Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Mar 2023 · 1 min read

माता रानी की भेंट

भोर भई अब जागो मेरी अम्बे, दर्शन करने आए हैं।
मंदिर के पट खोलो मेरी मैया, पूजन करने आए हैं।।
दयामई तुम हो विजयासन, दया सभी पर कर देना।
ममतामई हो तुम जगदम्बे, सबके काज बना देना।।
अरज सुनो हे माता शारदा, अर्जी लगाने आए हैं।
तेरे दर्शन से हे माता, बिगड़ी किस्मत बनती है।।
अपने चरणों की धूली से, कष्ट सभी के हरती है।
ऊंचा तेरा भवन भवानी, सिडियां चढ़कर आए हैं।।
मैं अज्ञानी तेरा माता अर्चन करना क्या जानूं।
ज्ञानी पंडित सेवक तेरे मैं पूजन करना क्या जानूं।।
श्रद्धा भाव से तुझको माता, भेंट चढ़ाने आए हैं।
मंदिर के पट खोलो मेरी अम्बे पूजन करने आए हैं।।

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 321 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गमों के साथ इस सफर में, मेरा जीना भी मुश्किल है
गमों के साथ इस सफर में, मेरा जीना भी मुश्किल है
Kumar lalit
"गिरना, हारना नहीं है"
Dr. Kishan tandon kranti
Kitna hasin ittefak tha ,
Kitna hasin ittefak tha ,
Sakshi Tripathi
जो ज़िम्मेदारियों से बंधे होते हैं
जो ज़िम्मेदारियों से बंधे होते हैं
Paras Nath Jha
मैं विवेक शून्य हूँ
मैं विवेक शून्य हूँ
संजय कुमार संजू
ढल गया सूरज बिना प्रस्तावना।
ढल गया सूरज बिना प्रस्तावना।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
क्षणिकाए - व्यंग्य
क्षणिकाए - व्यंग्य
Sandeep Pande
दबे पाँव
दबे पाँव
Davina Amar Thakral
मैं शब्दों का जुगाड़ हूं
मैं शब्दों का जुगाड़ हूं
भरत कुमार सोलंकी
प्रकृति
प्रकृति
Bodhisatva kastooriya
*अच्छी आदत रोज की*
*अच्छी आदत रोज की*
Dushyant Kumar
मां की याद आती है🧑‍💻
मां की याद आती है🧑‍💻
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हाथों से करके पर्दा निगाहों पर
हाथों से करके पर्दा निगाहों पर
gurudeenverma198
अभिव्यक्ति के प्रकार - भाग 03 Desert Fellow Rakesh Yadav
अभिव्यक्ति के प्रकार - भाग 03 Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
ओ मेरी सोलमेट जन्मों से - संदीप ठाकुर
ओ मेरी सोलमेट जन्मों से - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
ये उम्र के निशाँ नहीं दर्द की लकीरें हैं
ये उम्र के निशाँ नहीं दर्द की लकीरें हैं
Atul "Krishn"
सौभाग्य मिले
सौभाग्य मिले
Pratibha Pandey
24/247. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/247. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रिश्तों को नापेगा दुनिया का पैमाना
रिश्तों को नापेगा दुनिया का पैमाना
Anil chobisa
ऐ दोस्त जो भी आता है मेरे करीब,मेरे नसीब में,पता नहीं क्यों,
ऐ दोस्त जो भी आता है मेरे करीब,मेरे नसीब में,पता नहीं क्यों,
Dr. Man Mohan Krishna
#हमारे_सरोकार
#हमारे_सरोकार
*प्रणय प्रभात*
संसार में
संसार में
Brijpal Singh
अपने लक्ष्य की ओर उठाया हर कदम,
अपने लक्ष्य की ओर उठाया हर कदम,
Dhriti Mishra
दिल के सभी
दिल के सभी
Dr fauzia Naseem shad
इस जग में है प्रीत की,
इस जग में है प्रीत की,
sushil sarna
शरणागति
शरणागति
Dr. Upasana Pandey
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – गर्भ और जन्म – 04
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – गर्भ और जन्म – 04
Kirti Aphale
**कब से बंद पड़ी है गली दुकान की**
**कब से बंद पड़ी है गली दुकान की**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
गीत - इस विरह की वेदना का
गीत - इस विरह की वेदना का
Sukeshini Budhawne
लेकर तुम्हारी तस्वीर साथ चलता हूँ
लेकर तुम्हारी तस्वीर साथ चलता हूँ
VINOD CHAUHAN
Loading...