Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Oct 2023 · 1 min read

मित्र

एक मित्र थे कृष्ण के
जिन्हे सुदामा जाना
अमर आज भी जानिए
इनका ये दोस्ताना।

मित्र मिले तो अस मिले
जैसे मिला था कर्ण
मित्र सुयोधन हेतु किया
जिसने मृत्यु वरण।

एक मित्र सुग्रीव था
दूजा हुआ विभीषण
मित्रता की नीव पर
दोनों भये कुलभूषण।

राज पाट को दूर कर
केवट गले लगाय
एक नया मानक बना
केवट मित्र बनाय।

पृथ्वीराज का एक मित्र
नाम चन्दबरदायी।
खूब लिया प्रतिशोध मित्र का
अपनी जान गवायी।

मित्र एक चेतक हुआ
बेशक था बैजुबान
राणा की खातिर सुनो
किया जान कुर्बान।

अजब निभाई दोस्ती
नीर दूध के संग
जल कर खुद पहले मरा
बचा दूध का अंश।

महिमा मित्रों की सुनो
बहुत है अपरम्पार
प्रतिघाती मित्रों से सुनो
निर्मेष रहो होशियार।

निर्मेष

68 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दशरथ मांझी होती हैं चीटियाँ
दशरथ मांझी होती हैं चीटियाँ
Dr MusafiR BaithA
दिल
दिल
Er. Sanjay Shrivastava
दो पल की जिन्दगी मिली ,
दो पल की जिन्दगी मिली ,
Nishant prakhar
याद करेगा कौन फिर, मर जाने के बाद
याद करेगा कौन फिर, मर जाने के बाद
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
समझदार तो मैं भी बहुत हूँ,
समझदार तो मैं भी बहुत हूँ,
डॉ. दीपक मेवाती
दूसरों के अधिकारों
दूसरों के अधिकारों
Dr.Rashmi Mishra
मंगलमय हो नववर्ष सखे आ रहे अवध में रघुराई।
मंगलमय हो नववर्ष सखे आ रहे अवध में रघुराई।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
गौरेया (ताटंक छन्द)
गौरेया (ताटंक छन्द)
नाथ सोनांचली
पुरुष_विशेष
पुरुष_विशेष
पूर्वार्थ
तुम अगर कविता बनो तो गीत मैं बन जाऊंगा।
तुम अगर कविता बनो तो गीत मैं बन जाऊंगा।
जगदीश शर्मा सहज
पुनर्जन्म का साथ
पुनर्जन्म का साथ
Seema gupta,Alwar
सरोकार
सरोकार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
*गीत*
*गीत*
Poonam gupta
शर्ट के टूटे बटन से लेकर
शर्ट के टूटे बटन से लेकर
Ranjeet kumar patre
हे दिल तू मत कर प्यार किसी से
हे दिल तू मत कर प्यार किसी से
gurudeenverma198
💐प्रेम कौतुक-471💐
💐प्रेम कौतुक-471💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
■ गाली का जवाब कविता-
■ गाली का जवाब कविता-
*Author प्रणय प्रभात*
हाथ की लकीरों में फ़क़ीरी लिखी है वो कहते थे हमें
हाथ की लकीरों में फ़क़ीरी लिखी है वो कहते थे हमें
VINOD CHAUHAN
आत्मरक्षा
आत्मरक्षा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
नारदीं भी हैं
नारदीं भी हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
यादों के झरोखों से...
यादों के झरोखों से...
मनोज कर्ण
क्रांतिकारी किसी देश के लिए वह उत्साहित स्तंभ रहे है जिनके ज
क्रांतिकारी किसी देश के लिए वह उत्साहित स्तंभ रहे है जिनके ज
Rj Anand Prajapati
रिवायत
रिवायत
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
"जाति"
Dr. Kishan tandon kranti
उसकी आंखों से छलकता प्यार
उसकी आंखों से छलकता प्यार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कुछ तो लॉयर हैं चंडुल
कुछ तो लॉयर हैं चंडुल
AJAY AMITABH SUMAN
मुसाफिर
मुसाफिर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
पुस्तक समीक्षा-सपनों का शहर
पुस्तक समीक्षा-सपनों का शहर
दुष्यन्त 'बाबा'
कभी हक़ किसी पर
कभी हक़ किसी पर
Dr fauzia Naseem shad
-- तभी तक याद करते हैं --
-- तभी तक याद करते हैं --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
Loading...