Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Nov 2023 · 1 min read

*माटी कहे कुम्हार से*

सोंधी सोंधी खुशबू से
माटी कैसे महक रही
दीपक बने को है तैयार
खुशी में देखो उछल रहीl

माटी बोले कुम्हार से
जल्दी-जल्दी मेरे दिए बनाओ
आने वाले हैं श्री राम हमारे
14 वर्ष के वनवास से।

सोंधी सोंधी खुशबू से
माटी कैसे महक रही.

जल्दी-जल्दी मुझे पकाओ
घर-घर मुझको जाना है
बच्चों के चंचल मन को
फिर से बहलाना है।

सोंधी सोंधी खुशबू से
माटी कैसे महक रही…

मैं तो कच्ची माटी हूँ
जैसे चाहे वैसे ढल जाऊँगी
संस्कारों से भर जाउंगी
चरण स्पर्श कर श्री राम के
मर्यादा पुरुषोत्तम की तरह
उच्च जीवन चाहूँगी।

सोंधी -सोंधी खुशबू से
माटी कैसे महक रही..

माटी मुस्काए और कहे
मेरे रूप अनेक
मैं गणेश मै कार्य सिद्धि विनायक
मैं विनाश की मूरत
मैं शिव मैं पार्वती दया की मूरत
धर मैं लक्ष्मी का रूप
सबको बांटू खजाना खूब।

सोंधी-सोंधी खुशबू से
माटी कैसे महक रही..

बन मुरलीधर सिखलाऊ
प्रेम की रीत
जिसने पूजा मुझको
उससे मेरा सांझा रिश्ता
मंदिर मस्जिद गुरुद्वारे
जो चाहे मेरी माटी से बना ले।

बनकर दिया मुझको जगमगाना है
भारत के अंधकार को दूर भगाना है
रोशनी बन बच्चों के
जीवन को जगमगाना है
आदिकाल से अब तक
मेरा जीवन सबको महकाता आया है।

सोंधी सोंधी खुशबू से
माटी कैसे महक रही…

हरमिंदर कौर अमरोहा (उत्तर प्रदेश)

2 Likes · 208 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
https://youtube.com/@pratibhaprkash?si=WX_l35pU19NGJ_TX
https://youtube.com/@pratibhaprkash?si=WX_l35pU19NGJ_TX
Dr.Pratibha Prakash
🌷🙏जय श्री राधे कृष्णा🙏🌷
🌷🙏जय श्री राधे कृष्णा🙏🌷
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
वतन हमारा है, गीत इसके गाते है।
वतन हमारा है, गीत इसके गाते है।
सत्य कुमार प्रेमी
*पर्यावरण दिवस * *
*पर्यावरण दिवस * *
Dr Mukesh 'Aseemit'
"आज के दौर में"
Dr. Kishan tandon kranti
तुम बहुत प्यारे हो
तुम बहुत प्यारे हो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
प्रेम करने आता है तो, प्रेम समझने आना भी चाहिए
प्रेम करने आता है तो, प्रेम समझने आना भी चाहिए
Anand Kumar
रुपया-पैसा~
रुपया-पैसा~
दिनेश एल० "जैहिंद"
किसान
किसान
Dp Gangwar
हिंदी का सम्मान
हिंदी का सम्मान
Arti Bhadauria
आप सुनो तो तान छेड़ दूं
आप सुनो तो तान छेड़ दूं
Suryakant Dwivedi
कविता
कविता
Bodhisatva kastooriya
चांदनी रात में बरसाने का नजारा हो,
चांदनी रात में बरसाने का नजारा हो,
Anamika Tiwari 'annpurna '
कभी वैरागी ज़हन, हर पड़ाव से विरक्त किया करती है।
कभी वैरागी ज़हन, हर पड़ाव से विरक्त किया करती है।
Manisha Manjari
23/53.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/53.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
**** फागुन के दिन आ गईल ****
**** फागुन के दिन आ गईल ****
Chunnu Lal Gupta
क्रोधावेग और प्रेमातिरेक पर सुभाषित / MUSAFIR BAITHA
क्रोधावेग और प्रेमातिरेक पर सुभाषित / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
#शेर
#शेर
*प्रणय प्रभात*
हाय अल्ला
हाय अल्ला
DR ARUN KUMAR SHASTRI
खूबसूरत जिंदगी में
खूबसूरत जिंदगी में
Harminder Kaur
*सभी को आजकल हँसना, सिखाने की जरूरत है (मुक्तक)*
*सभी को आजकल हँसना, सिखाने की जरूरत है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
तुम ही कहती हो न,
तुम ही कहती हो न,
पूर्वार्थ
हमको तेरा ख़्याल
हमको तेरा ख़्याल
Dr fauzia Naseem shad
वैसे जीवन के अगले पल की कोई गारन्टी नही है
वैसे जीवन के अगले पल की कोई गारन्टी नही है
शेखर सिंह
सफल हुए
सफल हुए
Koमल कुmari
अंदाज़-ऐ बयां
अंदाज़-ऐ बयां
अखिलेश 'अखिल'
तू जो कहती प्यार से मैं खुशी खुशी कर जाता
तू जो कहती प्यार से मैं खुशी खुशी कर जाता
Kumar lalit
"" *प्रताप* ""
सुनीलानंद महंत
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
जुदाई - चंद अशआर
जुदाई - चंद अशआर
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
Loading...