Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Feb 2017 · 1 min read

मुक्तक

थोड़ा होश है मुझे थोड़ी सी मदहोशी है!
मेरी तन्हाई में यादों की सरगोशी है!
शामों-सहर रुलाती हैं करवटें इरादों की,
रंग है ख्वाबों का मगर गम की खामोशी है!

#महादेव_की_कविताऐं'(26)

Language: Hindi
482 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
अंतिम एहसास
अंतिम एहसास
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अकेला
अकेला
Vansh Agarwal
मोहब्बत।
मोहब्बत।
Taj Mohammad
पूजा
पूजा
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
फूलों की महक से मदहोश जमाना है...
फूलों की महक से मदहोश जमाना है...
कवि दीपक बवेजा
दूसरों को खरी-खोटी सुनाने
दूसरों को खरी-खोटी सुनाने
Dr.Rashmi Mishra
चूड़ियाँ
चूड़ियाँ
लक्ष्मी सिंह
कहानी इश्क़ की
कहानी इश्क़ की
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बिहार एवं झारखण्ड के दलक कवियों में विगलित दलित व आदिवासी-चेतना / मुसाफ़िर बैठा
बिहार एवं झारखण्ड के दलक कवियों में विगलित दलित व आदिवासी-चेतना / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
मुस्कुराने लगे है
मुस्कुराने लगे है
Paras Mishra
“पहाड़ी झरना”
“पहाड़ी झरना”
Awadhesh Kumar Singh
जब निहत्था हुआ कर्ण
जब निहत्था हुआ कर्ण
Paras Nath Jha
जागता हूँ क्यों ऐसे मैं रातभर
जागता हूँ क्यों ऐसे मैं रातभर
gurudeenverma198
शहरों से निकल के देखो एहसास हमें फिर होगा !ताजगी सुंदर हवा क
शहरों से निकल के देखो एहसास हमें फिर होगा !ताजगी सुंदर हवा क
DrLakshman Jha Parimal
प्रणय निवेदन
प्रणय निवेदन
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
बात खो गई
बात खो गई
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
*थोड़ा गुस्सा तो चलेगा, किंतु अति अच्छी नहीं (मुक्तक)*
*थोड़ा गुस्सा तो चलेगा, किंतु अति अच्छी नहीं (मुक्तक)*
Ravi Prakash
*फितरत*
*फितरत*
Dushyant Kumar
झूठा फिरते बहुत हैं,बिन ढूंढे मिल जाय।
झूठा फिरते बहुत हैं,बिन ढूंढे मिल जाय।
Vijay kumar Pandey
शौक़ इनका भी
शौक़ इनका भी
Dr fauzia Naseem shad
तेवर
तेवर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सुधार आगे के लिए परिवेश
सुधार आगे के लिए परिवेश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कुंडलिया
कुंडलिया
sushil sarna
तेवरी आन्दोलन की साहित्यिक यात्रा *अनिल अनल
तेवरी आन्दोलन की साहित्यिक यात्रा *अनिल अनल
कवि रमेशराज
ज़िंदगी मेरी दर्द की सुनामी बनकर उभरी है
ज़िंदगी मेरी दर्द की सुनामी बनकर उभरी है
Bhupendra Rawat
dr arun kumar shastri
dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जीवन में सफलता पाने के लिए तीन गुरु जरूरी हैं:
जीवन में सफलता पाने के लिए तीन गुरु जरूरी हैं:
Sidhartha Mishra
"नव प्रवर्तन"
Dr. Kishan tandon kranti
मौसम बेईमान है – प्रेम रस
मौसम बेईमान है – प्रेम रस
Amit Pathak
Loading...