Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Aug 2023 · 1 min read

मुक्तक

मुक्तक
मैं विषधर हूँ संज्ञा तो है! प्रकृति के अनुकूल सही।
हे मानव! तुझसे अच्छा हूँ,अपनों के प्रतिकूल नही।।
जो विषधर से घातक होते, करते हैं बदनाम वही।
बहुत विषैले होते वह, जिनके विषधर नाम नही।।
©दुष्यन्त ‘बाबा’

314 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
'समय की सीख'
'समय की सीख'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
हमेशा सच बोलने का इक तरीका यह भी है कि
हमेशा सच बोलने का इक तरीका यह भी है कि
Aarti sirsat
23/05.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/05.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अधूरी सी ज़िंदगी   ....
अधूरी सी ज़िंदगी ....
sushil sarna
रिटायमेंट (शब्द चित्र)
रिटायमेंट (शब्द चित्र)
Suryakant Dwivedi
बचपन की अठखेलियाँ
बचपन की अठखेलियाँ
लक्ष्मी सिंह
#बह_रहा_पछुआ_प्रबल, #अब_मंद_पुरवाई!
#बह_रहा_पछुआ_प्रबल, #अब_मंद_पुरवाई!
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मन मस्तिष्क और तन को कुछ समय आराम देने के लिए उचित समय आ गया
मन मस्तिष्क और तन को कुछ समय आराम देने के लिए उचित समय आ गया
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
मन किसी ओर नहीं लगता है
मन किसी ओर नहीं लगता है
Shweta Soni
बिना कोई परिश्रम के, न किस्मत रंग लाती है।
बिना कोई परिश्रम के, न किस्मत रंग लाती है।
सत्य कुमार प्रेमी
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
कैसी लगी है होड़
कैसी लगी है होड़
Sûrëkhâ
अब बहुत हुआ बनवास छोड़कर घर आ जाओ बनवासी।
अब बहुत हुआ बनवास छोड़कर घर आ जाओ बनवासी।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
*अभी भी शुक्रिया साँसों का, चलता सिलसिला मालिक【मुक्तक 】*
*अभी भी शुक्रिया साँसों का, चलता सिलसिला मालिक【मुक्तक 】*
Ravi Prakash
अनुभूति
अनुभूति
Pratibha Pandey
जल संरक्षण
जल संरक्षण
Preeti Karn
दिल तसल्ली को
दिल तसल्ली को
Dr fauzia Naseem shad
गणपति अभिनंदन
गणपति अभिनंदन
Shyam Sundar Subramanian
*आस टूट गयी और दिल बिखर गया*
*आस टूट गयी और दिल बिखर गया*
sudhir kumar
बावन यही हैं वर्ण हमारे
बावन यही हैं वर्ण हमारे
Jatashankar Prajapati
अपनों में कभी कोई दूरी नहीं होती।
अपनों में कभी कोई दूरी नहीं होती।
लोकनाथ ताण्डेय ''मधुर''
यादों की सौगात
यादों की सौगात
RAKESH RAKESH
सत्ता में वापसी के बाद
सत्ता में वापसी के बाद
*Author प्रणय प्रभात*
"जीत की कीमत"
Dr. Kishan tandon kranti
उफ्फ्फ
उफ्फ्फ
Atul "Krishn"
बादलों को आज आने दीजिए।
बादलों को आज आने दीजिए।
surenderpal vaidya
मोबाइल फोन
मोबाइल फोन
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
चलो
चलो
हिमांशु Kulshrestha
जिंदगी सितार हो गयी
जिंदगी सितार हो गयी
Mamta Rani
Loading...