Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Sep 2016 · 1 min read

मुक्तक

शीर्षक मुक्तक – किरण- ज्योति, प्रभा, रश्मि, दीप्ति, मरीचि।
“मुक्तक”

भारती धरा अलौकिक है न्यारी है
लालिमा भोर भाए किरण दुलारी है
ब्रम्ह्पूत्र सिंधु नर्मदा गंगा कावेरी
हिमालयी रश्मि प्रभा तिमिर ध्रुजारी है॥

महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

Language: Hindi
377 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
इस धरा पर अगर कोई चीज आपको रुचिकर नहीं लगता है,तो इसका सीधा
इस धरा पर अगर कोई चीज आपको रुचिकर नहीं लगता है,तो इसका सीधा
Paras Nath Jha
विनती
विनती
Saraswati Bajpai
जो
जो "अपने" का नहीं हुआ,
*प्रणय प्रभात*
अंतरिक्ष में आनन्द है
अंतरिक्ष में आनन्द है
Satish Srijan
शिमला, मनाली, न नैनीताल देता है
शिमला, मनाली, न नैनीताल देता है
Anil Mishra Prahari
सैनिक के संग पूत भी हूँ !
सैनिक के संग पूत भी हूँ !
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
"कलम के लड़ाई"
Dr. Kishan tandon kranti
धूल-मिट्टी
धूल-मिट्टी
Lovi Mishra
🌹 वधु बनके🌹
🌹 वधु बनके🌹
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
Tu wakt hai ya koi khab mera
Tu wakt hai ya koi khab mera
Sakshi Tripathi
तू जब भी साथ होती है तो मेरा ध्यान लगता है
तू जब भी साथ होती है तो मेरा ध्यान लगता है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
मेरी पहली चाहत था तू
मेरी पहली चाहत था तू
Dr Manju Saini
हम्मीर देव चौहान
हम्मीर देव चौहान
Ajay Shekhavat
निगाहों में छुपा लेंगे तू चेहरा तो दिखा जाना ।
निगाहों में छुपा लेंगे तू चेहरा तो दिखा जाना ।
Phool gufran
किन्नर-व्यथा ...
किन्नर-व्यथा ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
बिखरे सपनों की ताबूत पर, दो कील तुम्हारे और सही।
बिखरे सपनों की ताबूत पर, दो कील तुम्हारे और सही।
Manisha Manjari
कोई पूछे तो
कोई पूछे तो
Surinder blackpen
सवाल~
सवाल~
दिनेश एल० "जैहिंद"
मुझे किसी को रंग लगाने की जरूरत नहीं
मुझे किसी को रंग लगाने की जरूरत नहीं
Ranjeet kumar patre
संवेदना की बाती
संवेदना की बाती
Ritu Asooja
बेशक मां बाप हर ख़्वाहिश करते हैं
बेशक मां बाप हर ख़्वाहिश करते हैं
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
तेरी मुस्कान होती है
तेरी मुस्कान होती है
Namita Gupta
मेरे लिए
मेरे लिए
Shweta Soni
The wrong partner in your life will teach you that you can d
The wrong partner in your life will teach you that you can d
पूर्वार्थ
चांद पर उतरा
चांद पर उतरा
Dr fauzia Naseem shad
जब भर पाया ही नहीं, उनका खाली पेट ।
जब भर पाया ही नहीं, उनका खाली पेट ।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
वायदे के बाद भी
वायदे के बाद भी
Atul "Krishn"
कुदरत है बड़ी कारसाज
कुदरत है बड़ी कारसाज
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मैं नहीं तो कोई और सही
मैं नहीं तो कोई और सही
Shekhar Chandra Mitra
*तू ही  पूजा  तू ही खुदा*
*तू ही पूजा तू ही खुदा*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Loading...