Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 May 2024 · 1 min read

मां

1.वाह रे जमाना तेरी हद हो गई,बीबी के आगे मां रद्द हो गई।
2.इतनी मेहनत से जिसने पाला आज वो मोहताज हो गई,कल की मिली लड़की तेरी सरताज हो गई।
3.बीबी के लिए बर्गर, पिज्जा और मां पानी के लिए रो रही सुनता नहीं कोई वह आवाज देती देती सो गई।
4.बीबी हमदर्द और मां सरदर्द हो गई।
🙏🙏🙏🙏 श्लोक मौर्य “उमंग”✍️✍️✍️✍️✍️

3 Likes · 2 Comments · 39 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरे जिंदगी के मालिक
मेरे जिंदगी के मालिक
Basant Bhagawan Roy
"न्यायालय"
Dr. Kishan tandon kranti
Canine Friends
Canine Friends
Dhriti Mishra
What Was in Me?
What Was in Me?
Bindesh kumar jha
तुम हो कौन ? समझ इसे
तुम हो कौन ? समझ इसे
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
राम है आये!
राम है आये!
Bodhisatva kastooriya
कौन कहता है ज़ज्बात के रंग होते नहीं
कौन कहता है ज़ज्बात के रंग होते नहीं
Shweta Soni
स्त्री:-
स्त्री:-
Vivek Mishra
रामलला
रामलला
Saraswati Bajpai
सवाल~
सवाल~
दिनेश एल० "जैहिंद"
बड़े अगर कोई बात कहें तो उसे
बड़े अगर कोई बात कहें तो उसे
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
दुनियाँ की भीड़ में।
दुनियाँ की भीड़ में।
Taj Mohammad
पुराना कुछ भूलने के लिए,
पुराना कुछ भूलने के लिए,
पूर्वार्थ
बिखरे खुद को, जब भी समेट कर रखा, खुद के ताबूत से हीं, खुद को गवां कर गए।
बिखरे खुद को, जब भी समेट कर रखा, खुद के ताबूत से हीं, खुद को गवां कर गए।
Manisha Manjari
छिपी रहती है दिल की गहराइयों में ख़्वाहिशें,
छिपी रहती है दिल की गहराइयों में ख़्वाहिशें,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
23/71.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/71.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
युवा हृदय सम्राट : स्वामी विवेकानंद
युवा हृदय सम्राट : स्वामी विवेकानंद
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*पुरखों की संपत्ति बेचकर, कब तक जश्न मनाओगे (हिंदी गजल)*
*पुरखों की संपत्ति बेचकर, कब तक जश्न मनाओगे (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
।।  अपनी ही कीमत।।
।। अपनी ही कीमत।।
Madhu Mundhra Mull
फूल
फूल
Pt. Brajesh Kumar Nayak
झुकता हूं.......
झुकता हूं.......
A🇨🇭maanush
हक़ीक़त ने
हक़ीक़त ने
Dr fauzia Naseem shad
#तेवरी
#तेवरी
*प्रणय प्रभात*
तारे दिन में भी चमकते है।
तारे दिन में भी चमकते है।
Rj Anand Prajapati
कभी-कभी
कभी-कभी
Sûrëkhâ
!! कोई आप सा !!
!! कोई आप सा !!
Chunnu Lal Gupta
पलटूराम में भी राम है
पलटूराम में भी राम है
Sanjay ' शून्य'
बावला
बावला
Ajay Mishra
कम आ रहे हो ख़़्वाबों में आजकल,
कम आ रहे हो ख़़्वाबों में आजकल,
Shreedhar
हिंदी दलित साहित्य में बिहार- झारखंड के कथाकारों की भूमिका// आनंद प्रवीण
हिंदी दलित साहित्य में बिहार- झारखंड के कथाकारों की भूमिका// आनंद प्रवीण
आनंद प्रवीण
Loading...