Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Mar 2023 · 1 min read

मां बाप के प्यार जैसा कहीं कुछ और नहीं,

मां बाप के प्यार जैसा कहीं कुछ और नहीं,
मुरशिद की दर के सिवा कहीं है ठौर नहीं ।
दिखावटी प्यार के पीछे भाग रहें अब तो लोग।
सच्ची मुहब्बत का आज कल है दौर नहीं।

सतीश शर्मा, लखनऊ,

1 Like · 423 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
" जलचर प्राणी "
Dr Meenu Poonia
एक लोग पूछ रहे थे दो हज़ार के अलावा पाँच सौ पर तो कुछ नहीं न
एक लोग पूछ रहे थे दो हज़ार के अलावा पाँच सौ पर तो कुछ नहीं न
Anand Kumar
राखी प्रेम का बंधन
राखी प्रेम का बंधन
रवि शंकर साह
बेटियां ज़ख्म सह नही पाती
बेटियां ज़ख्म सह नही पाती
Swara Kumari arya
हर गम छुपा लेते है।
हर गम छुपा लेते है।
Taj Mohammad
एक तरफा प्यार
एक तरफा प्यार
Neeraj Agarwal
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
गृहिणी (नील पदम् के दोहे)
गृहिणी (नील पदम् के दोहे)
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
2722.*पूर्णिका*
2722.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पहले नदियां थी , तालाब और पोखरें थी । हमें लगा पानी और पेड़
पहले नदियां थी , तालाब और पोखरें थी । हमें लगा पानी और पेड़
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
दोस्ती
दोस्ती
Mukesh Kumar Sonkar
** बहुत दूर **
** बहुत दूर **
surenderpal vaidya
सिलसिला रात का
सिलसिला रात का
Surinder blackpen
बेसबब हैं ऐशो इशरत के मकाँ
बेसबब हैं ऐशो इशरत के मकाँ
अरशद रसूल बदायूंनी
रोटी
रोटी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मुक्तक... छंद हंसगति
मुक्तक... छंद हंसगति
डॉ.सीमा अग्रवाल
उसी संघर्ष को रोजाना, हम सब दोहराते हैं (हिंदी गजल))
उसी संघर्ष को रोजाना, हम सब दोहराते हैं (हिंदी गजल))
Ravi Prakash
हरमन प्यारा : सतगुरु अर्जुन देव
हरमन प्यारा : सतगुरु अर्जुन देव
Satish Srijan
वार्तालाप
वार्तालाप
Pratibha Pandey
जिंदगी
जिंदगी
Adha Deshwal
असर हुआ इसरार का,
असर हुआ इसरार का,
sushil sarna
*हमारा संविधान*
*हमारा संविधान*
Dushyant Kumar
रुसवा हुए हम सदा उसकी गलियों में,
रुसवा हुए हम सदा उसकी गलियों में,
Vaishaligoel
अज़ल से इंतजार किसका है
अज़ल से इंतजार किसका है
Shweta Soni
आप से दर्दे जुबानी क्या कहें।
आप से दर्दे जुबानी क्या कहें।
सत्य कुमार प्रेमी
कुछ बहुएँ ससुराल में
कुछ बहुएँ ससुराल में
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
"आत्मा के अमृत"
Dr. Kishan tandon kranti
दूर तक आ गए मुश्किल लग रही है वापसी
दूर तक आ गए मुश्किल लग रही है वापसी
गुप्तरत्न
हॉस्पिटल मैनेजमेंट
हॉस्पिटल मैनेजमेंट
Dr. Pradeep Kumar Sharma
I want to tell them, they exist!!
I want to tell them, they exist!!
Rachana
Loading...