Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Sep 29, 2016 · 1 min read

मुक्तक

शीर्षक मुक्तक – किरण- ज्योति, प्रभा, रश्मि, दीप्ति, मरीचि।
“मुक्तक”

भारती धरा अलौकिक है न्यारी है
लालिमा भोर भाए किरण दुलारी है
ब्रम्ह्पूत्र सिंधु नर्मदा गंगा कावेरी
हिमालयी रश्मि प्रभा तिमिर ध्रुजारी है॥

महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

172 Views
You may also like:
हर रोज योग करो
Krishan Singh
हालात
Surabhi bharati
✍️इँसा और परिंदे✍️
"अशांत" शेखर
जलवा ए अफ़रोज़।
Taj Mohammad
तुम जो मिल गई हो।
Taj Mohammad
सागर
Vikas Sharma'Shivaaya'
ऐ जिंदगी।
Taj Mohammad
टोकरी में छोकरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता की अभिलाषा
मनोज कर्ण
चलना ही पड़ेगा
Mahendra Narayan
समझना तुझे है अगर जिंदगी को।
सत्य कुमार प्रेमी
निगाह-ए-यास कि तन्हाइयाँ लिए चलिए
शिवांश सिंघानिया
नेताओं के घर भी बुलडोजर चल जाए
Dr. Kishan Karigar
सुरज दादा
Anamika Singh
माँ दुर्गे!
Anamika Singh
परिस्थिति
AMRESH KUMAR VERMA
प्रेम
Dr.sima
हमारा दिल।
Taj Mohammad
सोंच समझ....
Dr. Alpa H. Amin
जीने की चाहत है सीने में
Krishan Singh
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
प्यारा भारत
AMRESH KUMAR VERMA
सच्चाई का दर्पण.....
Dr. Alpa H. Amin
अति का अंत
AMRESH KUMAR VERMA
✍️जमाना नहीं रहा...✍️
"अशांत" शेखर
*योग-ज्ञान भारत की पूॅंजी (गीत)*
Ravi Prakash
उफ ! ये गर्मी, हाय ! गर्मी / (गर्मी का...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ग़ज़ल -
Mahendra Narayan
मैं तेरा बन जाऊं जिन्दगी।
Taj Mohammad
आखिरी कोशिश
AMRESH KUMAR VERMA
Loading...