Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 24, 2016 · 1 min read

पालनहार

मैं खड़ी यहां,तू छिपा कहाँ, ढूंढूं इत उत, पार करो नैया
पालनहार तारनहार कहाँ पतवार ओ जीवन के’ खवैया
कण कण में तुम कहाँ हुए ग़ुम वन पर्वत नदिया साँसों में तुम
इक बार दर्शन दो प्रभुवर चरण पखारूं औ लूँ मैं बलैयां।

137 Views
You may also like:
ज़ाफ़रानी
Anoop Sonsi
सच्चा रिश्ता
DESH RAJ
वक्त दर्पण दिखा दे तो अच्छा ही है।
Renuka Chauhan
होना सभी का हिसाब है।
Taj Mohammad
* साम वेदना *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
【1】*!* भेद न कर बेटा - बेटी मैं *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
तुम कहते हो।
Taj Mohammad
फरियाद
अनामिका सिंह
पितृ महिमा
मनोज कर्ण
* राहत *
Dr. Alpa H. Amin
दोहावली-रूप का दंभ
asha0963
💐प्रेम की राह पर-27💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हर ख्वाहिश।
Taj Mohammad
स्वर कोकिला
AMRESH KUMAR VERMA
सच्चाई का मार्ग
AMRESH KUMAR VERMA
"आज बहुत दिनों बाद"
Lohit Tamta
महका हम करेंगें।
Taj Mohammad
*भक्त प्रहलाद और नरसिंह भगवान के अवतार की कथा*
Ravi Prakash
आप कौन है
Sandeep Albela
मेरी इस बर्बादी में।
Taj Mohammad
जालिम कोरोना
Dr Meenu Poonia
पिता एक विश्वास - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
हैप्पी फादर्स डे (लघुकथा)
drpranavds
है पर्याप्त पिता का होना
अश्विनी कुमार
रात चांदनी का महताब लगता है।
Taj Mohammad
तप रहे हैं प्राण भी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
*आज बरसात है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
✍️हे शहीद भगतसिंग...!✍️
"अशांत" शेखर
कहने से
Rakesh Pathak Kathara
बुलंद सोच
Dr. Alpa H. Amin
Loading...