Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 24, 2016 · 1 min read

गाहे-बगाहे

अनुबंध में बंध कुछ चाहे कुछ अनचाहे
झेलने पड़ते वे सभी गाहे – बगाहे
पग-पग समझोते का ही है नाम ज़िन्दगी
मानव मन उसे दिल से चाहे या न चाहे।
^^^^^^शारदा मदरा^^^^^

182 Views
You may also like:
सुमंगल कामना
Dr.sima
जीवन दायिनी मां गंगा।
Taj Mohammad
✍️Be Positive...!✍️
"अशांत" शेखर
आस्माँ के परिंदे
VINOD KUMAR CHAUHAN
धरती माँ का करो सदा जतन......
Dr. Alpa H. Amin
पिता एक सूरज
डॉ. शिव लहरी
“ मेरे राम ”
DESH RAJ
जीवनदाता वृक्ष
AMRESH KUMAR VERMA
कला के बिना जीवन सुना ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
आह! 14 फरवरी को आई और 23 फरवरी को चली...
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
✍️🌺प्रेम की राह पर-46🌺✍️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दुर्योधन कब मिट पाया:भाग:35
AJAY AMITABH SUMAN
रोज हम इम्तिहां दे सकेंगे नहीं
Dr Archana Gupta
इश्क की तिशनगी है।
Taj Mohammad
जीवन की सौगात "पापा"
Dr. Alpa H. Amin
कबीरा...
Sapna K S
सागर ही क्यों
Shivkumar Bilagrami
गिरधर तुम आओ
शेख़ जाफ़र खान
खोकर के अपनो का विश्वास ।....(भाग - 3)
Buddha Prakash
कोई न अपना
AMRESH KUMAR VERMA
कवि
Vijaykumar Gundal
ख्वाब
Swami Ganganiya
बाबा की धूल
Dr. Arti 'Lokesh' Goel
स्पर्धा भरी हयात
AMRESH KUMAR VERMA
जिन्दगी
अनामिका सिंह
ज़ुबान से फिर गया नज़र के सामने
कुमार अविनाश केसर
पाकीज़ा इश्क़
VINOD KUMAR CHAUHAN
अनोखी सीख
DESH RAJ
जीने का नजरिया अंदर चाहिए।
Taj Mohammad
"कुछ तुम बदलो कुछ हम बदलें"
Ajit Kumar "Karn"
Loading...