Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Oct 2016 · 1 min read

मुक्तक ::: बना रहे सम्बंध प्यारका::: जितेन्द्र कमल आनंद ( ११७)

मुक्तक
*******
बना रहे सम्बंध प्यार का शुभ दिन – राती ।
हम लिखते हैं स्नेहापूरित सबको पाती ।
बना रहे सहकार ,परस्पर हमसे – तुमसे ।
सबकी जाती ब्रह्म , कहो मत अपनी जाती ।।

श्रंगार छंद
**********
महकता सुमनों – सा हो प्यार ।
गूँजती मधुकर — सी गुंजार ।
अवनि का फूलों से श्रंगार ।
अतिथि का अनुदिन हो सत्कार ।।
—- जितेंद्रकमलआनंद

Language: Hindi
1 Comment · 236 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
■ परिहास
■ परिहास
*Author प्रणय प्रभात*
गीत
गीत
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
आह
आह
Pt. Brajesh Kumar Nayak
भारती-विश्व-भारती
भारती-विश्व-भारती
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
रातों की सियाही से रंगीन नहीं कर
रातों की सियाही से रंगीन नहीं कर
Shweta Soni
ग़़ज़ल
ग़़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
जब दादा जी घर आते थे
जब दादा जी घर आते थे
VINOD CHAUHAN
सुबह – सुबह की भीनी खुशबू
सुबह – सुबह की भीनी खुशबू
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
समझदार बेवकूफ़
समझदार बेवकूफ़
Shyam Sundar Subramanian
दीपावली
दीपावली
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
शिव-शक्ति लास्य
शिव-शक्ति लास्य
ऋचा पाठक पंत
सब कुछ दुनिया का दुनिया में,     जाना सबको छोड़।
सब कुछ दुनिया का दुनिया में, जाना सबको छोड़।
डॉ.सीमा अग्रवाल
HE destinated me to do nothing but to wait.
HE destinated me to do nothing but to wait.
Manisha Manjari
बुंदेली_दोहा बिषय- गरी (#शनारियल)
बुंदेली_दोहा बिषय- गरी (#शनारियल)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मन हो अगर उदास
मन हो अगर उदास
कवि दीपक बवेजा
बुद्ध पूर्णिमा के पावन पर्व पर आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं
बुद्ध पूर्णिमा के पावन पर्व पर आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं
डा गजैसिह कर्दम
ख़्वाब का
ख़्वाब का
Dr fauzia Naseem shad
💐प्रेम कौतुक-467💐
💐प्रेम कौतुक-467💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सर्दी
सर्दी
Dhriti Mishra
निकलते हो अब तो तुम
निकलते हो अब तो तुम
gurudeenverma198
वो जाने क्या कलाई पर कभी बांधा नहीं है।
वो जाने क्या कलाई पर कभी बांधा नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
कुछ अजीब सा चल रहा है ये वक़्त का सफ़र,
कुछ अजीब सा चल रहा है ये वक़्त का सफ़र,
Shivam Sharma
The OCD Psychologist
The OCD Psychologist
मोहित शर्मा ज़हन
गीत
गीत
Shiva Awasthi
*सेवानिवृत्ति*
*सेवानिवृत्ति*
पंकज कुमार कर्ण
ईश्वर अल्लाह गाड गुरु, अपने अपने राम
ईश्वर अल्लाह गाड गुरु, अपने अपने राम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
छल फरेब की बात, कभी भूले मत करना।
छल फरेब की बात, कभी भूले मत करना।
surenderpal vaidya
कमीजें
कमीजें
Madhavi Srivastava
भ्रांति पथ
भ्रांति पथ
नवीन जोशी 'नवल'
चाय का निमंत्रण
चाय का निमंत्रण
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...