Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 May 2016 · 1 min read

मुक्तक

मान सम्मान से नही डरता,
खतरा ए जान से नही डरता।
तैर के दरिया पार करता है,
इश्क़ तूफ़ान से नही डरता।

दीपशिखा-

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
247 Views
You may also like:
लड़के और लड़कियों मे भेद-भाव क्यों
Anamika Singh
*नाम गुलामी-भरे इंडिया ,का न नाम-निशान हो (मुक्तक)*
Ravi Prakash
क्षणिकायें-पर्यावरण चिंतन
राजेश 'ललित'
चमचागिरी
सूर्यकांत द्विवेदी
काम का बोझ
जगदीश लववंशी
RV Singh
Mohd Talib
"पिता और शौर्य"
Lohit Tamta
एक झलक
Er.Navaneet R Shandily
शुभ स्वतंत्रता दिवस मनाए
Pt. Brajesh Kumar Nayak
!! सुंदर वसंत !!
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
कुछ लम्हें ऐसे गुज़रे
Dr fauzia Naseem shad
कुनमुनी नींदे!!
Dr. Nisha Mathur
भीगे भीगे मौसम में
कवि दीपक बवेजा
बादल जब गरजे,साजन की याद आई होगी
Ram Krishan Rastogi
--फेस बुक की रील--
गायक और लेखक अजीत कुमार तलवार
दुख आधे तो पस्त
RAMESH SHARMA
बाबूजी
Kavita Chouhan
जिन्दगी में होता करार है।
Taj Mohammad
पापा की परी...
Sapna K S
बेटियाँ
Shailendra Aseem
सबेरा
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
✍️चाबी का एक खिलौना✍️
'अशांत' शेखर
🙏देवी चंद्रघंटा🙏
पंकज कुमार कर्ण
बेजुबान और कसाई
मनोज कर्ण
✍️कोई तो वजह दो ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
बे-इंतिहा मोहब्बत करते हैं तुमसे
VINOD KUMAR CHAUHAN
मधुशाला अभी बाकी है ।।
Prakash juyal 'मुकेश'
धर्मांधता
Shekhar Chandra Mitra
جانے کہاں وہ دن گئے فصل بہار کے
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
" रुढ़िवादिता की सोच"
Dr Meenu Poonia
Loading...