Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jan 2024 · 1 min read

*माॅं की चाहत*

बिटिया घर की रौनक है
बिटिया की चहक चिड़िया सी है
माॅं के लिए बिटियां मनमोहक है।

बिटिया को माॅं ने दे संस्कार
दोनों जहाॅं से छुपाया है
बेटी की तकदीर को माॅं ने
कितना सजाया सॅंवारा है।

फिर भी हर पल माॅं ने
घबराहट में गुजारा है
माॅं बोले बेटी से
बेटी मुझसी ना तुम रह जाना
खड़े होकर अपने कदमों पर
अपनी मंजिल तक पहुॅंच जाना ।

माॅं के लाड प्यार में बिटिया
कहाॅं इन शब्दों को समझ पाई है
कितनी चिंता भरी मन में माॅं के
कहाॅं वह पढ़ पाई है
लेकिन बिटिया का भाग्य
कहाॅं कोई माॅं बदल पाई है।

एक बिटिया की चाहत
हर एक माॅं ने चाही है
जब वह बिटिया माॅं बनकर आई है
माॅं ने फिर वही बात
अपनी बिटिया से दोहराई है
बिटिया से माॅं बनने पर
हर माॅं ने अपनी बिटिया की
सुरक्षा चाही है।

हरमिंदर कौर, अमरोहा (उत्तर प्रदेश)

2 Likes · 343 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जीवन का सम्बल
जीवन का सम्बल
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
"गुल्लक"
Dr. Kishan tandon kranti
बढ़ने वाला हर पत्ता आपको बताएगा
बढ़ने वाला हर पत्ता आपको बताएगा
शेखर सिंह
अगर ना मिले सुकून कहीं तो ढूंढ लेना खुद मे,
अगर ना मिले सुकून कहीं तो ढूंढ लेना खुद मे,
Ranjeet kumar patre
हिन्दी दोहा बिषय-ठसक
हिन्दी दोहा बिषय-ठसक
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
लोग जाम पीना सीखते हैं
लोग जाम पीना सीखते हैं
Satish Srijan
मंदिर का न्योता ठुकराकर हे भाई तुमने पाप किया।
मंदिर का न्योता ठुकराकर हे भाई तुमने पाप किया।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
तुम पढ़ो नहीं मेरी रचना  मैं गीत कोई लिख जाऊंगा !
तुम पढ़ो नहीं मेरी रचना मैं गीत कोई लिख जाऊंगा !
DrLakshman Jha Parimal
2346.पूर्णिका
2346.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
हर दफ़ा जब बात रिश्तों की आती है तो इतना समझ आ जाता है की ये
हर दफ़ा जब बात रिश्तों की आती है तो इतना समझ आ जाता है की ये
पूर्वार्थ
"झूठी है मुस्कान"
Pushpraj Anant
वेलेंटाइन डे एक व्यवसाय है जिस दिन होटल और बॉटल( शराब) नशा औ
वेलेंटाइन डे एक व्यवसाय है जिस दिन होटल और बॉटल( शराब) नशा औ
Rj Anand Prajapati
ये बता दे तू किधर जाएंगे।
ये बता दे तू किधर जाएंगे।
सत्य कुमार प्रेमी
गर्मी की मार
गर्मी की मार
Dr.Pratibha Prakash
चले आना मेरे पास
चले आना मेरे पास
gurudeenverma198
दिल पर दस्तक
दिल पर दस्तक
Surinder blackpen
*उठो,उठाओ आगे को बढ़ाओ*
*उठो,उठाओ आगे को बढ़ाओ*
Krishna Manshi
संसाधन का दोहन
संसाधन का दोहन
Buddha Prakash
मुझे फ़र्क नहीं दिखता, ख़ुदा और मोहब्बत में ।
मुझे फ़र्क नहीं दिखता, ख़ुदा और मोहब्बत में ।
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
_______ सुविचार ________
_______ सुविचार ________
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
रामचरितमानस दर्शन : एक पठनीय समीक्षात्मक पुस्तक
रामचरितमानस दर्शन : एक पठनीय समीक्षात्मक पुस्तक
श्रीकृष्ण शुक्ल
"आशा" की कुण्डलियाँ"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
*भरोसा हो तो*
*भरोसा हो तो*
नेताम आर सी
* जब लक्ष्य पर *
* जब लक्ष्य पर *
surenderpal vaidya
*जन्मदिवस (बाल कविता)*
*जन्मदिवस (बाल कविता)*
Ravi Prakash
कृष्ण दामोदरं
कृष्ण दामोदरं
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
■ आज की परिभाषा याद कर लें। प्रतियोगी परीक्षा में काम आएगी।
■ आज की परिभाषा याद कर लें। प्रतियोगी परीक्षा में काम आएगी।
*Author प्रणय प्रभात*
हरि हृदय को हरा करें,
हरि हृदय को हरा करें,
sushil sarna
ट्रेन का रोमांचित सफर........एक पहली यात्रा
ट्रेन का रोमांचित सफर........एक पहली यात्रा
Neeraj Agarwal
🙏🙏श्री गणेश वंदना🙏🙏
🙏🙏श्री गणेश वंदना🙏🙏
umesh mehra
Loading...