Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Feb 2017 · 1 min read

मुक्तक

तेरे दर्द को मैं ईनाम समझ लेता हूँ!
तेरे प्यार को मैं इल्जाम समझ लेता हूँ!
सब्र टूट जाता है जब कभी पैमानों का,
जिन्दगी को मयकशे-जाम समझ लेता हूँ!

#महादेव_की_कविताऐं'(25)

Language: Hindi
321 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*Nabi* के नवासे की सहादत पर
*Nabi* के नवासे की सहादत पर
Shakil Alam
* शक्ति है सत्य में *
* शक्ति है सत्य में *
surenderpal vaidya
तल्ख
तल्ख
shabina. Naaz
गुरु स्वयं नहि कियो बनि सकैछ ,
गुरु स्वयं नहि कियो बनि सकैछ ,
DrLakshman Jha Parimal
💐प्रेम कौतुक-214💐
💐प्रेम कौतुक-214💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
प्रिये
प्रिये
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"द्रौपदी का चीरहरण"
Ekta chitrangini
Bahut hui lukka chhipi ,
Bahut hui lukka chhipi ,
Sakshi Tripathi
#सृजनएजुकेशनट्रस्ट
#सृजनएजुकेशनट्रस्ट
Rashmi Ranjan
भले दिनों की बात
भले दिनों की बात
Sahil Ahmad
फटे रह गए मुंह दुनिया के, फटी रह गईं आंखें दंग।
फटे रह गए मुंह दुनिया के, फटी रह गईं आंखें दंग।
*Author प्रणय प्रभात*
सच तो फूल होते हैं।
सच तो फूल होते हैं।
Neeraj Agarwal
सर्दी में कोहरा गिरता है बरसात में पानी।
सर्दी में कोहरा गिरता है बरसात में पानी।
ख़ान इशरत परवेज़
वर्षा
वर्षा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
नानी की कहानी होती,
नानी की कहानी होती,
Satish Srijan
मुझे भी जीने दो (भ्रूण हत्या की कविता)
मुझे भी जीने दो (भ्रूण हत्या की कविता)
Dr. Kishan Karigar
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ : दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ : दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
योगी
योगी
Dr.Pratibha Prakash
तेरी तस्वीर को लफ़्ज़ों से संवारा मैंने ।
तेरी तस्वीर को लफ़्ज़ों से संवारा मैंने ।
Phool gufran
चांद कहां रहते हो तुम
चांद कहां रहते हो तुम
Surinder blackpen
मंजिल
मंजिल
Kanchan Khanna
सादगी मुझमें हैं,,,,
सादगी मुझमें हैं,,,,
पूर्वार्थ
जो संतुष्टि का दास बना, जीवन की संपूर्णता को पायेगा।
जो संतुष्टि का दास बना, जीवन की संपूर्णता को पायेगा।
Manisha Manjari
🥀 #गुरु_चरणों_की_धूल 🥀
🥀 #गुरु_चरणों_की_धूल 🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
ईज्जत
ईज्जत
Rituraj shivem verma
नारी शक्ति वंदन
नारी शक्ति वंदन
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
*जीवन में खुश रहने की वजह ढूँढना तो वाजिब बात लगती है पर खोद
*जीवन में खुश रहने की वजह ढूँढना तो वाजिब बात लगती है पर खोद
Seema Verma
रिश्तों की मर्यादा
रिश्तों की मर्यादा
Rajni kapoor
गुलाम
गुलाम
Punam Pande
"दीप जले"
Shashi kala vyas
Loading...