Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jul 2021 · 1 min read

मुक्तक

मुक्तक

नींदक औषधि नीम सम, कड़वी है तासीर।
कमी हमारी देख वह, होता बड़ा अधीर।
करता भले आलोचना, देता हमको सीख-
अपनी कमियों के लिए , बने रहो गंभीर।२

निंदक जब नियरे रहे, अवगुण रहते दूर।
चलने को सदमार्ग पर, हम रहते मजबूर।
सदा बुराई ढूंँढ कर, सम्मुख लाता रोज-
ऐसे शुभचिंतक सखे, रखिए साथ जरूर।१

बिंदी, चूड़ी बिछिया,पायल, छीन गई मुस्कान।
जीवन में है घोर अंँधेरा, श्वेत हुआ परिधान।
देख सको तो आकर देखो, विधवा के हालात-
जबसे छोड़ गए तुम साजन, जग लगता वीरान।

सदा खुशियांँ नहीं रहती, सदा गम भी नहीं रहते।
जिगर पत्थर बना डाला, नयन अब नम नहीं रहते।
समय के साथ बदला है, जमाना भी अजी अब तो-
मुसीबत लाख आती हैं, निवारण कम नहीं रहते।

अंँधेरा है घना कुछ पल, उजाला खूब आएगा।
नजर यदि लक्ष्य पर होगी, विजय का गीत गाएगा।
घड़ी भर की मुसीबत है, खुशी का साल बाकी है-
अगर है हौसला कायम, मनुज तू जीत जाएगा।

(स्वरचित मौलिक)
#सन्तोष_कुमार_विश्वकर्मा_सूर्य’
तुर्कपट्टी, देवरिया, (उ.प्र.)
☎️7379598464

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 225 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कहाँ मिलेगी जिंदगी  ,
कहाँ मिलेगी जिंदगी ,
sushil sarna
पिछले पन्ने 8
पिछले पन्ने 8
Paras Nath Jha
......,,,,
......,,,,
शेखर सिंह
एक दिन मजदूरी को, देते हो खैरात।
एक दिन मजदूरी को, देते हो खैरात।
Manoj Mahato
नवरात्रि के आठवें दिन मां महागौरी की पूजा की जाती है और कन्य
नवरात्रि के आठवें दिन मां महागौरी की पूजा की जाती है और कन्य
Shashi kala vyas
परम सत्य
परम सत्य
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"प्यार का रोग"
Pushpraj Anant
अपने  में वो मस्त हैं ,दूसरों की परवाह नहीं ,मित्रता में रहक
अपने में वो मस्त हैं ,दूसरों की परवाह नहीं ,मित्रता में रहक
DrLakshman Jha Parimal
उम्मीद रखते हैं
उम्मीद रखते हैं
Dhriti Mishra
सावन का महीना
सावन का महीना
Mukesh Kumar Sonkar
मंदिर की नींव रखी, मुखिया अयोध्या धाम।
मंदिर की नींव रखी, मुखिया अयोध्या धाम।
विजय कुमार नामदेव
तू गीत ग़ज़ल उन्वान प्रिय।
तू गीत ग़ज़ल उन्वान प्रिय।
Neelam Sharma
विशेष दिन (महिला दिवस पर)
विशेष दिन (महिला दिवस पर)
Kanchan Khanna
शब्दों का गुल्लक
शब्दों का गुल्लक
Amit Pathak
इस तरह छोड़कर भला कैसे जाओगे।
इस तरह छोड़कर भला कैसे जाओगे।
Surinder blackpen
कभी महफ़िल कभी तन्हा कभी खुशियाँ कभी गम।
कभी महफ़िल कभी तन्हा कभी खुशियाँ कभी गम।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
*समय*
*समय*
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
शिमले दी राहें
शिमले दी राहें
Satish Srijan
मुझको उनसे क्या मतलब है
मुझको उनसे क्या मतलब है
gurudeenverma198
2895.*पूर्णिका*
2895.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चुरा लेना खुबसूरत लम्हें उम्र से,
चुरा लेना खुबसूरत लम्हें उम्र से,
Ranjeet kumar patre
*खरगोश (बाल कविता)*
*खरगोश (बाल कविता)*
Ravi Prakash
सत्यं शिवम सुंदरम!!
सत्यं शिवम सुंदरम!!
ओनिका सेतिया 'अनु '
हर मसाइल का हल
हर मसाइल का हल
Dr fauzia Naseem shad
"परवाज"
Dr. Kishan tandon kranti
दिव्य दृष्टि बाधित
दिव्य दृष्टि बाधित
Neeraj Agarwal
आभार
आभार
Sanjay ' शून्य'
धिक्कार है धिक्कार है ...
धिक्कार है धिक्कार है ...
आर एस आघात
मोहब्बत के लिए गुलकारियां दोनों तरफ से है। झगड़ने को मगर तैयारियां दोनों तरफ से। ❤️ नुमाइश के लिए अब गुफ्तगू होती है मिलने पर। मगर अंदर से तो बेजारियां दोनो तरफ से हैं। ❤️
मोहब्बत के लिए गुलकारियां दोनों तरफ से है। झगड़ने को मगर तैयारियां दोनों तरफ से। ❤️ नुमाइश के लिए अब गुफ्तगू होती है मिलने पर। मगर अंदर से तो बेजारियां दोनो तरफ से हैं। ❤️
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
नाम दोहराएंगे
नाम दोहराएंगे
Dr.Priya Soni Khare
Loading...