Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Mar 2023 · 1 min read

मां की शरण

मां के चरणों में आकर
मिलता है सुकून हमेशा
आता रहे बुलावा उसका
दर पर उसके जाऊंगा हमेशा

जो भी मांगा उससे मैंने
मिला उससे ज़्यादा हमेशा
अब क्या मांगू उससे मैं
मेरी झोली भरती है हमेशा

आता है जो भी शरण में
सबका दुख हर लेती है मां
जो भी जाए खाली हाथ
सबकी झोली भर लेती है मां

है ऊंची चोटी पर मंदिर उसका
फिर भी मुश्किल नहीं पहुंचना
हो मन में सच्ची श्रद्धा अगर
मुमकिन कर देगी तेरा पहुंचना

जा पाएगा तू दर पर तभी
जब उसका बुलावा होगा
लेकिन है व्यर्थ तेरा जाना वहां
मन में अगर छलावा होगा

तेरी भक्ति के अलावा
तुझसे कुछ नहीं चाहिए उसको
होगी तेरी प्राथना सच्ची तो
जन्म मरण के चक्र से तार देगी तुझको

क्या सोचता है अब भी तू
थाम ले तू भी दामन उसका
हो जा शामिल भक्तों की टोली में
तू लगाकर जयकारा उसका।

Language: Hindi
4 Likes · 1 Comment · 2529 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
View all
You may also like:
सुनी चेतना की नहीं,
सुनी चेतना की नहीं,
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
मेला झ्क आस दिलों का ✍️✍️
मेला झ्क आस दिलों का ✍️✍️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मा शारदा
मा शारदा
भरत कुमार सोलंकी
एक कथित रंग के चादर में लिपटे लोकतंत्र से जीवंत समाज की कल्प
एक कथित रंग के चादर में लिपटे लोकतंत्र से जीवंत समाज की कल्प
Anil Kumar
ना होगी खता ऐसी फिर
ना होगी खता ऐसी फिर
gurudeenverma198
थोड़ा Success हो जाने दो यारों...!!
थोड़ा Success हो जाने दो यारों...!!
Ravi Betulwala
दूर अब न रहो पास आया करो,
दूर अब न रहो पास आया करो,
Vindhya Prakash Mishra
प्रशंसा नहीं करते ना देते टिप्पणी जो ,
प्रशंसा नहीं करते ना देते टिप्पणी जो ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
ताटंक कुकुभ लावणी छंद और विधाएँ
ताटंक कुकुभ लावणी छंद और विधाएँ
Subhash Singhai
प्रकट भये दीन दयाला
प्रकट भये दीन दयाला
Bodhisatva kastooriya
एक जहाँ हम हैं
एक जहाँ हम हैं
Dr fauzia Naseem shad
कुंडलिया
कुंडलिया
गुमनाम 'बाबा'
असफलता का घोर अन्धकार,
असफलता का घोर अन्धकार,
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
सदा के लिए
सदा के लिए
Saraswati Bajpai
*कागज की नाव (बाल कविता)*
*कागज की नाव (बाल कविता)*
Ravi Prakash
हे ईश्वर
हे ईश्वर
Ashwani Kumar Jaiswal
■ नंगे नवाब, किले में घर।।😊
■ नंगे नवाब, किले में घर।।😊
*प्रणय प्रभात*
Exam Stress
Exam Stress
Tushar Jagawat
उम्र के हर एक पड़ाव की तस्वीर क़ैद कर लेना
उम्र के हर एक पड़ाव की तस्वीर क़ैद कर लेना
'अशांत' शेखर
2985.*पूर्णिका*
2985.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
यादों की सुनवाई होगी
यादों की सुनवाई होगी
Shweta Soni
*इश्क़ से इश्क़*
*इश्क़ से इश्क़*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
-आजकल मोहब्बत में गिरावट क्यों है ?-
-आजकल मोहब्बत में गिरावट क्यों है ?-
bharat gehlot
*हैं जिनके पास अपने*,
*हैं जिनके पास अपने*,
Rituraj shivem verma
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
अंदाज़े बयाँ
अंदाज़े बयाँ
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
फ़ेसबुक पर पिता दिवस / मुसाफ़िर बैठा
फ़ेसबुक पर पिता दिवस / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
"करिए ऐसे वार"
Dr. Kishan tandon kranti
बहारों कि बरखा
बहारों कि बरखा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
भ्रूणहत्या
भ्रूणहत्या
Neeraj Agarwal
Loading...