Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Feb 2023 · 1 min read

मां का आंचल(Happy mothers day)👨‍👩‍👧‍👧

“”मां का आंचल कहीं किसी स्वर्ग का मोहताज नहीं स्वर्ग का महत्व सिर्फ उसका आंचल है ,क्योंकि मां का आंचल बिशेष हिस्सा रखता है जो मा ही जानती है जब मां अपने आंचल को अपने बच्चों के सिर से उठा दे तो शायद उसके बिना जीवन जी पाना संभव नहीं होगा अगर माआपसे एक पल दूर होती है तो ऐसा लगता है जैसे कोई दिल से निकल रहा हो वह सिर्फ उसके चहेते बच्चे ही जानते हैं
“यूं कहें तो ;
मा ही मदर्ट्री होती है एक परिवार की जिसके बच्चे उस पेड़ की शाखाएं लड़के और कोमल पत्तियां होती है लड़कियां होती हैं ऐसा सिर्फ हम जानते हैं मानते भी हैं जिस समय मां अपने बच्चों का भरण पोषण कर रही होती है तो उस समय उनके बच्चे और उनकी मां का करुड़ ह्रदय वह दोनों मां और उसके बच्चे ही समझ सकते हैं क्योंकि मां की ममता मा ही जानती है उसका आदर उस गॉड से भी बड़ा है जिसका ए वर्ल्ड है ……..✍️
“एक मां aur uska baccha
Ankit halke jha
M.sc botany ⚘️🌾🌷
happy Mothers Day

1 Like · 224 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
**कविता: आम आदमी की कहानी**
**कविता: आम आदमी की कहानी**
Dr Mukesh 'Aseemit'
Happy Mother's Day ❤️
Happy Mother's Day ❤️
NiYa
कविता -
कविता - " रक्षाबंधन इसको कहता ज़माना है "
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
3026.*पूर्णिका*
3026.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गम खास होते हैं
गम खास होते हैं
ruby kumari
जीत कर तुमसे
जीत कर तुमसे
Dr fauzia Naseem shad
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
"मुश्किलों का आदी हो गया हूँ ll
पूर्वार्थ
जब आपके आस पास सच बोलने वाले न बचे हों, तो समझिए आस पास जो भ
जब आपके आस पास सच बोलने वाले न बचे हों, तो समझिए आस पास जो भ
Sanjay ' शून्य'
मेरी बातें दिल से न लगाया कर
मेरी बातें दिल से न लगाया कर
Manoj Mahato
*ये रिश्ते ,रिश्ते न रहे इम्तहान हो गए हैं*
*ये रिश्ते ,रिश्ते न रहे इम्तहान हो गए हैं*
Shashi kala vyas
महानिशां कि ममतामयी माँ
महानिशां कि ममतामयी माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मजबूत इरादे मुश्किल चुनौतियों से भी जीत जाते हैं।।
मजबूत इरादे मुश्किल चुनौतियों से भी जीत जाते हैं।।
Lokesh Sharma
Gazal
Gazal
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
■ आज का आखिरी शेर।
■ आज का आखिरी शेर।
*प्रणय प्रभात*
बगावत की बात
बगावत की बात
AJAY PRASAD
शीर्षक – मन मस्तिष्क का द्वंद
शीर्षक – मन मस्तिष्क का द्वंद
Sonam Puneet Dubey
*कुंडी पहले थी सदा, दरवाजों के साथ (कुंडलिया)*
*कुंडी पहले थी सदा, दरवाजों के साथ (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
काव्य का आस्वादन
काव्य का आस्वादन
कवि रमेशराज
जिंदगी के लिए वो क़िरदार हैं हम,
जिंदगी के लिए वो क़िरदार हैं हम,
Ashish shukla
ख्वाबों से परहेज़ है मेरा
ख्वाबों से परहेज़ है मेरा "वास्तविकता रूह को सुकून देती है"
Rahul Singh
बुंदेली दोहा - किरा (कीड़ा लगा हुआ खराब)
बुंदेली दोहा - किरा (कीड़ा लगा हुआ खराब)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
जो बीत गया उसकी ना तू फिक्र कर
जो बीत गया उसकी ना तू फिक्र कर
Harminder Kaur
रामचरितमानस दर्शन : एक पठनीय समीक्षात्मक पुस्तक
रामचरितमानस दर्शन : एक पठनीय समीक्षात्मक पुस्तक
श्रीकृष्ण शुक्ल
सरस्वती वंदना-4
सरस्वती वंदना-4
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
जिसे सपने में देखा था
जिसे सपने में देखा था
Sunny kumar kabira
एक दोहा...
एक दोहा...
डॉ.सीमा अग्रवाल
अच्छा लगता है
अच्छा लगता है
लक्ष्मी सिंह
#खुलीबात
#खुलीबात
DrLakshman Jha Parimal
संयम रख ऐ जिंदगी, बिखर सी गई हू |
संयम रख ऐ जिंदगी, बिखर सी गई हू |
Sakshi Singh
Loading...