Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jan 2024 · 2 min read

मुझे गर्व है अलीगढ़ पर #रमेशराज

******************
अलीगढ़ जनपद पुरातन काल से ही सामाजिक, आर्थिक और सांस्कृतिक गतिविधियों का केंद्र रहा है। एक तरफ यहां पहुंचे हुए संतों ने अपनी खुशबू बिखेरी तो दूसरी तरफ रवींद्र जैन और हबीब पेंटर ( बुलबुले – हिंद) ने अपनी गायकी की वातावरण में मिठास में घोली।
अभिनय के अनूठे आयाम तय करने वालों में अलीगढ़ विश्वविद्यालय के अनेक सितारों ने अपनी कीर्ति पताका फहराई।
भारतीय स्वाधीनता संग्राम के ऐसे अनेक नाम है जिनके कारण हमें लोकतंत्र नसीब हुआ। लोककवियों ने गोरों की सरकार के विरुद्ध अपने शब्दों में अंगार भरकर कविताओं को तलवार बनाकर प्रस्तुत किया। अज्ञातवास में क्रांतिकारी भगतसिंह से मिलकर और उनसे प्रेरणा पाकर मेरे पिताश्री लोककवि रामचरन गुप्त ने भी अपने गीतों में अंगार भर लिए। उनके और खेमसिंह नागर जी के गीतों को मैंने बचपन में मंचों से खूब गाया। मेरे पिता के कहने पर बुलबुलेहिंद हबीब पेंटर ने मेरे गांव एसी में एक रात अपनी कव्वालियों से सारे गांववासियों को मंत्रमुग्ध कर दिया। इस प्रकार के सांस्कृतिक वातावरण की देन यह रही कि मैंने शहीद ऊधम सिंह नामक नाटक की रचना की और उधम सिंह का गांव की मंच पर रोल भी निभाया।
नगर की श्री महेश्वर इंटर कालेज को एकतरफ मेरे छोटे भाई अशोक कुमार गुप्ता ने टॉप किया तो मैंने किशोर कुमार की आवाज वाले फिल्मी गीत गाकर कई पुरस्कार प्राप्त किए।
श्री धर्मसमाज महाविद्यालय में जब प्रवेश लिया तो वहां डॉ अशोक शर्मा और डॉ वेदप्रकाश, अमिताभ, डॉ गोपाल बाबू शर्मा, ज्ञानेंद्र साज, निश्चल जी के साथ – साथ मेरे साहित्यिक गुरु पंडित सुरेशचंद्र पवन व रामगोपाल वार्ष्णेय के सानिध्य में मेरी साहित्यिक अभिरुचि और प्रगाढ़ होती चली गई। इस दौरान नगर तथा मुस्लिम विश्वविद्यालय के प्रमुख विद्वान डॉ शहरयार, काजी अब्दुल सत्तार,डॉ रवींद्र भ्रमर,के पी सिंह, डॉ नमिता सिंह, डॉ प्रेम कुमार, डॉ राजेंद्र गढ़वालिया, जनैंद्र कुमार, डॉ कुंदनलाल उप्रेती, डॉ राकेश गुप्त, सुरेंद्र सुकुमार, श्याम बेबस, सुरेश कुमार से। बहुत कुछ सीखने को मिला।
जब मैंने अपनी संपादित पुस्तक ” अभी जुबां कटी नहीं” का क्रांतिकारी मन्मथनाथ गुप्त से विमोचन कराया तो वे एक रात मेरी कुटिया पर क्रांतिकारी दादा ए के चक्रवर्ती व देवदत्त कलंकी के साथ रुके। उस रात को मैं अपने जीवन की अविस्मरणीय रात मानता हूं।
प्रमुख गजलकार मधुर नज्मी ने जब मुझे राष्ट्रीय एकीकरण परिषद की अलीगढ़ की साहित्यिक इकाई का अध्यक्ष मनोनीत किया तो मैंने अपने कविमित्र एडीएम वित्त मोहन स्वरूप, सुरेश त्रस्त, विजयपाल, गजेंद्र बेबस, डॉ रामगोपाल शर्मा, अशोक तिवारी, सुहैल अख्तर, इजहार नज्मी के सहयोग से अलीगढ़ औद्योगिक प्रदर्शनी में कौमी एकता एवम कविता पोस्टर प्रदर्शनी का आयोजन किया। कविता पोस्टर प्रदर्शनी की सराहना जिस व्यापक स्तर पर हुई वह आज भी अभिभूत किए है।
मेरी साहित्यिक साधना को ध्यान में रखते हुए डॉ राकेश गुप्त के पुत्र अभय गुप्त ने “साहित्यश्री” से नवाजा।
अलीगढ़ ने मुझे जो दिया, जितना दिया, उस पर मुझे गर्व का अनुभव होता है।

