Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Jul 2018 · 1 min read

मुक्तक

“घूँघट/नकाब/हिज़ाब/पर्दा
************************

(1)गिराके शबनमी #घूँघट सुहानी रात करती हो।
चला खंज़र निगाहों से ग़जब आघात करती हो।
घनेरी ज़ुल्फ़ का साया घटा बन नूर पर छाया-
शराबे-हुस्न उल्फ़त में क़यामत मात करती हो।

(2)हुस्न का जलवा दिखा लाखों नज़ाकत ढल गईं।
शोखियाँ मदहोशियाँ ज़ालिम अदाएँ छल गईं।
#चिलमनें रुख से हटाकर आपने सजदा किया-
आफ़ताबे नूर से कितनी शमाएँ जल गईं।

(3)दिखाते बेरुखी #चिलमन गिराके बैठे हैं।
मिजाज़े बादलों सा रुख बनाके बैठे हैं।
कसूरे चाँद का क्या दाग़ मुख पे उसके है-
#नक़ाबे हुस्न में जलवा छिपाके बैठे हैं।

(4)ओढ़कर ज़ालिम #हिज़ाबों को सताते आप हो।
खोल के क़ातिल निगाहों से रिझाते आप हो।
आपने पलकों की चिलमन से हमें घायल किया-
रूठ रुख़ पे रुख़सते #पर्दा लगाते आप हो।

डॉ. रजनी अग्रवाल “वाग्देवी रत्ना”
वाराणसी(उ. प्र.)
संपादिका-साहित्य धरोहर ‎

Language: Hindi
Tag: गीत
201 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ. रजनी अग्रवाल 'वाग्देवी रत्ना'
View all
You may also like:
॥ संकटमोचन हनुमानाष्टक ॥
॥ संकटमोचन हनुमानाष्टक ॥
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
फूलों सी मुस्कुराती हुई शान हो आपकी।
फूलों सी मुस्कुराती हुई शान हो आपकी।
Phool gufran
ग़ज़ल _ शबनमी अश्क़ 💦💦
ग़ज़ल _ शबनमी अश्क़ 💦💦
Neelofar Khan
14) “जीवन में योग”
14) “जीवन में योग”
Sapna Arora
बड़ी अजब है प्रीत की,
बड़ी अजब है प्रीत की,
sushil sarna
#वंदन_अभिनंदन
#वंदन_अभिनंदन
*प्रणय प्रभात*
है सच्ची हुकूमत दिल की सियासत पर,
है सच्ची हुकूमत दिल की सियासत पर,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*विश्व योग दिवस : 21 जून (मुक्तक)*
*विश्व योग दिवस : 21 जून (मुक्तक)*
Ravi Prakash
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बहुत दिनों के बाद मिले हैं हम दोनों
बहुत दिनों के बाद मिले हैं हम दोनों
Shweta Soni
आज कल पढ़ा लिखा युवा क्यों मौन है,
आज कल पढ़ा लिखा युवा क्यों मौन है,
शेखर सिंह
3410⚘ *पूर्णिका* ⚘
3410⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
संवेदना
संवेदना
Neeraj Agarwal
सत्य वह है जो रचित है
सत्य वह है जो रचित है
रुचि शर्मा
तवाफ़-ए-तकदीर से भी ना जब हासिल हो कुछ,
तवाफ़-ए-तकदीर से भी ना जब हासिल हो कुछ,
Kalamkash
हर दफ़ा जब बात रिश्तों की आती है तो इतना समझ आ जाता है की ये
हर दफ़ा जब बात रिश्तों की आती है तो इतना समझ आ जाता है की ये
पूर्वार्थ
अपनी घड़ी उतार कर किसी को तोहफे ना देना...
अपनी घड़ी उतार कर किसी को तोहफे ना देना...
shabina. Naaz
तुम्हारा घर से चला जाना
तुम्हारा घर से चला जाना
Dheerja Sharma
सर्दी का उल्लास
सर्दी का उल्लास
Harish Chandra Pande
हिन्दी
हिन्दी
manjula chauhan
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
खिला तो है कमल ,
खिला तो है कमल ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
वो कौन थी जो बारिश में भींग रही थी
वो कौन थी जो बारिश में भींग रही थी
Sonam Puneet Dubey
वो छोटी सी खिड़की- अमूल्य रतन
वो छोटी सी खिड़की- अमूल्य रतन
Amulyaa Ratan
Bundeli doha-fadali
Bundeli doha-fadali
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"तुम कब तक मुझे चाहोगे"
Ajit Kumar "Karn"
फितरत अमिट जन एक गहना🌷🌷
फितरत अमिट जन एक गहना🌷🌷
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
National Symbols of India
National Symbols of India
VINOD CHAUHAN
12. *नारी- स्थिति*
12. *नारी- स्थिति*
Dr .Shweta sood 'Madhu'
बादल
बादल
लक्ष्मी सिंह
Loading...