Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Sep 2019 · 1 min read

मातृत्व

मातृत्व
“देखो मालती, मैं तुम्हारी गरीबों की मदद करने की प्रवृति का विरोधी नहीं हूँ। उन्हें खाने-पीने, पहनने-ओढ़ने की चीजें देने, आर्थिक रूप से मदद करने तक तो ठीक है, पर ये कामवाली बाई के बच्चे को अपना दूध पिलाना… छी… छी… तुम ऐसा कैसे कर सकती हो ?”
“क्यों… इसमें बुरा क्या है? कामवाली बाई की तबीयत ठीक नहीं है। उसे आज बिलकुल दूध नहीं आ रहा है। उसकी चार महीने की बच्ची भूख से बालक रही थी, मैंने अपना दूध पिला दिया, तो कौन-सा पहाड़ टूट पड़ा। देखो, बच्ची कैसे चैन से सो रही है ।”
“पर… ”
“क्या पर, यदि हमारी बेटी के साथ भी ऐसा होता, तो क्या आप कामवाली को दूध पिलाने से मना कर देते। कुछ ही महीने पहले आपने मुझे फेसबुक पर आया एक फोटो दिखाया था, जिसमें नन्हे-से बंदर को एक कुतिया अपना दूध पिला रही थी, तब तो आप माँ की ममता और मातृत्व पर बड़ी-बड़ी बातें कर रहे थे और आज छी… छी… कर रहे हो। मत भूलो कि मैं आपकी पत्नी होने के साथ-साथ एक माँ भी हूँ।
वह अपनी पत्नी से नजर मिला कर बात करने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहा था।
डा. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

2 Likes · 612 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पेड़ पौधे (ताटंक छन्द)
पेड़ पौधे (ताटंक छन्द)
नाथ सोनांचली
*साम वेदना*
*साम वेदना*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
झुका के सर, खुदा की दर, तड़प के रो दिया मैने
झुका के सर, खुदा की दर, तड़प के रो दिया मैने
Kumar lalit
मासूमियत
मासूमियत
Surinder blackpen
देकर घाव मरहम लगाना जरूरी है क्या
देकर घाव मरहम लगाना जरूरी है क्या
Gouri tiwari
आओ लौट चले 2.0
आओ लौट चले 2.0
Dr. Mahesh Kumawat
ज़िंदगी में गीत खुशियों के ही गाना दोस्तो
ज़िंदगी में गीत खुशियों के ही गाना दोस्तो
Dr. Alpana Suhasini
दिल में दबे कुछ एहसास है....
दिल में दबे कुछ एहसास है....
Harminder Kaur
हर किसी में आम हो गयी है।
हर किसी में आम हो गयी है।
Taj Mohammad
हुनरमंद लोग तिरस्कृत क्यों
हुनरमंद लोग तिरस्कृत क्यों
Mahender Singh
मुस्कराते हुए गुजरी वो शामे।
मुस्कराते हुए गुजरी वो शामे।
कुमार
"दण्डकारण्य"
Dr. Kishan tandon kranti
ऐसा क्यूं है??
ऐसा क्यूं है??
Kanchan Alok Malu
गम के बगैर
गम के बगैर
Swami Ganganiya
और भी शौक है लेकिन, इश्क तुम नहीं करो
और भी शौक है लेकिन, इश्क तुम नहीं करो
gurudeenverma198
अक्सर मां-बाप
अक्सर मां-बाप
Indu Singh
अधूरा प्रेम
अधूरा प्रेम
Mangilal 713
मैं सत्य सनातन का साक्षी
मैं सत्य सनातन का साक्षी
Mohan Pandey
महोब्बत का खेल
महोब्बत का खेल
Anil chobisa
ससुराल से जब बेटी हंसते हुए अपने घर आती है,
ससुराल से जब बेटी हंसते हुए अपने घर आती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
23/84.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/84.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रमेशराज के हास्य बालगीत
रमेशराज के हास्य बालगीत
कवि रमेशराज
नमः शिवाय ।
नमः शिवाय ।
Anil Mishra Prahari
वीर पुत्र, तुम प्रियतम
वीर पुत्र, तुम प्रियतम
संजय कुमार संजू
समा गये हो तुम रूह में मेरी
समा गये हो तुम रूह में मेरी
Pramila sultan
#लघु_दास्तान
#लघु_दास्तान
*प्रणय प्रभात*
डा. अम्बेडकर बुद्ध से बड़े थे / पुस्तक परिचय
डा. अम्बेडकर बुद्ध से बड़े थे / पुस्तक परिचय
Dr MusafiR BaithA
जिंदगी की दास्तां,, ग़ज़ल
जिंदगी की दास्तां,, ग़ज़ल
Namita Gupta
हर मानव खाली हाथ ही यहाँ आता है,
हर मानव खाली हाथ ही यहाँ आता है,
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
"यायावरी" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
Loading...