Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2019 · 1 min read

मित्र

मद मादक मदमस्त सा,घुला साँस में इत्र।
मन मन्दिर महका गया, मोहक मनहर मित्र।।

कैनवास पर फैलते, रंग बिरंगे चित्र।
भाग्य कर्म की तूलिका, देती सच्चा मित्र।।

देतीं हैं ये जिन्दगी,पल खुशियों के चंद।
रहे दोस्त जब संग में, आ जाता आनंद।।
-लक्ष्मी सिंह
नई दिल्ली

Language: Hindi
2 Likes · 228 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
तन्हा ही खूबसूरत हूं मैं।
तन्हा ही खूबसूरत हूं मैं।
शक्ति राव मणि
मैं नहीं मधु का उपासक
मैं नहीं मधु का उपासक
नवीन जोशी 'नवल'
(मुक्तक) जऱ-जमीं धन किसी को तुम्हारा मिले।
(मुक्तक) जऱ-जमीं धन किसी को तुम्हारा मिले।
सत्य कुमार प्रेमी
*गम को यूं हलक में  पिया कर*
*गम को यूं हलक में पिया कर*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
नादान परिंदा
नादान परिंदा
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
भारत के वायु वीर
भारत के वायु वीर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
#डॉ अरुण कुमार शास्त्री
#डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दीप जगमगा रहे थे दिवाली के
दीप जगमगा रहे थे दिवाली के
VINOD CHAUHAN
वैसा न रहा
वैसा न रहा
Shriyansh Gupta
जो सबका हों जाए, वह हम नहीं
जो सबका हों जाए, वह हम नहीं
Chandra Kanta Shaw
रामबाण
रामबाण
Pratibha Pandey
"बेहतर है चुप रहें"
Dr. Kishan tandon kranti
अश'आर हैं तेरे।
अश'आर हैं तेरे।
Neelam Sharma
* हो जाओ तैयार *
* हो जाओ तैयार *
surenderpal vaidya
तन माटी का
तन माटी का
Neeraj Agarwal
जिंदगी की सांसे
जिंदगी की सांसे
Harminder Kaur
यदि चाहो मधुरस रिश्तों में
यदि चाहो मधुरस रिश्तों में
संजीव शुक्ल 'सचिन'
अंतिम सत्य
अंतिम सत्य
विजय कुमार अग्रवाल
तस्वीरें
तस्वीरें
Kanchan Khanna
#दोहा-
#दोहा-
*प्रणय प्रभात*
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हिदायत
हिदायत
Dr. Rajeev Jain
दिल में गहराइयां
दिल में गहराइयां
Dr fauzia Naseem shad
मुझको कुर्सी तक पहुंचा दे
मुझको कुर्सी तक पहुंचा दे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
एक तो गोरे-गोरे हाथ,
एक तो गोरे-गोरे हाथ,
SURYA PRAKASH SHARMA
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
कविता- घर घर आएंगे राम
कविता- घर घर आएंगे राम
Anand Sharma
राख देख  शमशान  में, मनवा  करे सवाल।
राख देख शमशान में, मनवा करे सवाल।
गुमनाम 'बाबा'
"माँ की छवि"
Ekta chitrangini
सुख की तलाश आंख- मिचौली का खेल है जब तुम उसे खोजते हो ,तो वह
सुख की तलाश आंख- मिचौली का खेल है जब तुम उसे खोजते हो ,तो वह
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
Loading...