Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Mar 2023 · 1 min read

मुक्तक-

मुक्तक-
सुनाकर प्रीत की वंशी पिला दी भंग होली में।
जमाने का लगा बदला अचानक ढंग होली में।
बनाकर भेष सखियों-सा चला आया बना टोली,
शरारत कर गया कान्हा लगाकर रंग होली में।।
डाॅ.बिपिन पाण्डेय

1 Like · 231 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कभी कभी प्रतीक्षा
कभी कभी प्रतीक्षा
पूर्वार्थ
दूध वाले हड़ताल करते हैं।
दूध वाले हड़ताल करते हैं।
शेखर सिंह
जय जय राजस्थान
जय जय राजस्थान
Ravi Yadav
अनंत की ओर _ 1 of 25
अनंत की ओर _ 1 of 25
Kshma Urmila
मेरी भावों में डूबी ग़ज़ल आप हैं
मेरी भावों में डूबी ग़ज़ल आप हैं
Dr Archana Gupta
विद्यादायिनी माँ
विद्यादायिनी माँ
Mamta Rani
स्मृतियों का सफर (23)
स्मृतियों का सफर (23)
Seema gupta,Alwar
मन के घाव
मन के घाव
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
2654.पूर्णिका
2654.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
“दो अपना तुम साथ मुझे”
“दो अपना तुम साथ मुझे”
DrLakshman Jha Parimal
वतन से हम सभी इस वास्ते जीना व मरना है।
वतन से हम सभी इस वास्ते जीना व मरना है।
सत्य कुमार प्रेमी
इतनी ज़ुबाॅ को
इतनी ज़ुबाॅ को
Dr fauzia Naseem shad
परेशानियों से न घबराना
परेशानियों से न घबराना
Vandna Thakur
मैं अपना गाँव छोड़कर शहर आया हूँ
मैं अपना गाँव छोड़कर शहर आया हूँ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
I don't care for either person like or dislikes me
I don't care for either person like or dislikes me
Ankita Patel
सफल सारथी  अश्व की,
सफल सारथी अश्व की,
sushil sarna
■सीखने योग्य■
■सीखने योग्य■
*Author प्रणय प्रभात*
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Santosh Khanna (world record holder)
भटक ना जाना मेरे दोस्त
भटक ना जाना मेरे दोस्त
Mangilal 713
ओझल तारे हो रहे, अभी हो रही भोर।
ओझल तारे हो रहे, अभी हो रही भोर।
surenderpal vaidya
इंतज़ार एक दस्तक की, उस दरवाजे को थी रहती, चौखट पर जिसकी धूल, बरसों की थी जमी हुई।
इंतज़ार एक दस्तक की, उस दरवाजे को थी रहती, चौखट पर जिसकी धूल, बरसों की थी जमी हुई।
Manisha Manjari
मुझे लगा कि तुम्हारे लिए मैं विशेष हूं ,
मुझे लगा कि तुम्हारे लिए मैं विशेष हूं ,
Manju sagar
मानवता हमें बचाना है
मानवता हमें बचाना है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हाँ, मैं तुमसे ----------- मगर ---------
हाँ, मैं तुमसे ----------- मगर ---------
gurudeenverma198
मानव जीवन में जरूरी नहीं
मानव जीवन में जरूरी नहीं
Dr.Rashmi Mishra
राजनीति की नई चौधराहट में घोसी में सभी सिर्फ़ पिछड़ों की बात
राजनीति की नई चौधराहट में घोसी में सभी सिर्फ़ पिछड़ों की बात
Anand Kumar
आप और हम
आप और हम
Neeraj Agarwal
अखंड भारत कब तक?
अखंड भारत कब तक?
जय लगन कुमार हैप्पी
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
बेज़ार सफर (कविता)
बेज़ार सफर (कविता)
sandeep kumar Yadav
Loading...