language: Hindi
342 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शिव स्तुति महत्व
शिव स्तुति महत्व
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
■ आज की सीख...
■ आज की सीख...
*Author प्रणय प्रभात*
हनुमान वंदना । अंजनी सुत प्रभु, आप तो विशिष्ट हो।
हनुमान वंदना । अंजनी सुत प्रभु, आप तो विशिष्ट हो।
Kuldeep mishra (KD)
सुप्रभात
सुप्रभात
Seema Verma
"सहेज सको तो"
Dr. Kishan tandon kranti
काली हवा ( ये दिल्ली है मेरे यार...)
काली हवा ( ये दिल्ली है मेरे यार...)
Manju Singh
"मैं" के रंगों में रंगे होते हैं, आत्मा के ये परिधान।
Manisha Manjari
असफलता
असफलता
Neeraj Agarwal
***
*** " ओ मीत मेरे.....!!! " ***
VEDANTA PATEL
पहुँचाया है चाँद पर, सफ़ल हो गया यान
पहुँचाया है चाँद पर, सफ़ल हो गया यान
Dr Archana Gupta
अहंकार का एटम
अहंकार का एटम
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
At the end of the day, you have two choices in love – one is
At the end of the day, you have two choices in love – one is
पूर्वार्थ
सुन मेरे बच्चे
सुन मेरे बच्चे
Sangeeta Beniwal
कुण्डलिया
कुण्डलिया
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
मुझे छूकर मौत करीब से गुजरी है...
मुझे छूकर मौत करीब से गुजरी है...
राहुल रायकवार जज़्बाती
बदलाव
बदलाव
Shyam Sundar Subramanian
अपनी-अपनी विवशता
अपनी-अपनी विवशता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जनता का भरोसा
जनता का भरोसा
Shekhar Chandra Mitra
युवा अंगार
युवा अंगार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
प्यार का यह सिलसिला चलता रहे।
प्यार का यह सिलसिला चलता रहे।
surenderpal vaidya
बेटियां
बेटियां
Nanki Patre
ख्वाबों से निकल कर कहां जाओगे
ख्वाबों से निकल कर कहां जाओगे
VINOD CHAUHAN
तेरे बिछड़ने पर लिख रहा हूं ग़ज़ल की ये क़िताब,
तेरे बिछड़ने पर लिख रहा हूं ग़ज़ल की ये क़िताब,
Sahil Ahmad
आंखों में शर्म की
आंखों में शर्म की
Dr fauzia Naseem shad
विचार, संस्कार और रस [ तीन ]
विचार, संस्कार और रस [ तीन ]
कवि रमेशराज
*चलो टहलने चलें पार्क में, घर से सब नर-नारी【गीत】*
*चलो टहलने चलें पार्क में, घर से सब नर-नारी【गीत】*
Ravi Prakash
🙅🤦आसान नहीं होता
🙅🤦आसान नहीं होता
डॉ० रोहित कौशिक
विषय मेरा आदर्श शिक्षक
विषय मेरा आदर्श शिक्षक
कार्तिक नितिन शर्मा
"कष्ट"
नेताम आर सी
गरूर मंजिलों का जब खट्टा पड़ गया
गरूर मंजिलों का जब खट्टा पड़ गया
कवि दीपक बवेजा
Loading...