Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2018 · 2 min read

मुक्तक भाग 1

मैं बाटती हूं रौशनी मेरा कोई ठिकाना नहीं है!
तेरे इस शहर में अब मेरा आना जाना नहीं है!
यूं तो मैं आज भी अंधेरों में महफूज़ रहती हूं!
इस सफ़र में कोई हमसफर दीवाना नहीं है!!
-सोनिका मिश्रा

किस्मत जहाँ हमें ले जाएगी, हम वही पर चले जाएंगे!
खुशबू बनकर बिखर जाएंगे, घर अपना वही बनाएंगे !
शीशो से नाज़ुक सीरत नहीं, हमारी कोई बगावत नहीं!
तुम्हारी खुशी के लिए, बनके सितारा चमक जाएंगे!!
-सोनिका मिश्रा

नन्हें नन्हें हाथों को, माँ तू चूमा करती थी!
रोनी सूरत देख मेरी, आँचल में भर लेती थी!
याद मुझे हर लम्हे हैं, साथ मेरे हर किस्से हैं!
गिर जाऊ धरा पर, मुझमें साहस भरती थी!!
– सोनिका मिश्रा

अपना एक अलग अंदाज़ होना चाहिए!
आसमां से भी बड़ा ताज होना चाहिए!
पहचान तो बहुतों की होती है दुनियां में!
मेरे अपनों को मुझपर नाज़ होना चाहिए!!
-सोनिका मिश्रा

दिल दुखाना हर मर्ज की दवा नहीं!
किसी को भूल जाना कोई वफ़ा नहीं!
फिर आज टूट कर, रूला सके मुझे !
मेरे मयखाने में ऐसा कोई नशा नहीं!!
-सोनिका मिश्रा

बहुत मुश्किल है रुक पाना, अब कलम चल पड़ी है
हर रोज दफन होते है जो, वो सच लिखने को अड़ी है
इंसानियत की आड़ में, जो घड़ियाली आँसू बहाते है
उनके भी राज सारे खोलने को, चौखट पे जा खड़ी है
-सोनिका मिश्रा

जाना कहाँ था कहाँ जा रहे है, लक्ष्य अब तक भ्रमित!
मुस्कान चेहरे पर हैं लिए, पर दिल है अभी तक द्रवित!
ढूँढती हूं कोई रोशनी उत्तर दे, कभी तो इन अंधेरो का!
काली राख से बिखरे हुए भी, हैं आज तक ज्वलित!!
-सोनिका मिश्रा

Language: Hindi
1 Like · 315 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
3153.*पूर्णिका*
3153.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
(20) सजर #
(20) सजर #
Kishore Nigam
*यह तो बात सही है सबको, जग से जाना होता है (हिंदी गजल)*
*यह तो बात सही है सबको, जग से जाना होता है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
मैंने फत्ते से कहा
मैंने फत्ते से कहा
Satish Srijan
चिन्ता और चिता मे अंतर
चिन्ता और चिता मे अंतर
Ram Krishan Rastogi
होली गीत
होली गीत
Kanchan Khanna
चलो अब बुद्ध धाम दिखाए ।
चलो अब बुद्ध धाम दिखाए ।
Buddha Prakash
जगत कंटक बिच भी अपनी वाह है |
जगत कंटक बिच भी अपनी वाह है |
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कुत्ते / MUSAFIR BAITHA
कुत्ते / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
मेरी बेटी है, मेरा वारिस।
मेरी बेटी है, मेरा वारिस।
लक्ष्मी सिंह
कविता: सपना
कविता: सपना
Rajesh Kumar Arjun
#शेर-
#शेर-
*प्रणय प्रभात*
*माँ शारदे वन्दना
*माँ शारदे वन्दना
संजय कुमार संजू
मिसाल रेशमा
मिसाल रेशमा
Dr. Kishan tandon kranti
कैसे यकीन करेगा कोई,
कैसे यकीन करेगा कोई,
Dr. Man Mohan Krishna
सच्चाई है कि ऐसे भी मंज़र मिले मुझे
सच्चाई है कि ऐसे भी मंज़र मिले मुझे
अंसार एटवी
जीवन में सही सलाहकार का होना बहुत जरूरी है
जीवन में सही सलाहकार का होना बहुत जरूरी है
Rekha khichi
पारख पूर्ण प्रणेता
पारख पूर्ण प्रणेता
प्रेमदास वसु सुरेखा
ज़माने पर भरोसा करने वालों, भरोसे का जमाना जा रहा है..
ज़माने पर भरोसा करने वालों, भरोसे का जमाना जा रहा है..
पूर्वार्थ
6) “जय श्री राम”
6) “जय श्री राम”
Sapna Arora
अभिव्यक्ति का दुरुपयोग एक बहुत ही गंभीर और चिंता का विषय है। भाग - 06 Desert Fellow Rakesh Yadav
अभिव्यक्ति का दुरुपयोग एक बहुत ही गंभीर और चिंता का विषय है। भाग - 06 Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
यादों के झरोखों से...
यादों के झरोखों से...
मनोज कर्ण
मैं तो महज वक्त हूँ
मैं तो महज वक्त हूँ
VINOD CHAUHAN
हिंदी भाषा हमारी आन बान शान...
हिंदी भाषा हमारी आन बान शान...
Harminder Kaur
मंगलमय हो नववर्ष सखे आ रहे अवध में रघुराई।
मंगलमय हो नववर्ष सखे आ रहे अवध में रघुराई।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
International Self Care Day
International Self Care Day
Tushar Jagawat
निहारा
निहारा
Dr. Mulla Adam Ali
मेरा केवि मेरा गर्व 🇳🇪 .
मेरा केवि मेरा गर्व 🇳🇪 .
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
स्त्री एक रूप अनेक हैँ
स्त्री एक रूप अनेक हैँ
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
उम्मींदें तेरी हमसे
उम्मींदें तेरी हमसे
Dr fauzia Naseem shad
Loading...