Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Sep 2022 · 1 min read

मुस्कान हुई मौन

गजोधर जी चले गए, मुस्कान हुई मौन
महावीर कविराय अब, तुझे हंसाये कौन

राजू जी क्यों अलविदा, कहे तुझे संसार
कॉमेडी के किंग तुम, खूब लुटाया प्यार

***

Language: Hindi
2 Likes · 194 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
View all
You may also like:
कलम , रंग और कूची
कलम , रंग और कूची
Dr. Kishan tandon kranti
वो पुराने सुहाने दिन....
वो पुराने सुहाने दिन....
Santosh Soni
"" *भारत* ""
सुनीलानंद महंत
*जाऍं यात्रा में कभी, रखें न्यूनतम पास (कुंडलिया)*
*जाऍं यात्रा में कभी, रखें न्यूनतम पास (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"ढाई अक्षर प्रेम के"
Ekta chitrangini
प्यासे को
प्यासे को
Santosh Shrivastava
-- ग़दर 2 --
-- ग़दर 2 --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
बेशर्मी के हौसले
बेशर्मी के हौसले
RAMESH SHARMA
"अगली राखी आऊंगा"
Lohit Tamta
फूलों से हँसना सीखें🌹
फूलों से हँसना सीखें🌹
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
चन्द्रशेखर आज़ाद...
चन्द्रशेखर आज़ाद...
Kavita Chouhan
"शिष्ट लेखनी "
DrLakshman Jha Parimal
शातिर हवा के ठिकाने बहुत!
शातिर हवा के ठिकाने बहुत!
Bodhisatva kastooriya
2122 1212 22/112
2122 1212 22/112
SZUBAIR KHAN KHAN
न मौत आती है ,न घुटता है दम
न मौत आती है ,न घुटता है दम
Shweta Soni
हिन्दी दिवस
हिन्दी दिवस
Ram Krishan Rastogi
माचिस
माचिस
जय लगन कुमार हैप्पी
क़त्ल कर गया तो क्या हुआ, इश्क़ ही तो है-
क़त्ल कर गया तो क्या हुआ, इश्क़ ही तो है-
Shreedhar
नेता सोये चैन से,
नेता सोये चैन से,
sushil sarna
स्तुति - दीपक नीलपदम्
स्तुति - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
23/26.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/26.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हर शक्स की नजरो से गिर गए जो इस कदर
हर शक्स की नजरो से गिर गए जो इस कदर
कृष्णकांत गुर्जर
* चलते रहो *
* चलते रहो *
surenderpal vaidya
स्त्री एक रूप अनेक हैँ
स्त्री एक रूप अनेक हैँ
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मैं भी कोई प्रीत करूँ....!
मैं भी कोई प्रीत करूँ....!
singh kunwar sarvendra vikram
हर सांस का कर्ज़ बस
हर सांस का कर्ज़ बस
Dr fauzia Naseem shad
तीन दशक पहले
तीन दशक पहले
*प्रणय प्रभात*
आजा रे अपने देश को
आजा रे अपने देश को
gurudeenverma198
अहसास
अहसास
Sangeeta Beniwal
श्री गणेश वंदना
श्री गणेश वंदना
Kumud Srivastava
Loading...