Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Aug 2023 · 1 min read

मुक्तक-

मुक्तक-
नहीं देता दिखाई है, धरा पर कर्ण- सा दानी।
नहीं गंगा सरीखा है,किसी नद में कहीं पानी।
करें तारीफ़ क्या इसकी,हमें है जान से प्यारा,
न हिंदुस्तान का कोई,कहीं जग में मिला सानी।।
डाॅ बिपिन पाण्डेय

1 Like · 245 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कुछ इस लिए भी आज वो मुझ पर बरस पड़ा
कुछ इस लिए भी आज वो मुझ पर बरस पड़ा
Aadarsh Dubey
*वो नीला सितारा* ( 14 of 25 )
*वो नीला सितारा* ( 14 of 25 )
Kshma Urmila
**मन में चली  हैँ शीत हवाएँ**
**मन में चली हैँ शीत हवाएँ**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
कल की चिंता छोड़कर....
कल की चिंता छोड़कर....
जगदीश लववंशी
सत्य यह भी
सत्य यह भी
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
अज़ाँ दिलों की मसाजिद में हो रही है 'अनीस'
अज़ाँ दिलों की मसाजिद में हो रही है 'अनीस'
Anis Shah
रूह बनकर उतरती है, रख लेता हूँ,
रूह बनकर उतरती है, रख लेता हूँ,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
यूं ही आत्मा उड़ जाएगी
यूं ही आत्मा उड़ जाएगी
Ravi Ghayal
घाटे का सौदा
घाटे का सौदा
विनोद सिल्ला
दुनियाभर में घट रही,
दुनियाभर में घट रही,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कैसे आंखों का
कैसे आंखों का
Dr fauzia Naseem shad
पेड़ पौधों के प्रति मेरा वैज्ञानिक समर्पण
पेड़ पौधों के प्रति मेरा वैज्ञानिक समर्पण
Ms.Ankit Halke jha
वैशाख का महीना
वैशाख का महीना
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
रेल दुर्घटना
रेल दुर्घटना
Shekhar Chandra Mitra
मैं और मेरा
मैं और मेरा
Pooja Singh
"किताबें"
Dr. Kishan tandon kranti
🌹 वधु बनके🌹
🌹 वधु बनके🌹
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
नैनों में प्रिय तुम बसे....
नैनों में प्रिय तुम बसे....
डॉ.सीमा अग्रवाल
शनि देव
शनि देव
Sidhartha Mishra
1-अश्म पर यह तेरा नाम मैंने लिखा2- अश्म पर मेरा यह नाम तुमने लिखा (दो गीत) राधिका उवाच एवं कृष्ण उवाच
1-अश्म पर यह तेरा नाम मैंने लिखा2- अश्म पर मेरा यह नाम तुमने लिखा (दो गीत) राधिका उवाच एवं कृष्ण उवाच
Pt. Brajesh Kumar Nayak
■ देसी ग़ज़ल...
■ देसी ग़ज़ल...
*Author प्रणय प्रभात*
शिव वंदना
शिव वंदना
ओंकार मिश्र
जो पहले ही कदमो में लडखडा जाये
जो पहले ही कदमो में लडखडा जाये
Swami Ganganiya
चुप
चुप
Ajay Mishra
भंडारे की पूड़ियाँ, देसी घी का स्वाद( हास्य कुंडलिया)
भंडारे की पूड़ियाँ, देसी घी का स्वाद( हास्य कुंडलिया)
Ravi Prakash
*अच्छी आदत रोज की*
*अच्छी आदत रोज की*
Dushyant Kumar
जल रहें हैं, जल पड़ेंगे और जल - जल   के जलेंगे
जल रहें हैं, जल पड़ेंगे और जल - जल के जलेंगे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
हुनर
हुनर
अखिलेश 'अखिल'
वतन के लिए
वतन के लिए
नूरफातिमा खातून नूरी
सुहाग रात
सुहाग रात
Ram Krishan Rastogi
Loading...