Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 May 2024 · 1 min read

मुझको जीने की सजा क्यूँ मिली है ऐ लोगों

मुझको जीने की सजा क्यूँ मिली है ऐ लोगों
मौत की क्यूँ ये मुझसे दुश्मनी है ऐ लोगों
एक उम्मीद से दरवाज़ों पे दस्तक़ दी थी
कोई खिड़की भी नहीं क्यूँ खुली है ऐ लोगों
कैसे मानूँ,, यक़ीन कैसे करूँ मैं इसका
सारे जज्बों से अलग दोस्ती है ऐ लोगों
देर तक पास मेरे रुक नहीं पाती है खुशी
मुझसे बेहतर ये मुझे जानती है ऐ लोगों
ये तो सच है कि आफ़ताब के उजाले बहोत
चाँद के पास अपनी दिलक़शी है ऐ लोगों
जिस मोहब्बत से मुझसे मिल रहा है शक़ है मुझे
किसी पर्दे में उसकी सादगी है ऐ लोगों

22 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shweta Soni
View all
You may also like:
दिव्यांग वीर सिपाही की व्यथा
दिव्यांग वीर सिपाही की व्यथा
लक्ष्मी सिंह
"बेमानी"
Dr. Kishan tandon kranti
तुम ही सौलह श्रृंगार मेरे हो.....
तुम ही सौलह श्रृंगार मेरे हो.....
Neelam Sharma
तमाम आरजूओं के बीच बस एक तुम्हारी तमन्ना,
तमाम आरजूओं के बीच बस एक तुम्हारी तमन्ना,
Shalini Mishra Tiwari
नेह ( प्रेम, प्रीति, ).
नेह ( प्रेम, प्रीति, ).
Sonam Puneet Dubey
लोग शोर करते रहे और मैं निस्तब्ध बस सांस लेता रहा,
लोग शोर करते रहे और मैं निस्तब्ध बस सांस लेता रहा,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
आखिर कब तक
आखिर कब तक
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
जिंदगी जब जब हमें
जिंदगी जब जब हमें
ruby kumari
क्यों दिल पे बोझ उठाकर चलते हो
क्यों दिल पे बोझ उठाकर चलते हो
VINOD CHAUHAN
रिटर्न गिफ्ट
रिटर्न गिफ्ट
विनोद सिल्ला
■ प्रभात चिंतन ...
■ प्रभात चिंतन ...
*Author प्रणय प्रभात*
कोई कितना
कोई कितना
Dr fauzia Naseem shad
जहां प्रगटे अवधपुरी श्रीराम
जहां प्रगटे अवधपुरी श्रीराम
Mohan Pandey
dr arun kumar shastri
dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गुरु ही वर्ण गुरु ही संवाद ?🙏🙏
गुरु ही वर्ण गुरु ही संवाद ?🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जी रहे हैं सब इस शहर में बेज़ार से
जी रहे हैं सब इस शहर में बेज़ार से
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
नारी अस्मिता
नारी अस्मिता
Shyam Sundar Subramanian
धड़कूँगा फिर तो पत्थर में भी शायद
धड़कूँगा फिर तो पत्थर में भी शायद
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
-- लगन --
-- लगन --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
दोजख से वास्ता है हर इक आदमी का
दोजख से वास्ता है हर इक आदमी का
सिद्धार्थ गोरखपुरी
2805. *पूर्णिका*
2805. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अंतरराष्ट्रीय श्रमिक दिवस
अंतरराष्ट्रीय श्रमिक दिवस
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
सारी उमर तराशा,पाला,पोसा जिसको..
सारी उमर तराशा,पाला,पोसा जिसको..
Shweta Soni
एक पत्नी अपने पति को तन मन धन बड़ी सहजता से सौंप देती है देत
एक पत्नी अपने पति को तन मन धन बड़ी सहजता से सौंप देती है देत
Annu Gurjar
फितरत
फितरत
kavita verma
जीवन
जीवन
Bodhisatva kastooriya
पैसा आपकी हैसियत बदल सकता है
पैसा आपकी हैसियत बदल सकता है
शेखर सिंह
Ab kya bataye ishq ki kahaniya aur muhabbat ke afsaane
Ab kya bataye ishq ki kahaniya aur muhabbat ke afsaane
गुप्तरत्न
*दादी ने गोदी में पाली (बाल कविता)*
*दादी ने गोदी में पाली (बाल कविता)*
Ravi Prakash
कुछ उत्तम विचार.............
कुछ उत्तम विचार.............
विमला महरिया मौज
Loading...