Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jul 2016 · 1 min read

मुक्तक

चिराग जल रहें हैं रोशनी की ख्वाहिश में
किसी को क्या पता है दर्द क्या नुमाइश में
हमें पता है इश्क का मुकाम क्या होगा
हमें तो आ रहा है लुत्फ आज़माईश में

Language: Hindi
334 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"टेंशन को टा-टा"
Dr. Kishan tandon kranti
स्टेटस
स्टेटस
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मन हो अगर उदास
मन हो अगर उदास
कवि दीपक बवेजा
जीयो
जीयो
Sanjay ' शून्य'
दूसरों को देते हैं ज्ञान
दूसरों को देते हैं ज्ञान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
नसीब में था अकेलापन,
नसीब में था अकेलापन,
Umender kumar
■ आई बात समझ में...?
■ आई बात समझ में...?
*Author प्रणय प्रभात*
जय श्री राम
जय श्री राम
आर.एस. 'प्रीतम'
सोचा ना था ऐसे भी जमाने होंगे
सोचा ना था ऐसे भी जमाने होंगे
Jitendra Chhonkar
तुम जोर थे
तुम जोर थे
Ranjana Verma
14) “जीवन में योग”
14) “जीवन में योग”
Sapna Arora
लीकछोड़ ग़ज़ल / मुसाफ़िर बैठा
लीकछोड़ ग़ज़ल / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
*** चंद्रयान-३ : चांद की सतह पर....! ***
*** चंद्रयान-३ : चांद की सतह पर....! ***
VEDANTA PATEL
तुमने देखा ही नहीं
तुमने देखा ही नहीं
Surinder blackpen
स्मृति ओहिना हियमे-- विद्यानन्द सिंह
स्मृति ओहिना हियमे-- विद्यानन्द सिंह
श्रीहर्ष आचार्य
इंसान अपनी ही आदतों का गुलाम है।
इंसान अपनी ही आदतों का गुलाम है।
Sangeeta Beniwal
*डंका बजता योग का, दुनिया हुई निहाल (कुंडलिया)*
*डंका बजता योग का, दुनिया हुई निहाल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
आवश्यक मतदान है
आवश्यक मतदान है
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
3178.*पूर्णिका*
3178.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
💐प्रेम कौतुक-427💐
💐प्रेम कौतुक-427💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बितियाँ मेरी सब बात सुण लेना।
बितियाँ मेरी सब बात सुण लेना।
Anil chobisa
तुम यूं मिलो की फासला ना रहे दरमियां
तुम यूं मिलो की फासला ना रहे दरमियां
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
भरी महफिल
भरी महफिल
Vandna thakur
अजीब सी चुभन है दिल में
अजीब सी चुभन है दिल में
हिमांशु Kulshrestha
अद्य हिन्दी को भला एक याम का ही मानकर क्यों?
अद्य हिन्दी को भला एक याम का ही मानकर क्यों?
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मित्रो जबतक बातें होंगी, जनमन में अभिमान की
मित्रो जबतक बातें होंगी, जनमन में अभिमान की
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
" सुन‌ सको तो सुनों "
Aarti sirsat
मानव के बस में नहीं, पतझड़  या  मधुमास ।
मानव के बस में नहीं, पतझड़ या मधुमास ।
sushil sarna
अपने घर में हूँ मैं बे मकां की तरह मेरी हालत है उर्दू ज़बां की की तरह
अपने घर में हूँ मैं बे मकां की तरह मेरी हालत है उर्दू ज़बां की की तरह
Sarfaraz Ahmed Aasee
చివరికి మిగిలింది శూన్యమే
చివరికి మిగిలింది శూన్యమే
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
Loading...