Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jun 2016 · 1 min read

पालनहार

मैं खड़ी यहां,तू छिपा कहाँ, ढूंढूं इत उत, पार करो नैया
पालनहार तारनहार कहाँ पतवार ओ जीवन के’ खवैया
कण कण में तुम कहाँ हुए ग़ुम वन पर्वत नदिया साँसों में तुम
इक बार दर्शन दो प्रभुवर चरण पखारूं औ लूँ मैं बलैयां।

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
195 Views
You may also like:
मुक्तक
पंकज कुमार कर्ण
कहीं कोई भगवान नहीं है//वियोगगीत
Shiva Awasthi
ज़रा सी देर में सूरज निकलने वाला है
Dr. Sunita Singh
हो तुम किसी मंदिर की पूजा सी
Rj Anand Prajapati
छठ गीत (भोजपुरी)
पाण्डेय चिदानन्द
" जय हो "
DrLakshman Jha Parimal
" महिलाओं वाला सावन "
Dr Meenu Poonia
बिल्ले राम
Kanchan Khanna
जिंदगी ये नहीं जिंदगी से वो थी
Abhishek Upadhyay
गरीबी और भूख:समाधान क्या है ?
Dr fauzia Naseem shad
यशोधरा की व्यथा....
kalyanitiwari19978
मेरी प्रिय कविताएँ
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मन का घाट
Rashmi Sanjay
मानव तू हाड़ मांस का।
Taj Mohammad
जातिवाद का ज़हर
Shekhar Chandra Mitra
गर्दिशे दौरा को गुजर जाने दे
shabina. Naaz
वक्त और दिन
DESH RAJ
*पत्नी: कुछ दोहे*
Ravi Prakash
हिकायत से लिखी अब तख्तियां अच्छी नहीं लगती।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
जब बेटा पिता पे सवाल उठाता हैं
Nitu Sah
जिस देश में शासक का चुनाव
gurudeenverma198
जिंदगी या मौत? आपको क्या चाहिए?
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
खूबसूरत है तेरा
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
✍️खुशी✍️
'अशांत' शेखर
मौला मेरे मौला
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सपनों का महल
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
पर्यावरण बचा लो,कर लो बृक्षों की निगरानी अब
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बिक रहा सब कुछ
Dr. Rajeev Jain
मंजिल
AMRESH KUMAR VERMA
मानव_शरीर_में_सप्तचक्रों_का_प्रभाव
Vikas Sharma'Shivaaya'
Loading...