Language: Hindi
90 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जिंदगी
जिंदगी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कबीर: एक नाकाम पैगंबर
कबीर: एक नाकाम पैगंबर
Shekhar Chandra Mitra
मै भटकता ही रहा दश्त ए शनासाई में
मै भटकता ही रहा दश्त ए शनासाई में
Anis Shah
💐Prodigy Love-15💐
💐Prodigy Love-15💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बलिदान
बलिदान
लक्ष्मी सिंह
दुनिया की कोई दौलत
दुनिया की कोई दौलत
Dr fauzia Naseem shad
थर्मामीटर / मुसाफ़िर बैठा
थर्मामीटर / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
ए कुदरत के बंदे ,तू जितना तन को सुंदर रखे।
ए कुदरत के बंदे ,तू जितना तन को सुंदर रखे।
Shutisha Rajput
देश में क्या हो रहा है?
देश में क्या हो रहा है?
Acharya Rama Nand Mandal
भुलाया ना जा सकेगा ये प्रेम
भुलाया ना जा सकेगा ये प्रेम
The_dk_poetry
हालात बदलेंगे या नही ये तो बाद की बात है, उससे पहले कुछ अहम
हालात बदलेंगे या नही ये तो बाद की बात है, उससे पहले कुछ अहम
पूर्वार्थ
कौन सोचता बोलो तुम ही...
कौन सोचता बोलो तुम ही...
डॉ.सीमा अग्रवाल
वक़्त बुरा यूँ बीत रहा है / उर में विरहा गीत रहा है
वक़्त बुरा यूँ बीत रहा है / उर में विरहा गीत रहा है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*पछतावा*
*पछतावा*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"पता नहीं"
Dr. Kishan tandon kranti
हिंदी दिवस
हिंदी दिवस
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
'सवालात' ग़ज़ल
'सवालात' ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
असफलता का घोर अन्धकार,
असफलता का घोर अन्धकार,
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
मेरे दिल मे रहा जुबान पर आया नहीं....!
मेरे दिल मे रहा जुबान पर आया नहीं....!
Deepak Baweja
दिल की दहलीज़ पर जब कदम पड़े तेरे ।
दिल की दहलीज़ पर जब कदम पड़े तेरे ।
Phool gufran
India is my national
India is my national
Rajan Sharma
2476.पूर्णिका
2476.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मेरा मन उड़ चला पंख लगा के बादलों के
मेरा मन उड़ चला पंख लगा के बादलों के
shabina. Naaz
मन बड़ा घबराता है
मन बड़ा घबराता है
Harminder Kaur
बिल्ली मौसी (बाल कविता)
बिल्ली मौसी (बाल कविता)
नाथ सोनांचली
नारी पुरुष
नारी पुरुष
Neeraj Agarwal
*करते सौदा देश का, सत्ता से बस प्यार (कुंडलिया)*
*करते सौदा देश का, सत्ता से बस प्यार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
देखकर प्यारा सवेरा
देखकर प्यारा सवेरा
surenderpal vaidya
संगीत की धुन से अनुभव महसूस होता है कि हमारे विचार व ज्ञान क
संगीत की धुन से अनुभव महसूस होता है कि हमारे विचार व ज्ञान क
Shashi kala vyas
नफरतों के शहर में प्रीत लुटाते रहना।
नफरतों के शहर में प्रीत लुटाते रहना।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
Loading...