Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Mar 2019 · 1 min read

मुक्तक !

मेरा बचपन मेरे दामन को छोड़ती ही नही
जब भी छुड़ाती हूँ और जोर से लिपट जाती है !

**
हमें अपने घऱ-आंगन गए जमाने हो गए
माँ के हाँथ से खाना खाए और डांट पिए
बातें जो सुहाने थे अब वो पूराने हो गए !
**
फूलों का हँसना-रोना देखा है, तितलियों का रंग बदलना देखा है
अपने बचपन में माँ को ‘काली माँ’ होते और खुद को डरते देखा है !
**
।।सिद्धार्थ।।

Language: Hindi
2 Likes · 217 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नारी
नारी
Nitesh Shah
परिभाषा संसार की,
परिभाषा संसार की,
sushil sarna
रिश्तों की रिक्तता
रिश्तों की रिक्तता
पूर्वार्थ
ओ पथिक तू कहां चला ?
ओ पथिक तू कहां चला ?
Taj Mohammad
तेरे भीतर ही छिपा, खोया हुआ सकून
तेरे भीतर ही छिपा, खोया हुआ सकून
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हम भी देखेंगे ज़माने में सितम कितना है ।
हम भी देखेंगे ज़माने में सितम कितना है ।
Phool gufran
विभजन
विभजन
Bodhisatva kastooriya
2429.पूर्णिका
2429.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ये जो तुम कुछ कहते नहीं कमाल करते हो
ये जो तुम कुछ कहते नहीं कमाल करते हो
Ajay Mishra
* लोकार्पण *
* लोकार्पण *
surenderpal vaidya
दुःख, दर्द, द्वन्द्व, अपमान, अश्रु
दुःख, दर्द, द्वन्द्व, अपमान, अश्रु
Shweta Soni
सपना है आँखों में मगर नीद कही और है
सपना है आँखों में मगर नीद कही और है
Rituraj shivem verma
कोई दरिया से गहरा है
कोई दरिया से गहरा है
कवि दीपक बवेजा
वरदान
वरदान
पंकज कुमार कर्ण
भ्रष्ट नेताओं,भ्रष्टाचारी लोगों
भ्रष्ट नेताओं,भ्रष्टाचारी लोगों
Dr. Man Mohan Krishna
আজ চারপাশ টা কেমন নিরব হয়ে আছে
আজ চারপাশ টা কেমন নিরব হয়ে আছে
Sukoon
किसी आंख से आंसू टपके दिल को ये बर्दाश्त नहीं,
किसी आंख से आंसू टपके दिल को ये बर्दाश्त नहीं,
*प्रणय प्रभात*
जब कोई कहे आप लायक नहीं हो किसी के लिए
जब कोई कहे आप लायक नहीं हो किसी के लिए
Sonam Puneet Dubey
*चढ़ती मॉं की पीठ पर, बच्ची खेले खेल (कुंडलिया)*
*चढ़ती मॉं की पीठ पर, बच्ची खेले खेल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
श्री रामचरितमानस में कुछ स्थानों पर घटना एकदम से घटित हो जाती है ऐसे ही एक स्थान पर मैंने यह
श्री रामचरितमानस में कुछ स्थानों पर घटना एकदम से घटित हो जाती है ऐसे ही एक स्थान पर मैंने यह "reading between the lines" लिखा है
SHAILESH MOHAN
बहुत कुछ अरमान थे दिल में हमारे ।
बहुत कुछ अरमान थे दिल में हमारे ।
Rajesh vyas
अधूरा प्रयास
अधूरा प्रयास
Sûrëkhâ
आंख बंद करके जिसको देखना आ गया,
आंख बंद करके जिसको देखना आ गया,
Ashwini Jha
मेहबूब की शायरी: मोहब्बत
मेहबूब की शायरी: मोहब्बत
Rajesh Kumar Arjun
मैं इश्क़ की बातें ना भी करूं फ़िर भी वो इश्क़ ही समझती है
मैं इश्क़ की बातें ना भी करूं फ़िर भी वो इश्क़ ही समझती है
Nilesh Premyogi
दिया एक जलाए
दिया एक जलाए
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कुछ लोग
कुछ लोग
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
खुद पर ही
खुद पर ही
Dr fauzia Naseem shad
****शिव शंकर****
****शिव शंकर****
Kavita Chouhan
THE MUDGILS.
THE MUDGILS.
Dhriti Mishra
Loading...