Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jul 2016 · 1 min read

मुक्तक

जो चरागों से रौशन दुआरे रहे
वो हमारे नहीं वो तुम्हारे रहे
जिनके चहरे पे चहरों का था आवरण
वो ज़माने में अक्सर सितारे रहे

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
306 Views
You may also like:
【10】 ** खिलौने बच्चों का संसार **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
जुल्म मुझपे ना करो
gurudeenverma198
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
हर घर तिरंगा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
" तेल और बाती"
Dr Meenu Poonia
दिल की सुनाएं आप जऱा लौट आइए।
सत्य कुमार प्रेमी
बाल कविता
Ram Krishan Rastogi
सोचिएगा ज़रूर
Shekhar Chandra Mitra
✍️✍️जिंदगी✍️✍️
'अशांत' शेखर
भगवान हमारे पापा हैं
Lucky Rajesh
दो किनारे हैं दरिया के
VINOD KUMAR CHAUHAN
राजनेता
Aditya Prakash
चमत्कार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अनेकतामा एकता
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
बद्दुआ।
Taj Mohammad
मुखौटा
Anamika Singh
काम का बोझ
जगदीश लववंशी
कसक ...
Amod Kumar Srivastava
💐💐सेवा अर्थात् विलक्षणं सुखं💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
निःशब्दता हीं, जीवन का सार होता है।
Manisha Manjari
अपनी है, फिर भी पराई है बेटियां
Seema 'Tu hai na'
प्यार कर डालो
Dr. Sunita Singh
आओ और सराहा जाये
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
तीर तुक्के
सूर्यकांत द्विवेदी
याद भी तुमको हम
Dr fauzia Naseem shad
योग करो।
विजय कुमार 'विजय'
*** " विवशता की दहलीज पर , कुसुम कुमारी....!!! "...
VEDANTA PATEL
मजदूर- ए- औरत
AMRESH KUMAR VERMA
जुल्फ जब खुलकर बिखर गई
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
*रिश्वत की दौलत जब आती, अच्छी लगती है (हिंदी गजल/...
Ravi Prakash
Loading...